scriptHere one has to climb the ladder to talk to the mobile network | यहां मोबाइल से बात करने नेटवर्क के लिए चढ़ना पड़ता है सीढ़ी | Patrika News

यहां मोबाइल से बात करने नेटवर्क के लिए चढ़ना पड़ता है सीढ़ी

गुंडरदेही ब्लॉक के कई गांवों में आज भी मोबाइल नेटवर्क की कनेक्टिविटी नहीं मिलने से ग्रामीण परेशान है। सोशल मीडिया के इस दौर में शासन की ऑनलाइन योजनाओं और सुविधाओं का लाभ भी ग्रामीणों को नहीं मिल रहा है।

बालोद

Published: February 23, 2022 10:59:27 pm

बालोद/गुंडरदेही. ब्लॉक के कई गांवों में आज भी मोबाइल नेटवर्क की कनेक्टिविटी नहीं मिलने से ग्रामीण परेशान है। सोशल मीडिया के इस दौर में शासन की ऑनलाइन योजनाओं और सुविधाओं का लाभ भी ग्रामीणों को नहीं मिल रहा है। वहीं महतारी एक्सप्रेस, संजीवनी 108 एंबुलेंस और 100 डायल की जरूरत पडऩे पर ग्रामीणों को नेटवर्क की तलाश में भटकना पड़ता है। कई कंपनियों के यहां टावर से सिग्नल नहीं मिलने से उपभोक्ता परेशान हैं।

कंपनियां मोबाइल रिचार्ज का पूरा पैसा वसूलती हैं, नेटवर्क कनेक्टिविटी नहीं सुधारती
सीढ़ी पर चढ़कर मोबाइल का नेटवर्क तलाशते ग्रामीण।

ग्राम पंचायतों में भी नेट की सुविधा नहीं
ग्राम मासुल, जरवाय सहित अन्य दर्जनों गांवों के हजारों लोगों को नेटवर्क नहीं मिल रहा है। ग्राम पंचायतों में भी नेट की सुविधा नहीं होने से ऑनलाइन योजनाओं के लाभ से ग्रामीण वंचित हैं। ग्रामीणों ने बताया कि दिन के समय किसी को बात करनी हो तो छत पर जाना पड़ता है। रात के समय कोई इमरजेंसी होने पर नेटवर्क के इंतजार में भटकना पड़ता है।

बीमार लोगों को अस्पताल पहुंचाने में होती है दिक्कत
मासुल के ग्रामीणों का कहना है कि सबसे ज्यादा दिक्कत बीमार और गर्भवती महिलाओं को अस्पताल पहुंचाने महतारी एक्सप्रेस और एंबुलेंस बुलाने में आती है। ऐसे हालात रहे तो डिजिटल इंडिया का सपना कैसे पूरा होगा। उपभोक्ता थानेश्वर, टिकेश्वर, हरिशंकर, खेमचंद ने बताया कि सड़क किनारे बीएसएनएल, जियो, एयरटेल का कनेक्शन मिलता हैं। कभी नेटवर्क आ जाता है तो कभी बिल्कुल नहीं मिलता है।

जनप्रतिनिधि व उच्च अधिकारी नहीं देते ध्यान
ग्रामीणों ने बताया कि गांव में नए मोबाइल टावर लगाने व आसपास में लगे टावर की रेंज बढ़ाने कम्पनी में कई बार शिकायत कर चुके हैं। आज तक सिर्फ आश्वासन ही मिला है। क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों एवं जिले के कलेक्टर को भी लिखित में आदेवन दिया है।

सभी कंपनी के नेटवर्क फेल
कुथरेल के सरपंच रामेश्वर चंद्राकर ने कहा कि गांव में किसी भी कम्पनी का नेटवर्क नहीं मिलता है। किसी से फोन पर बात करना होता है तो सड़क या छत पर जाना पड़ता है। सभी कंपनी रिचार्ज का पूरा पैसा ले रही हैं। लेकिन नेटवर्क के मामले में सभी कंपनी फेल है। आखिर ग्रामीण अंचल में कब व्यवस्था सुधरेगी।

नेटवर्क का रेंज बढ़ाने की जरूरत
सिकोसा सरपंच आरोप चंद्राकर का कहना है ग्रामीण क्षेत्र में मोबाइल नेटवर्क कम होते हैं। जिससे बातचीत भी नहीं हो पाती है। नेटवर्क का रेंज बढ़ाने की आवश्यकता है।

ऑनलाइन काम होते हैं प्रभावित
सरपंच संघ अध्यक्ष डोमन देशमुख ने बताया कई ग्राम पंचायत अंदरूनी क्षेत्र में है। जिसके कारण नेटवर्क ऑनलाइन सिस्टम में बाधक बन गया है। नेटवर्क नहीं मिलने से ऑनलाइन कार्य प्रभावित होते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलसेना का 'मिनी डिफेंस एक्सपो' कोलकाता में 6 से 9 जुलाई के बीचGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेसIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: राजस्थान ने गुजरात को जीत के लिए दिया 189 रनों का लक्ष्य'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'नवजोत सिंह सिद्धू को जेल में मिलेगा स्पेशल खाना, कोर्ट ने दी अनुमति
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.