कोविड अस्पताल में चार माह के बच्चे की मौत, दो घंटे तक मासूम को सीने से लगाकर बैठी थी मां, महाराष्ट्र से लौटा है परिवार

डौंडी लोहारा ब्लॉक के ग्राम भरदाकला गांव के क्वारंटाइन सेंटर में बच्चे की तबीयत बिगडऩे के बाद उसे उपचार के लिए कोविड अस्पताल बालोद में भर्ती किया गया था, जहां आज सुबह मासूम की मौत हो गई। (Coronavirus in chhattisgarh)

By: Dakshi Sahu

Published: 28 May 2020, 11:42 AM IST

बालोद. बालोद जिले के कोविड अस्पताल में गुरुवार सुबह चार माह के बच्चे की मौत से हड़कंप मच गया। डौंडी लोहारा ब्लॉक के ग्राम भरदाकला गांव के क्वारंटाइन सेंटर में बच्चे की तबीयत बिगडऩे के बाद उसे उपचार के लिए कोविड अस्पताल बालोद में भर्ती किया गया था, जहां आज सुबह मासूम की मौत हो गई। मिली जानकारी के अनुसार मृतक बच्चे और उसके परिवार का 25 मई को कोरोना सैंपल लिया गया है। जिसकी रिपोर्ट अभी तक नहीं आई है। इसी बीच मासूम की तबीयत बिगड़ गई थी। अपने जिगर के टुकड़े की सांस थमने के बाद मां लगभग दो घंटे तक मासूम को सीने से लगाकर बैठी। डॉक्टरों और नर्सों की लाख कोशिश के बाद भी वह शव को देने के लिए तैयार नहीं थी। तब जाकर अस्पताल में पुलिस बुलानी पड़ी। पुलिसकर्मियों ने पीपीई किट पहनकर किसी तरह मां की गोद से मृतक बच्चे की डेड बॉडी को बाहर निकाला। उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

कोविड अस्पताल में चार माह के बच्चे की मौत, दो घंटे तक मासूम को सीने से लगाकर बैठी थी मां, महाराष्ट्र से लौटा है परिवार

पीडि़त परिवार ने लगाए गंभीर आरोप
महाराष्ट्र के चंद्रपुर से लौटा परिवार पिछले 14 दिनों से भरदाकला क्वारंटाइन सेंटर में रह रहा था। पीडि़त ने परिवार ने बताया कि आज उनका क्वारंटाइन पूरा हो रहा था, लेकिन बच्चे की मौत हो गई। मृतक के पिता ने बताया कि अस्पताल में जब रात में मासूम की तबीयत बिगड़ी तब वहां न ही डॉक्टर थे और न ही कोई नर्सिंग स्टाफ। कई बार डॉक्टरों को बुलाने की भी कोशिश की लेकिन कोई मासूम को देखने तक नहीं आया। तड़प-तड़पकर उसकी मौत हो गई। इस मामले में सीएमएचओ डॉ. बीएल रात्रे ने कहा कि मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच की जाएगी।

coronavirus
Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned