लॉकडाउन का हवाला देकर सरकारी दुग्ध संस्थान ने 6500 लीटर दूध बहा दिया नाले में, गरीबों ने कहा काश हमें पीने दे देते...

Balod जिला प्रशासन के उपक्रम दूध गंगा में बड़ी लापरवाही सामने आई है। संचालक ने लॉकडाउन लगने के बाद 11 से 17 अप्रैल तक रोज 1100 लीटर दूध नाले में बहा दिया।

By: Dakshi Sahu

Updated: 18 Apr 2021, 01:02 PM IST

बालोद. बालोद जिला मुख्यालय में संचालित जिला प्रशासन के उपक्रम दूध गंगा में बड़ी लापरवाही सामने आई है। संचालक ने लॉकडाउन (coronavirus lockdown in Balod) लगने के बाद 11 से 17 अप्रैल तक रोज 1100 लीटर दूध नाले में बहा दिया। इन 7 दिनों में दूध गंगा ने लगभग 6500 लीटर दूध नाले में बहा दिया। इसका वीडियो वायलर हुआ तो लोगों ने नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि एक तरफ लॉकडाउन में जनता जीवन उपयोगी सामानों के लिए तरस रही है। वहीं राशन पानी के लिए भी लोग तरस रहे हैं। दूसरी ओर दूध गंगा का संचालक पानी की तरह नाले में दूध (Milk) को बहा रहा है। यह पूरी तरह से गलत है। इस समस्या को प्रशासन के पास रख देते और शासन-प्रशासन मिलकर कोई पहल कर हल निकालते तो इस दूध से किसी का पेट भर जाता।

लॉकडाउन में बिक्री नहीं होने को बताया कारण
हजारों लीटर दूध बहाने के मामले में दूध गंगा व उनके संचालक की किरकिरी होना शुरू हुई तो संचालक कमलेश गौतम ने सफाई देने लगा। संचालक ने कहा कि लॉकडाउन के कारण दूध की बिक्री नहीं हो रही थी। दूध उत्पादक किसान रोजाना दूध लाते हैं। रोजाना 1300 से 1500 लीटर दूध आ रहा था। लॉकडाउन में रोजाना दूध की बिक्री मात्र 200 से 300 लीटर हो रही है। इस वजह से दूध को नाले में बहाना पड़ा।

दूध को बंटवाते तो होती भीड़
दूध गंगा के संचालक कमलेश गौतम ने कहा कि दूध को बंटवाने की बात लोग कह रहे हैं। दूध को बंटवाते तो लॉकडाउन में लोगों की भीड़ होती। इसलिए कुछ नहीं कर पाए। न ही प्रशासन से चर्चा कर सके। जो उचित लगा वही किया।

300 लीटर दूध भेजा पाकुरभाट कोविड केयर सेंटर
नाले में रोज 1100 लीटर दूध बहाने का वीडियो वायरल होने के बाद अब दूध गंगा ने कोविड आइसोलेशन सेंटर में 300 लीटर दूध भेजा है। दूध गंगा की माने तो लॉकडाउन में बहुत नुकसान हो रहा है। जिसकी भरपाई कर पाना आसान नहीं है।

सोमवार से 35 नहीं 24 रुपए लीटर में बिकेगा दूध
जिले के दूध उत्पादक किसानों को इस लॉकडाउन में और भी घाटा सहना पड़ेगा। संचालक ने सूचना बोर्ड लगा दिया है कि लॉकडाउन बढ़ता है तो दूध को 35 रुपए लीटर नहीं बल्कि 24 रुपए में खरीदा जाएगा। इसका प्रमुख कारण दूध की बिक्री नहीं होना बताया गया है। बालोद जिले में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लॉकडाउन 26 अप्रेल तक बढ़ा दिया है।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned