अहंकारी रावण का पुतला देखते ही देखते धू-धू कर जल गया

अहंकारी रावण का पुतला देखते ही देखते धू-धू कर जल गया
अहंकारी रावण का पुतला देखते ही देखते धू-धू कर जल गया

Chandra Kishor Deshmukh | Updated: 09 Oct 2019, 10:30:33 PM (IST) Balod, Balod, Chhattisgarh, India

बालोद नगर के सरदार पटेल मैदान में सार्वजनिक राज दशहरा उत्सव समिति द्वारा तगड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच दशहरा उत्सव मनाया गया। भगवान श्रीराम और रावण संवाद के बाद रात 10 बजे 35 फीट रावण के पुतले का दहन किया गया।

बालोद@ patrika. नगर के सरदार पटेल मैदान में सार्वजनिक राज दशहरा उत्सव समिति द्वारा तगड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच दशहरा उत्सव मनाया गया। भगवान श्रीराम और रावण संवाद के बाद रात 10 बजे 35 फीट रावण के पुतले का दहन किया गया।

ट्रक में सवार होकर पहुंचा रावण का दल
जानकारी के मुताबिक नगर के मोखला मांझी मंदिर के पास स्थित धर्मशाला में राम रावण हनुमान व जटायु के पात्र तैयार हुए और राम का दल ट्रक में सवार होकर दूसरे मार्ग से और रावण का दल भी ट्रक में सवार होकर अन्य रास्ते से आया। सरदार पटेल मैदान में जैसे ही पहुंचे सभी ने भगवान श्रीरामचंद्र के जयकारे व लंकापति रावण के जयघोष से अभिनंदन किया। भगवान श्रीराम और लंकापति रावण के बीच पहले संवाद में युद्ध हुआ। उसके बाद एक-दूसरे पर बाणों से प्रहार किया गया। अंतत: रावण श्रीराम के बाणों से जमीन पर धराशायी हो गया।

अखाड़ा व आतिशबाजी रहा आकर्षण का केंद्र
आयोजन समिति द्वारा सरदार पटेल मैदान में रंगारंग आतिशबाजी की गई। आकर्षक व रंगबिरंगे पटाखों से पूरा मैदान रौशन हो रहा था। नगर के जय बजरंग अखाडा दल न हैरतअंगेज करतब दिखाया। लगभग एक घंटे के अखाड़े और व्यायाम प्रदर्शन को देख लोगों ने देखा।

राम रावण संवाद के बाद पुतला दहन
सैकड़ों लोगों की उपस्थिति में सबसे पहले भगवान श्रीराम और लंकापति रावण का संवाद हुआ। फिर दोनों दलों के बीच युद्ध हुआ। युद्ध के बाद भगवान श्रीराम ने धनुषबाण से रावण के पुतले का दहन किया। बुराई पर अच्छाई की जीत की खुशियां मनाई गई। लोगों ने एक-दूसरे को सोनपत्ती भेंटकर पर्वकी शुभकामनाएं दी। रात में रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम का आनंद लोगों ने उठाया।

अहंकारी रावण का पुतला देखते ही देखते धू-धू कर जल गया
IMAGE CREDIT: balod patrika

लौहनगरी राजहरा में तीन स्थानों पर जला अहंकारी रावण का पुतला
बालोद/दल्लीराजहरा @ patrika . नगर में तीन स्थानों पर विजयादशमी का पर्व धूमधाम से मनाया गया। मंगलवार को सार्वजनिक दशहरा उत्सव समिति द्वारा पंडित जवाहरलाल नेहरू फुटबाल स्टेडियम मेें आयोजन किया गया। श्रमिक दुर्गा एवं दशहरा उत्सव समिति द्वारा कैंप एक मैदान एवं सार्वजनिक दुर्गा एवं दशहरा उत्सव समिति गांधी चौक द्वारा बुधवार को घोड़ा मंदिर मैदान में रंगीन आतिशबाजी के साथ रावण के पुतले का दहन किया गया। इस दौरान दशहरा उत्सव स्थलों पर हजारों की संख्या में लोगों की भीड़ जुटी रही।

माइंस जीएम के मुख्य आतिथ्य में जला रावण का पुतला
मंगलवार को सार्वजनिक दशहरा उत्सव समिति द्वारा नगर के पंडित जवाहरलाल नेहरू फुटबाल स्टेडियम में दशहरा उत्सव का आयोजन किया गया। जहां समूचे नगर के अलावा आसपास गांव के लोगों की भीड़ जुटी थी। मुख्य अतिथि महाप्रबंधक तपन सूत्रधार, विशेष अतिथि पालिका अध्यक्ष कांशीराम निषाद, तहसीलदार प्रतिमा ठाकरे, थाना प्रभारी कुमार गौरव साहू व बीना निषाद थे। अध्यक्षता राजहरा महिला समाज अध्यक्ष मैथली सूत्रधार ने की। अतिथियों द्वारा भगवान श्रीराम की पूजा अर्चना व दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। अतिथियों ने नगरवासियों को विजयादशमी की शुभकामनाएं दी। जिसके बाद आयोजन समिति द्वारा राम एवं रावण दल की झांकी निकाली गई और राम रावण के बीच संवाद तथा युद्ध का प्रदर्शन हुआ।

आसमान में रंगीन आतिशबाजी की छटा बिखेरी
इसके साथ ही आसमान में रंगीन आतिशबाजी की छटा बिखेरी गई और अधर्म व अहंकार के प्रतीक लगभग 40 फीट उंचे रावण के पुतले का दहन कर अधर्म पर धर्म की जीत का संदेश दिया गया। इससे पूर्व राजहरा म्युकिल आर्केस्ट्रा के कलाकारों द्वारा सदाबहार फिल्मी गीतों व धार्मिक गीतों के माध्यम से दर्शकों का मनोरंजन किया।

अहंकारी रावण का पुतला देखते ही देखते धू-धू कर जल गया
balod patrika IMAGE CREDIT:

श्रमिक दुर्गा एवं दशहरा उत्सव समिति आयोजन का यह 44 वां वर्ष
आयोजन के 44 वेंं वर्ष मेंं श्रमिक दुर्गा एवं दशहरा उत्सव समिति द्वारा कैंप एक मैदान में समितिराम एवं रावण की सेना भ्रमण के बाद राम रावण युद्ध के बीच संवाद का मंचन कर लोगों का ध्यान आकर्षित किया गया। जिसके बाद क्रमश: आसमान में रंगीन आतिशबाजी के साथ अधर्म व अहंकार के प्रतीक रावण के लगभग 30 फीट उंचे पुतले का दहन किया गया। इस दौरान पटाखों की गूंज के बीच लोगों ने जय श्रीराम के जयकारे लगाए। जिसके बाद चलित धार्मिक झांकी को देखने के लिए लोगों की भीड़ रही। इस वर्ष की झांकी मेें इंद्र देव द्वारा भारी बारिश व जल प्रलय के दौरान भगवान श्रीकृष्ण द्वारा गोवर्धन पर्वत को उठाकर गोकुलवासियों एवं पशुधनों की सुरक्षा करते हुए झांकी दिखाई गई जो नवरात्रि पर्व के दौरान हजारों लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र रही।

घोड़ा मंदिर के सामने मैदान में मनाया त्योहार
घोड़ा मंदिर के सामने मैदान में बुधवार को सार्वजनिक दुर्गा एवं दशहरा उत्सव समिति गांधी चौक द्वारा आयोजित दशहरा उत्सव में पुराना बाजार, कोण्डे, नियोगी नगर, नया बाजार, गांधी चौक, सुभाष चौक, मोंगरा दफाई सहित नगर के विभिन्न क्षेत्रों के लोग सपरिवार दशहरा उत्सव में राहण दहन का नजारा देखने पहुंचे थे। रामलीला मंचन के बाद आतिशबाजी की गई और रावण के लगभग 30 फीट उंचे पुतले का दहन किया गया। वहीं बच्चों ने विभिन्न आकर्षक खिलौने एवं महिलाओं ने घरेलू उपयोगी व सजावटी सहित मनिहारी सामानों की खरीददारी की और अनेकों ने विभिन्न व्यंजनों का स्वाद लिया।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned