छत्तीसगढ़ में बर्ड फ्लू का कहर, बालोद के गिधाली में साढ़े 10 हजार मुर्गियों को मारकर दफनाया, सरकार देगी मुआवजा

बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए शनिवार को शासन की गाइडलाइन के तहत गांव के एक अन्य पोल्ट्री फार्म में रखी 10 हजार 500 मुर्गियों को पशु चिकित्सा विभाग ने दफना दिया।

By: Dakshi Sahu

Published: 17 Jan 2021, 01:05 PM IST

बालोद. बालोद जिले के ग्राम गिधाली में एक पोल्ट्री फॉर्म में बड़ी संख्या में मरी मुर्गियों में बर्ड फ्लू संक्रमण पाए जाने के बाद जिलेभर में हड़कम्प है। जिले में बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए शनिवार को शासन की गाइडलाइन के तहत गांव के एक अन्य पोल्ट्री फार्म में रखी 10 हजार 500 मुर्गियों को पशु चिकित्सा विभाग ने दफना दिया। इस कार्रवाई को देख पोल्ट्री फॉर्म संचालक सकते में आ गए। जिले में पहली बार इतनी बड़ी संख्या में मुर्गियों को दफनाया गया है।

पीपीई किट पहनकर किया मुर्गियों को बेहोश
शनिवार को राज्य पशु चिकित्सा विभाग की टीम ग्राम गिधाली पहुंची। मुर्गी फार्म संचालक से चर्चा की। सारे नियम बताने के बाद शाम 4 बजे से पोल्ट्री फार्म में रखी सभी मुर्गियों को विभागीय टीम के सदस्यों ने पीपीई किट पहनकर बेहोश किया। उसे मारकर पोल्ट्री फार्म के बाहर जेसीबी से गड्ढा खोदकर दफनाया गया। मुर्गियों को दफनाने व मारने में लगभग 10 कर्मचारियो की टीम लगी रही। देर शाम साढ़े सात बजे तक पोल्ट्री फार्म के सभी 10 हजार 500 मुर्गियों को दफनाया गया। इस दौरान डौंडीलोहारा थाना प्रभारी मनीष शर्मा के साथ राज्य व जिला के पशु चिकित्सा विभाग की टीम उपस्थित रही।

पीपीई किट पहन कर मुर्गियों को मारा
शनिवार को राज्य पशुचिकित्सा विभाग के एडिशनल डायरेक्टर केके ध्रुव, राज्य स्तरीय पशु रोग अन्वेषण विभाग के उपसंचालक अंजना नायडू व उनकी टीम गिधाली पहुंची। पहले मुर्गी डिस्पोज के लिए बनाई गई 4 टीम को पीपीई किट पहनाया। सभी मुर्गियों को बेहोश कर मारा गया।

पोल्ट्री फार्म संचालक सकते में, कहा-12 लाख का नुकसान
छत्तीसगढ़ पोल्ट्रीफॉर्म के संचालक शमशेर खान ने बताया कि वह 11 साल से मुर्गी पालन कर रहा है। इस तरह की स्थिति कभी नहीं आई। लेकिन बर्ड फ्लू ने पोल्ट्री फार्म में रखे 10 हजार 500 स्वस्थ मुर्गियों को नष्ट करवा दिया। इस कार्रवाई में 12 लाख का नुकसान हुआ है इसकी भरपाई कौन करेगा। मामले में सहायक पशु चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि शासन की गाइडलाइन के तहत पोल्ट्री फार्म संचालक को मुआवजा दिया जाएगा। जिला सहायक पशुचिकित्सा अधिकारी डीके सिहारे ने बताया कि शनिवार को पोल्ट्री फॉर्म के 10 हजार 500 मुर्गियों को दफनाने में तीन घंटे लगे। रात होने की वजह से आगे की कार्रवाई नहीं कर पाए। रविवार को गांव के 30 मुर्गी पालकों की 162 मुर्गियों व 32 कबूतरों को मारकर दफनाया जाएगा। जिसके लिए ग्रामीणों से सहयोग की अपील की है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned