शासकीय जमीन पर जमाया कब्जा, पीएचई की बोर से उगा रहा फसल

शासकीय जमीन पर जमाया कब्जा, पीएचई की बोर से उगा रहा फसल
Occupied village land

Satyanarayan Shukla | Publish: Jun, 24 2016 11:46:00 PM (IST) Balod

 ग्राम कोहंगाटोला में विजय साहू नामक व्यक्ति द्वारा शासकीय जमीन पर कब्जा कर उस पर किए गए पीएचई के शासकीय बोर का भी उपयोग कर रहा है। इससे गांव में तनाव की स्थिति बनी हुई है।

बालोद. ग्राम कोहंगाटोला में विजय साहू नामक व्यक्ति द्वारा शासकीय जमीन पर कब्जा कर उस पर किए गए पीएचई के शासकीय बोर का भी उपयोग कर रहा है। इस कब्जे की वजह से गांव में तनाव की स्थिति बनी हुई है। मामले में ग्रामीणों ने कलक्टर से मुलाकात कर कब्जा हटवाने की मांग की है। इधर जमीन का उपयोग करने वाले विजय कुमार का कहना है कि वह शासकीय जमीन पर कब्जा नहीं किया है, यह उसकी ही जमीन है।

छह डिसमिल जमीन पर कब्जा
ग्रामीण राजू साहू, छन्नूराम ने बताया कि विजय कुमार पिछले दो माह से श्मशानघाट मार्ग स्थित अपनी जमीन के साथ ही 6 डिसमिल शासकीय जमीन पर कब्जा कर लिया है। कब्जा हटाने की बात करने पर वह कब्जा नहीं हटा रहा है। यही नहीं दो साल पहले पीएचई विभाग द्वारा उक्त शासकीय जमीन पर कराए गए बोर को भी अपने कब्जे में रख लिया है। ग्रामीणों ने कलक्टर से कहा कि जगह का सीमांकन करें। ग्रामीणों ने बताया कि विजय कुमार द्वारा स्वयं के खेत पर तारजाली से घेरा किया गया है, जिसमें शासकीय जमीन का भी हिस्सा शामिल है।

बोर कराते समय करना था आपत्ति
ग्रामीण जीवराखन, रामदेव ने बताया कि जब विजय शासकीय जमीन को अपना बता रहा है तो पीएचई द्वारा उक्त जमीन पर बोर किया गया तो क्यों आपत्ति नहीं की। उसे उसी समय विरोध करना था।    

जमीन के सीमांकन की मांग
जमीन विवाद से बिगड़ते माहौल को देखते हुए ग्रामीणों ने कलक्टर से उक्त जमीन का सीमांकन किए जाने की मांग की है। वहीं विजय कुमार अपनी बात पर अड़े हैं कि वह उसकी जमीन है। कलक्टर को ज्ञापन सौंपे जाने के दौरान जीवराखन, सुंदरलाल, रमेश साहू, गोकुल राम, राजू लाल, गुमान आदि शामिल थे। 

बोर के बारे में नहीं है जानकारी
विजय कुमार ने कहा कि वह अपनी जमीन पर तार घेरा किया है, जो बोर पीएचई ने कराया है उसकी जानकारी उन्हें नहीं है। इधर ग्रामीणों का कहना है कि हमने 2 से 3 बार ग्राम स्तर पर बैठक की। इसमें विजय को बुलाया पर वह बैठक में नहीं आया।




MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned