स्वास्थ्य की इमरजेंसी 102 व 108 की वाहन सेवाएं कल से हो जाएगी बंद

स्वास्थ्य की इमरजेंसी 102 व 108 की वाहन सेवाएं कल से हो जाएगी बंद

Niraj Upadhyay | Publish: Jul, 14 2018 08:06:04 AM (IST) Balod, Chhattisgarh, India

समय पर वेतन सहित अनेक मांगों पर शासन के ध्यान नहीं देने से नाराज कर्मचारियों ने निर्णय लिया है। इसके लिए शुक्रवार को पहले बस स्टैंड में धरना प्रदर्शन किया गया।

बालोद. जिले में स्वास्थ्य की इमरजेंसी सेवाएं दे रहे 108 व 102 के कर्मचारियों का वेतन बढ़ाया जा रहा है न एरियर्स दिया जा रहा है। जबकि कर्मचारियों से 8 की जगह 12 घंटे डयूटी कराई जा रही है। इससे तंग आकर संजीवनी व महतारी के कर्मचारियों ने शुक्रवार को नया बस स्टैण्ड में धरना प्रदर्शन कर सरकार को जमकर कोसा और 16 जुलाई से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का फैसला लिया है।

बढ़ोतरी के बाद भी अप्रैल 2017 से वेतन अधर में
संजीवनी व महतारी के कर्मचारियों ने बताया कि अप्रैल 2017 से वेतन में बढ़ोत्तरी कर दी है। बढ़ोत्तरी के बाद कर्मचारी को हर महीने 14,820 रुपए सैलरी दिया जाना है। लेकिन जीवीके कंपनी अब भी उन्हें पुराने दर पर यानि ईएमटी को 9500 रुपए और पॉयलट को 9300 रुपए प्रतिमाह भुगतान कर रही है। इधर अप्रैल 2017 से लागू छग श्रम अधिनियम के तहत 8 घंटे की डयूटी के बाद अलग से डयूटी पर अतिरिक्त भत्ता दिया जाना है। यहां भी 108 व102 कर्मचारियों के साथ ज्यादती की जा रही है।

प्रतिदिन जिले में आते हैं 100 से अधिक मामले
जिले में 11 महतारी 102 वाहन हैं, इसमें 42 कर्मचारी काम करते हैं। इन वाहनों के जरिए रोज औसतन 100 केस हैंडल किए जाते हैं। इसी तरह 5 संजीवनी 108 वाहन हैं। जिसमें 24 कर्मचारी कार्यरत हैं। 108 एंबुलेंस में रोज औसतन 40 केस हैंडल किया जाता है। ऐसे में यदि कर्मचारी के हड़ताल में चले गए तो स्वास्थ्य सुविधा पूरी तरह से ठप हो सकती है। मुख्य रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में यह एंबुलेंस ही मददगार साबित होते हैं। सालभर में हजारों लोगों की जान बचाने कार्य इन महत्वपूर्ण एंबुलेंस के माध्यम से ही होता है।

अनदेखी से कर्मचारियों की बढ़ रही परेशानी
जिलाध्यक्ष भुनेश्वर साहू ने बताया की मांगें पूरी नहीं होने से महतारी 102 और संजीवनी 108 के कर्मचारी नाराज हैं। नाराजगी के चलते ही धरना प्रदर्शन कर रहे हा।, जहां उन्होंने बताया कि कंपनी के उच्च अधिकारी केवल कोरा आश्वासन दे रहे हैं। वेतन विसंगति संबंधी अनेक बार ध्यानाकर्षण कराया गया जहां केवल मांगे पूरी कराने की बात कही जाती है, लेकिन निराकरण की ओर ध्यान नहीं दिया जाता ऐसे में परेशानी बढ़ गई है।

8 की जगह कराते हैं 12 घंटे डयूटी
कर्मचारियों से 8 की जगह 12 घंटे डयूटी ले रहे हैं, लेकिन भत्ता नहीं दिया जा रहा है। कर्मचारियों ने बताया कि अक्टूबर 2017 में धरना प्रदर्शन के दौरान शासन ने वेतन के संबंध में हल निकालने का आश्वासन दिया था। और हाल ई में भी धरना प्रदर्शनकीये थे उसमे भी केवल अश्वसन ही।मिला महीनों निकल जाने के बाद भी कोई निर्णय नहीं निकलने पर अनिश्चित कालीन हड़ताल में जाने का निर्णय लिया है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned