सहकारी समितियों में धान बेचने जा रहे तो यह खबर आपके लिए जरूरी है

Satya Narayan Shukla

Publish: Dec, 08 2017 10:11:59 (IST)

Balod, Chhattisgarh, India
सहकारी समितियों में धान बेचने जा रहे तो यह खबर आपके लिए जरूरी है

अधिकारियों की मौजूदगी में एक दिन पहले तौले गए धान के कट्टों को फिर तौला गया, तो हर कट्टे में डेढ़ से दो किलो धान अधिक मिला।

बालोद/डौंडीलोहारा. लोहारा कृषि मंडी स्थित धान खरीदी केंद्र में तौलाई में भारी गड़बड़ी सामने आई है। शिकायत पर अधिकारियों की मौजूदगी में एक दिन पहले तौले गए धान के कट्टों को फिर तौला गया, तो हर कट्टे में डेढ़ से दो किलो धान अधिक मिला। यहां २२ दिनों में ७००० क्विंटल की खरीदी में किसानों को लाखों रुपए की चपत लगाई जा चुकी है। कलक्टर के निर्देश पर आरआई व पटवारी ने तौले कट्टे का पंचनाम बनाकर रिपोर्ट तैयार की।

बोरे में तौलकों ने 2 किलो धान ज्यादा तौला
यहां धान तौलते समय 40 किलो के एक कट्टे को जब दूसरे दिन फिर से तौला गया तो पाया गया कि किसी बोरे में तौलकों ने 2 किलो धान ज्यादा तौला है, तो किसी में ढाई किलोग्राम। इस प्रकार गड़बड़ी सामने आने पर जिम्मेदारों की लापरवाही कहें या सोसाइटी में बैठे जिम्मेदारों की साठगांठ कि किसानों को लाखों रुपए की राशि का नुकसान हुआ है।

मामले में कलक्टर से शिकायत
मामले में कलक्टर से शिकायत के बाद पटवारी केजू सिंह ठाकुर व राजश्व निरीक्षक गंगाधर राव धान खरीदी केंद्र पहुंचे और जांच के बाद पंचनामा तैयार किया। मामले की शिकायत के दौरान एसडीएम गुप्ता व तहसीलदार आरआर दुबे ग्राम झिटिया गए होने के कारण नहीं पहुंच पाए, उन्होंने धान खरीदी में गड़बड़ी की जांच करने आरआई राव व पटवारी को भेजा था।

20 रुपए प्रतिकिलो में हुआ बड़ा नुकसान
किसान राम मिलन शर्मा, मोहन राम, मनोहर साहू, रोमन लाल गोरे, ग्वाल सिंह ठाकुर, भोजराम साहू, सन्तानु साहू, बेदराम ठाकुर, रवि साहू, डिगेश कुमार सहित अन्य किसानों ने बताया एक किलो धान ज्यादा तौलने के हिसाब से 20 रुपए प्रति किलो के तहत हमें लाखों रुपए का नुकसान हुआ है। किसानों का कहना है एक ओर तो सरकार किसानों को बोनस वितरण की बात करती है, दूसरी ओर जिम्मेदारों की साठगांठ के चलते किसानों को आर्थिक नुकसान हो रहा है। किसानों का कहना है कि जितना भी धान खरीदा गया है उसकी फिर से तौलाई कराई जानी चाहिए। बताया केंद्र में पानी की व्यवस्था नीं होने से महिलाओं को अधिक परेशानी होती है। वहीं सुबह से किसानों के आने के बावजूद दोपहर 12 बजे खरीदी प्रारंभ की जाती है।

लंबे समय से सामने आ रही थी शिकायत
ज्ञात रहे कि लोहारा धान खऱीदी केंद्र में तौलकों द्वारा की जा रही लापरवाही से काम की शिकायत खरीदी की शुरूआत से मिलने लगी थी। मामले की पड़ताल के दौरान हमारी टीम ने जब बुधवार को खरीदे गए धान को फिर से तौलाई कराई, तो मामले का खुलासा हुआ। नियम अनुसार एक कट्टे में 40 किलो धान तौला जाना है, वहीं बारदाने का भार 6 70 ग्राम होना है, परंतु खरीदे गए धान के कट्टों की जब फिर से तौलाई कराई गई, तो किसी में 2 किलो, तो किसी में 3 किलो धान ज्यादा निकला।

3 तौलक में दो की तौलाई सही पाई गई : ठेकेदार
प्राप्त जानकारी के अनुसार जिस ठेकेदार को खरीदी केंद्र में ईमानदारी पूर्ण धान खरीदी करवाने का ठेका दिया गया है उसके डौंडीलोहारा सेवा सहकारी समिति के अध्यक्ष खिलावन साहू का संबंधी होने की बात कही जा रही है। मामले में ठेकेदार का कहना है धान तौलने के लिए 3 तौलकों को केंद्र में रखा गया है जिसमें से एक तौलक ने धान तौलने में लापरवाही बरती है। वहीं दो अन्य द्वारा तौला गया धान सही पाया गया है। किसानों का कहना है मामले में मिलीभगत कर स्थानीय राइस मिलर को लाभ पहुंचाने अन्य गड़बड़ी की जा रही है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned