scriptप्रदेश में पहुंचा मानसून, बाढ़ से बचाव के लिए टीम तैयार, संसाधन की कमी | Patrika News
बालोद

प्रदेश में पहुंचा मानसून, बाढ़ से बचाव के लिए टीम तैयार, संसाधन की कमी

मानसून सीजन को देखते हुए जिला मुख्यालय में बाढ़ नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है। लेकिन जल संग्रहण क्षेत्र डेम व हर साल नालों में आने वाली बाढ़ को देखते हुए पूरे संसाधन अब तक उपलब्ध नहीं कराए जा सके हैं।

बालोदJun 14, 2024 / 11:54 pm

Chandra Kishor Deshmukh

मानसून सीजन को देखते हुए जिला मुख्यालय में बाढ़ नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है। लेकिन जल संग्रहण क्षेत्र डेम व हर साल नालों में आने वाली बाढ़ को देखते हुए पूरे संसाधन अब तक उपलब्ध नहीं कराए जा सके हैं।

Monsoon मानसून सीजन को देखते हुए जिला मुख्यालय में बाढ़ नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है। लेकिन जल संग्रहण क्षेत्र डेम व हर साल नालों में आने वाली बाढ़ को देखते हुए पूरे संसाधन अब तक उपलब्ध नहीं कराए जा सके हैं। इस साल बाढ़ आपदा, राहत बचाव कार्य के लिए मॉकड्रिल भी नहीं किया गया है।

बड़ी बाढ़ के लिए दुर्ग एसडीआरएफ टीम पर निर्भर

नगर सेना बाढ़ नियंत्रण विभाग दावा कर रही है। प्राथमिक स्तर पर राहत बचाव कार्य के लिए पर्याप्त संसाधन है। बड़े रूप में बाढ़ आपदा, बचाव व राहत कार्य के लिए दुर्ग की एसडीआरएफ की टीम पर निर्भर रहना पड़ेगा। विभाग ने कहा कि बचाव के लिए हमारी टीम तैयार है। जल्द ही माकड्रिल भी किया जाएगा। मानसून भी सक्रिय हो जाएगा। इस साल भी अच्छी बारिश होगी।

यह भी पढ़ें

व्याख्याता पर स्कूल में राजनीति करने का आरोप, सख्त कार्रवाई की मांग

नियंत्रण कक्ष में 24 घंटे रहेंगे अधिकारी-कर्मचारी

मानसून ने प्रदेश में दस्तक दे दिया है। जल्द ही बालोद में सहित पूरे प्रदेश में सक्रिय होने की स्थिति है। बचाव दल में नगर सैनिकों के साथ गोताखोर भी तैनात किए गए हैं। नियंत्रण कक्ष में 24 घंटे अधिकारी-कर्मचारी रहेंगे। नगर सेनानी विभाग के मुताबिक वर्तमान में कम संसाधन हैं, पर भी बेहतर कार्य कर रहे हैं। टीम को और बेहतर बनाने नगर सेना ने राज्य व जिला प्रशासन से राहत व बचाव कार्य के लिए और उपकरण मांगे हैं।

जिले में हो सभी साधन, त्वरित होगा रेस्क्यू

लोगों व विभाग के कर्मचारियों का कहना है कि हमारे पास प्राथमिक रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए पर्याप्त साधन है। पूरी सुविधा जिले को मिल जाए तो गंभीर केस में भी तत्काल रेस्क्यू किया जा सकता है।

इस माह हो सकता है मॉकड्रिल

बाढ़ आपदा से पूर्व ही नगर सेना की बाढ़ आपदा टीम तांदुला जलाशय में बाढ़ में फंसे लोगों, जलाशय, तालाबों व नदी नालों में डूबते लोगों को बचाने का अभ्यास करेगी। बाढ़ से पहले पूर्व अभ्यास इसी माह में किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें

दो बोर खराब होने से अटल आवास में गहराया जल संकट, टैंकर से हो रही पानी सप्लाई

रबर मोटर बोट का है बड़ा उपयोग

जिला सेनानी कार्यालय में दो मोटर बोट उपलबध है। इसमें दो रबर बोट विथ इंजन शामिल हैं। दो नाव भी है। रबर बोट को किसी भी वाहन में अटैच कर ले जाया जा सकता है। इस बोट से नदी-नाले, जलाशय में भी रेस्क्यू किया जा सकेगा।

Hindi News/ Balod / प्रदेश में पहुंचा मानसून, बाढ़ से बचाव के लिए टीम तैयार, संसाधन की कमी

ट्रेंडिंग वीडियो