scriptHusband kills wife in Balod, life imprisonment to the accused | धान बेचने से मना करने पर तैश में आ गया सनकी पति, सास के सामने ही कुल्हाड़ी मारकर पत्नी की कर दी हत्या | Patrika News

धान बेचने से मना करने पर तैश में आ गया सनकी पति, सास के सामने ही कुल्हाड़ी मारकर पत्नी की कर दी हत्या

हत्या के आरोपी नोहरू मंडावी उर्फ नोहर सिंह (33) निवासी गिधाली, मोहला जिला राजनांदगांव को धारा 302 के अपराध में आजीवन कारावास और 500 रुपए के अर्थदंड की सजा सुनाई है।

बालोद

Published: January 20, 2022 12:56:08 pm

बालोद. एक पति ने धान बेचने से मना करने पर नाराज होकर अपनी ही पत्नी को मौत के घाट उतार दिया। आरोपी ने घर में रखी कुल्हाड़ी को निकालकर पत्नी को मारने के लिए दौड़ाया। पत्नी को बुरी तरह जख्मी कर दिया। गंभीर चोट लगने के कारण महिला की मौत हो गई। घटना करीब 8 माह पुरानी है। पुलिस ने आरोपी का जेल भेज दिया था। जिसके बाद प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश मनोज सिंह ठाकुर ने हत्या के आरोपी नोहरू मंडावी उर्फ नोहर सिंह (33) निवासी गिधाली, मोहला जिला राजनांदगांव को धारा 302 के अपराध में आजीवन कारावास और 500 रुपए के अर्थदंड की सजा सुनाई है।
धान बेचने से मना करने पर तैश में आ गया सनकी पति, सास के सामने ही कुल्हाड़ी मारकर पत्नी की कर दी हत्या
धान बेचने से मना करने पर तैश में आ गया सनकी पति, सास के सामने ही कुल्हाड़ी मारकर पत्नी की कर दी हत्या
ससुराल में सास और पत्नी के साथ रहता था आरोपी
अर्थदंड अदा नहीं करने पर आरोपी को 30 दिन का अतिरिक्त कठोर कारावास भुगतना पड़ेगा। मिली जानकारी के अनुसार धान बेचने से मना करने की बात पर ही आरोपी ने पत्नी की हत्या कर दी थी। प्रकरण के अतिरिक्त लोक अभियोजक चित्रांगद देशमुख के अनुसार हत्या 10 दिसंबर 2018 को हुई थी। हत्यारा पति हितापठार में अपने ससुराल में पत्नी रूपा बाई और सास झरिया बाई के साथ निवासरत था। 10 दिसंबर 2018 को नोहरू अपने ससुराल के धान को गांव के ही दुकान में बेच रहा था। जिसकी जानकारी मिलने के बाद उसकी पत्नी रूपा बाई उसे धान बेचने से मना कर रही थी। इसी बात को लेकर दोनों के बीच वाद-विवाद होने लगा। आरोपी ने तैश में आकर पत्नी की घर में रखे कुल्हाड़ी से मारकर हत्या कर दी।
प्रतिकर राशि दिलाने आदेश पारित
मंगचुवा पुलिस ने जांच के बाद प्रकरण न्यायालय में चार्जशीट पेश किया। न्यायालय ने प्रकरण में साक्ष्य के आधार पर आरोपी को दंडित किया। धारा 357-क द.प्र.सं के प्रावधान अनुसार मृतका रूपाबाई के संरक्षक या विधिक उत्तराधिकारी (आरोपी नोहरू मंडावी को छोड़कर) को छग शासन से निर्मित पीडि़त क्षतिपूर्ति योजना 2011 के अनुसार प्रतिकर राशि दिलाने का आदेश पारित किया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.