बालोद में नाबालिग लड़की की तस्करी कर हैदराबाद ले जाने वाले पति-पत्नी गिरफ्तार, गुमशुदगी पर एक्टिव हुई थी पुलिस

राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ में मानव तस्करी के अंतरराज्यीय गैंग के पर्दाफाश के बाद बालोद जिले में भी मानव तस्करी का मामले सामने आया है। बालोद पुलिस ने मानव तस्करी में संलिप्त पति-पत्नी को हैदराबाद से गिरफ्तार किया है।

By: Dakshi Sahu

Published: 25 Nov 2020, 02:59 PM IST

बालोद. राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ में मानव तस्करी के अंतरराज्यीय गैंग के पर्दाफाश के बाद बालोद जिले में भी मानव तस्करी का मामले सामने आया है। बालोद पुलिस ने मानव तस्करी में संलिप्त पति-पत्नी को हैदराबाद से गिरफ्तार किया है। कड़ी पूछताछ व जांच के बाद पति-पत्नी को रिमांड में जेल भेजा गया। मामला बालोद थाना क्षेत्र अंतर्गत का है। 15 वर्षीय नाबालिग लड़की 15 नवंबर को गुम हो गई थी। गुमशुदगी की रिपोर्ट परिजनों ने बालोद थाने में दर्ज कराई थी।

थाना प्रभारी ने गंभीरता से लेते हुए तत्काल टीम बना कर जांच शुरू की। पुलिस टीम ने परिजनों के साथ नाबालिग लड़की के संपर्क में रहने वालों से भी पूछताछ की। नाबालिग लड़की के पास मौजूद मोबाइल के सिम का लोकेशन भी ट्रेस कर रहे थे। 20 नवम्बर को पुलिस टीम ने सिम का लोकेशन ट्रेस करते हुए हैदराबाद पहुंच गई। नाबालिग लड़की एवं उसे बहला-फुसला कर ले जाने वाले ग्राम भुसरेंगा निवासी पति-पत्नी पुन्नू साहू एवं ललिता साहू को पकड़ लिया। उन्हें लेकर 21 नवंबर की देर रात बालोद थाने पहुंची। दोनों आरोपियों को धारा 363, 66 एवं एसटीएसी एक्ट के तहत रिमांड में जेल भेज दिया गया।

मिस्त्री काम करने के दौरान हुई थी पहचान
दोनों आरोपी व नाबालिग लड़की की पहचान मिस्त्री काम करने के दौरान हुई। तीनों एक ही जगह मिस्त्री काम करने जाते थे। आरोपी ने बताया कि हैदराबाद मिस्त्री काम करने जा रहे थे, जबकि नाबालिग के परिजनों को इसकी खबर तक नहीं थी। पुलिस ने दोनों आरोपी से भी पूछताछ की थी, लेकिन उन्होंने किसी तरह की जानकारी नहीं होने की बात कही, जबकि आरोपियों ने खुद नाबालिग को उसके मोबाइल में लगाने नया सिम भी दिया था। पुलिस सूझबूझ से नाबालिग लड़की को आरोपियों से छुड़ाने में सफल रही।

चार दिन रिश्तेदार के घर रहने के बाद हैदराबाद हुए रवाना
पुलिस के अनुसार दोनों आरोपी ने नाबालिग लड़की को 15 नवम्बर को अपने साथ लेकर धमतरी जिले के कुरूद में किसी रिश्तेदार के यहां पहुंचे। आरोपी महिला ने रिश्तेदार को झूठी कहानी बताते हुए नाबालिग को अपनी ननद बताया। घर में मारपीट होने के कारण कुरूद में ही रहने की बात कही। 19 नवम्बर तक सभी कुरूद में रुके। शाम होते ही आरोपी पति-पत्नी ने नाबालिग को लेकर बस से राजनांदगांव से हैदराबाद रवाना हुए। पुलिस की टीम भी उसी लोकेशन के आधार पर हैदराबाद पहुंच गई। हैदराबाद में बस से नाबालिग व दोनों आरोपी को उतरते देख पुलिस ने तत्काल हिरासत में ले लिया।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned