scriptGreen rice is being cultivated in Balod district, demand abroad | हरे चावल की जैविक खेती कर देश में ब्रांड बना छत्तीसगढ़, अब हर सीजन में होगा उत्पादन, सबसे ज्यादा डिमांड आस्ट्रेलिया में | Patrika News

हरे चावल की जैविक खेती कर देश में ब्रांड बना छत्तीसगढ़, अब हर सीजन में होगा उत्पादन, सबसे ज्यादा डिमांड आस्ट्रेलिया में

Green Rice in Balod: लाल, काला व सफेद चावल की खेती के बाद अब बालोद जिले में हरे चावल की भी जैविक खेती की जा रही है। बालोद हरे चावल खेती करने वाला प्रदेश का तीसरा जिला बन गया है।

बालोद

Updated: November 02, 2021 11:36:46 am

सतीश रजक @बालोद. लाल, काला व सफेद चावल की खेती के बाद अब जिले में हरे चावल की भी जैविक खेती की जा रही है। बालोद हरे चावल खेती करने वाला प्रदेश का तीसरा जिला बन गया है। इससे पहले धमतरी व दुर्ग जिले में भी इसकी खेती हो चुकी है। यहां भूरे, सफेद, लाल व काले गेहूं की खेती के साथ हरे रंग के गेंहू की खेती की गई। जिले में जैविक खेती से उत्पादित रंगीन व सुगंधित चावल और गेहूं की मांग देश की राजधानी दिल्ली से लेकर विदेश ऑस्ट्रेलिया तक है। हाल ही में कृषि विज्ञान रायपुर की टीम ने भी हरे चावल की खेती का निरीक्षण किया था।
हरे चावल की जैविक खेती कर देश में ब्रांड बना धान का कटोरा छत्तीसगढ़, अब हर सीजन में होगा उत्पादन, सबसे ज्यादा डिमांड आस्ट्रेलिया में
हरे चावल की जैविक खेती कर देश में ब्रांड बना धान का कटोरा छत्तीसगढ़, अब हर सीजन में होगा उत्पादन, सबसे ज्यादा डिमांड आस्ट्रेलिया में
अब खुद का बनाया सिंबाल
किसानों ने बताया कि पहली बार जैविक कृषि की तो फसल उत्पादन के बाद रायपुर बिलासपुर की कम्पनी को बेच देते थे। जिसे कम्पनी अपना सिंबाल लगाकर बाहर बेचती थी। अब खुद का सर्वोदय कृषक प्रोडक्शन लिमिटेड सिंबाल बनाया। कम्पनी के लोग सीधे घर से जैविक रेड व ब्लैक राइस के साथ काला गेहूं खरीद कर ले जाते हैं। आस्ट्रेलिया में इस चावल से दवाई बनाई जाती है। विभिन्न रोगियों को भी इसका सेवन कराया जाता है।
हरे चावल की जैविक खेती कर देश में ब्रांड बना धान का कटोरा छत्तीसगढ़, अब हर सीजन में होगा उत्पादन, सबसे ज्यादा डिमांड आस्ट्रेलिया मेंरासायनिक कृषि से लोग पड़ रहे बीमार
दोनों किसानों ने बताया कि आने वाला समय जैविक कृषि का है। क्योंकि वर्तमान में रासायनिक खेती से उत्पादित खाद्य पदार्थ का सेवन कर लोग बीमार हो रहे हैं। ऐसे में लोग जैविक खाद्य पदार्थों की मांग कर रहे हंै। इतना तय है कि आने वाले दिनों में जैविक उत्पाद की मांग बढ़ेगी। किसान ध्रुव और कोमल 5 साल से जैविक ब्लैक व रेड राइस की खेती कर रहे है। अब ट्रायल के तौर पर बाहर से हरे चावल का बीज मंगाकर 15 डिसमिल में खेती की है। फसल में बीज निकल आए हैं। 10 से 15 दिनों में इसकी कटाई व मिंजाई भी शुरू की जाएगी। किसान ध्रुव ने बताया कि पहली बार खेती की है। इसे बेचेंगे नहीं बल्कि बीज के लिए रखेंगें। हर सीजन में इसकी खेती करेंगे।
सभी रह गए हैरान
राज्योत्सव में सनौद के दो प्रगतिशील किसान ध्रुव राम व कोमल राम ने जैविक कृषि से उत्पादित रंग-बिरंगे चावल व गेहूं का स्टाल लगाया तो सभी हैरान रह गए। किसी ने सोचा और देखा भी नहीं था कि लाल व काले रंग का गेहूं होता है। जिले में उत्पादित जैविक चावल व गेहूं से विदेश में दवाई बन रही है। लगातार मांग से जैविक कृषि के प्रति किसानों का रुझान भी बढ़ रहा है। जैविक चावल की कीमत 7 से 8 हजार प्रति क्विंटल तक भी बिक्री हो रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.