शासकीय जमीन पर जमाया कब्जा, पीएचई की बोर से उगा रहा फसल

 ग्राम कोहंगाटोला में विजय साहू नामक व्यक्ति द्वारा शासकीय जमीन पर कब्जा कर उस पर किए गए पीएचई के शासकीय बोर का भी उपयोग कर रहा है। इससे गांव में तनाव की स्थिति बनी हुई है।

By: Satya Narayan Shukla

Published: 24 Jun 2016, 11:46 PM IST

बालोद. ग्राम कोहंगाटोला में विजय साहू नामक व्यक्ति द्वारा शासकीय जमीन पर कब्जा कर उस पर किए गए पीएचई के शासकीय बोर का भी उपयोग कर रहा है। इस कब्जे की वजह से गांव में तनाव की स्थिति बनी हुई है। मामले में ग्रामीणों ने कलक्टर से मुलाकात कर कब्जा हटवाने की मांग की है। इधर जमीन का उपयोग करने वाले विजय कुमार का कहना है कि वह शासकीय जमीन पर कब्जा नहीं किया है, यह उसकी ही जमीन है।

छह डिसमिल जमीन पर कब्जा
ग्रामीण राजू साहू, छन्नूराम ने बताया कि विजय कुमार पिछले दो माह से श्मशानघाट मार्ग स्थित अपनी जमीन के साथ ही 6 डिसमिल शासकीय जमीन पर कब्जा कर लिया है। कब्जा हटाने की बात करने पर वह कब्जा नहीं हटा रहा है। यही नहीं दो साल पहले पीएचई विभाग द्वारा उक्त शासकीय जमीन पर कराए गए बोर को भी अपने कब्जे में रख लिया है। ग्रामीणों ने कलक्टर से कहा कि जगह का सीमांकन करें। ग्रामीणों ने बताया कि विजय कुमार द्वारा स्वयं के खेत पर तारजाली से घेरा किया गया है, जिसमें शासकीय जमीन का भी हिस्सा शामिल है।

बोर कराते समय करना था आपत्ति
ग्रामीण जीवराखन, रामदेव ने बताया कि जब विजय शासकीय जमीन को अपना बता रहा है तो पीएचई द्वारा उक्त जमीन पर बोर किया गया तो क्यों आपत्ति नहीं की। उसे उसी समय विरोध करना था।    

जमीन के सीमांकन की मांग
जमीन विवाद से बिगड़ते माहौल को देखते हुए ग्रामीणों ने कलक्टर से उक्त जमीन का सीमांकन किए जाने की मांग की है। वहीं विजय कुमार अपनी बात पर अड़े हैं कि वह उसकी जमीन है। कलक्टर को ज्ञापन सौंपे जाने के दौरान जीवराखन, सुंदरलाल, रमेश साहू, गोकुल राम, राजू लाल, गुमान आदि शामिल थे। 

बोर के बारे में नहीं है जानकारी
विजय कुमार ने कहा कि वह अपनी जमीन पर तार घेरा किया है, जो बोर पीएचई ने कराया है उसकी जानकारी उन्हें नहीं है। इधर ग्रामीणों का कहना है कि हमने 2 से 3 बार ग्राम स्तर पर बैठक की। इसमें विजय को बुलाया पर वह बैठक में नहीं आया।




Satya Narayan Shukla Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned