ये कोई प्राइवेट नहीं गांव का सरकारी स्कूल है भाई, यहां बिना बस्ता के शाला जाते हैं बच्चे, हाईटेक एजुकेशन ऐसा जिसे देख दुनिया हैरान

ये कोई प्राइवेट नहीं गांव का सरकारी स्कूल है भाई, यहां बिना बस्ता के शाला जाते हैं बच्चे, हाईटेक एजुकेशन ऐसा जिसे देख दुनिया हैरान
ये कोई प्राइवेट नहीं गांव का सरकारी स्कूल है भाई, यहां बिना बस्ता के शाला जाते हैं बच्चे, हाईटेक एजुकेशन ऐसा जिसे देख दुनिया हैरान

Dakshi Sahu | Updated: 19 Sep 2019, 04:05:31 PM (IST) Balod, Balod, Chhattisgarh, India

डौंडीलोहारा विकासखंड, ग्राम कापसी स्थित शासकीय प्राथमिक शाला एक ऐसा सरकारी स्कूल है जहां के छोटे-छोटे बच्चे प्रोजेक्टर के माध्यम से पढ़ाई करते हैं। उन्हें बस्ते के बोझ से भी मुक्ति मिल गई है।

बालोद /डौंडीलोहारा. एक तरफ भारी भरकम स्कूल बैग के बोझ तले बच्चे दबते चले जा रहे हैं तो दूसरी ओर बालोद जिला के एक सरकारी स्कूल और वहां पढ़ाने वाले शिक्षकों ने अपनी नायाब सोच से बच्चों को बस्तों के बोझ से मुक्त कर दिया है। हाईटेक एजुकेशन सिस्टम और सुविधाओं से लैस इस सरकारी स्कूल में बच्चे हर रोज बिना बस्ते के पहुंचते हैं। खुशी-खुशी बिना बस्ते के घर लौटते हैं। जिले के डौंडीलोहारा विकासखंड, ग्राम कापसी स्थित शासकीय प्राथमिक शाला एक ऐसा सरकारी स्कूल है जहां के छोटे-छोटे बच्चे प्रोजेक्टर के माध्यम से पढ़ाई करते हैं। उन्हें बस्ते के बोझ से भी मुक्ति मिल गई है। बच्चों को स्कूल में ही अध्ययन सामग्री रखने लॉकर की सुविधा उपलब्ध है।

ये कोई प्राइवेट नहीं गांव का सरकारी स्कूल है भाई, यहां बिना बस्ता के शाला जाते हैं बच्चे, हाईटेक एजुकेशन ऐसा जिसे देख दुनिया हैरान

स्कूल के किचन गार्डन से ताजी सब्जी
जहां कई स्कूलों में आज भी चूल्हे से मध्यान्ह भोजन पकाया जाता है वहीं 91 बच्चों की दर्ज संख्या वाले इस स्कूल में गैस सिलेंडर से खाना बनता है। स्कूल किचन गार्डन से ताजी सब्जियां भी मिलती है। बच्चों को सुविधायुक्त वातावरण उपलब्ध कराने स्कूल के शिक्षक कई बार सम्मानित भी हो चुके है।

ये कोई प्राइवेट नहीं गांव का सरकारी स्कूल है भाई, यहां बिना बस्ता के शाला जाते हैं बच्चे, हाईटेक एजुकेशन ऐसा जिसे देख दुनिया हैरान

ग्रामीणों के सहयोग से हाईटेक हुआ स्कूल
शिक्षक अमित सिन्हा ने बताया कि इस योजना में सरपंच लेखराम प्रीतम के अलावा ग्रामीणों द्वारा भी सहयोग मिल रहा है। ग्राम पंचायत मद और ग्रामीणों के व्यक्तिगत सहयोग यह सुविधाएं सरकारी स्कूल में उपलब्ध हो पाई है। बच्चों के मानसिक व नैतिक विकास के लिए प्रोजेक्टर, प्रिंटर, कंप्यूटर आदि आधुनिक सुविधाओं के अलावा अध्ययन सामाग्री रखने के लिए लाकर, लाइब्रेरी सहित सीसीटीवी कैमरे की सुविधाएं उपलब्ध है।

लोहारा विकासखंड के ग्राम कापसी स्थित शासकीय प्राथमिक शाला हाईटेक स्कूल अन्य शासकीय स्कूलों एवं शिक्षकों के लिए रोल मॉडल है। ग्राम पंचायत एवं ग्रामीणों के सहयोग से बच्चों को स्कूल में आधुनिक सुविधाओं के साथ पढ़ाई कराई जा रही है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned