कृषि भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ाने यहां एक हजार किसान करेंगे जैविक खेती

कृषि भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ाने यहां एक हजार किसान करेंगे जैविक खेती

Chandra Kishor Deshmukh | Publish: Jun, 24 2019 08:16:32 AM (IST) Balod, Balod, Chhattisgarh, India

बालोद जिले में कृषि जमीन पर बढ़ती अम्लीयता व बंजरता से चिंतित कृषि विभाग ने नई योजना पर काम शुरू कर दिया है। इसके तहत जिले के एक ब्लॉक को लक्ष्य लेकर जमीन की उर्वरा शक्ति को बरकरार रखने के लिए रसायनिक खाद की बजाय जैविक खाद के उपयोग पर जोर देते हुए पहल कर रहा है।

बालोद @ patrika. जिले में कृषि जमीन पर बढ़ती अम्लीयता व बंजरता से चिंतित कृषि विभाग ने नई योजना पर काम शुरू कर दिया है। इसके तहत जिले के एक ब्लॉक को लक्ष्य लेकर जमीन की उर्वरा शक्ति को बरकरार रखने के लिए रसायनिक खाद की बजाय जैविक खाद के उपयोग पर जोर देते हुए पहल कर रहा है। @ patrika. रसायनिक खाद के उपयोग में कमी लाने शासन के निर्देशानुसार कृषि विभाग ने डौंडी ब्लॉक को जैविक ब्लॉक बनाने के लिए चिन्हांकित किया है। इस ब्लाक में बीते दो साल से एक हजार किसान एक हजार एकड़ भूमि में जैविक पद्धति से धान की फसल ले रहे हैं। इस बार तो किसान काले धान की भी खेती कर रहे हैं।

20 गांवों का चयन
विभाग इस ब्लॉक में जैविक खेती मिशन अंतर्गत हर पंचायतों में सेमिनार के माध्यम से किसानों को इस खाद के प्रति जागरूक किया जाएगा जिसकी तैयारी पूरी हो गई है। कृषि विभाग ने फिलहाल इस ब्लॉक के 20 गांवों का चयन जैविक कृषि के लिए चिन्हांकित कर यहां जैविक पद्धति से यानि जैविक खाद से धान की फसल लेने की तैयारी की जा रही है। विभाग का कहना है पहले डौंडी ब्लॉक को जैविक ब्लॉक बनाएंगे। इस ब्लॉक के प्रत्येक गांवों में जाकर किसानों को जैविक खाद से कृषि के लिए प्रेरित करेंगे, उसके बाद पूरे जिले में अभियान चलाया जाएगा।

जिले में हर साल 43 मीट्रिक टन रसायनिक खाद का उपयोग
एक अनुमानित आंकड़े के मुताबिक जिले में कृषि के लिए हर साल लगभग 43 मीट्रिक टन रासायनिक खाद का उपयोग किया जाता है। जिले में रासायनिक खाद का उपयोग बहुत ज्यादा हो रहा है, जिसकी वजह से जिले की कृषि जमीन पर अम्लीयता की मात्रा सबसे ज्यादा बढ़ रही है। विभाग की मानें तो ज्यादा मात्रा में रासायनिक खाद के उपयोग से जमीन ठोस व बंजर हो जाएगी। कुछ सालों बाद तो जमीन कृषि करने लायक भी नहीं रहेगी। कृषि विभाग के मिट्टी परीक्षण केंद्र में भी पाया गया कि कृषि जमीन में अ?लीयता की मात्रा बढ़ रही है।

जिले में एक लाख से ज्यादा किसान
कृषि विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक बालोद जिले में लगभग 1 लाख से ज्यादा किसान हैं जो लगभग 1 लाख 8 7 हजार हेक्टेयर में कृषि करते हैं। पर वर्तमान में किसान धान की खेती में सबसे ज्यादा रासायनिक खाद का उपयोग करते हैं। अत्यधिक रासायनिक खाद के उपयोग के कारण जिले की कृषि जमीन बंजर होते जा रही है।

1000 एकड़ में कर रहे है जैविक खेती
जिले के डौंडी ब्लॉक को जैविक कृषि ब्लॉक बनाने के लिए यहां के 20 गावों के लगभग एक हजार किसान एक हजार एकड़ कृषि जमीन पर धान की खेती करेंगे, पर इस खेती में रसायनिक खाद का उपयोग नहीं करेंगे बल्कि जैविक खाद का उपयोग करेंगे।

घोठिया क्षेत्र के हजारों किसानों को मिलेगा लाभ
विभाग के अनुसार डौंडी ब्लॉक के घोठिया क्षेत्र के 20 गांव जिसमें ग्राम उरजे, गंगोलीडीह, सिंघनवाही,अडज़ाल, साल्हे, चिपरा, नलकसा, भर्रीटोला, कुसुमकसा, घोटिया आदि सहित 20 गावों को चिन्हांकित कर जैविक खेती कराया जा रहा है।

मिशन सफल होने पर पूरे जिले में चलेगा अभियान
अगर इस ब्लॉक में यह मिशन सफल रहा तो आगे पूरे जिले में जैविक कृषि अभियान चलाएंगे। यही नहीं जैविक कृषि से उत्पादित धान को बेचने के लिए मंडी में ई धान खरीदी के तहत धान खरीदा जाएगा ताकि जैविक खाद से उत्पादित धान को भी आसानी से बेचा जा सके और किसानों को लाभ भी हो सके।

देशी जंवाफूल व पूसान बासमती व काले धान की खेती
कृषि विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक देशी जंवाफूल व देशी पूसा बासमती किस्म तथा अर्ली किस्म के धान का उत्पादन किया जाएगा। पहली बार इतने वृहद स्तर पर जैविक कृषि को बढ़ावा देने के लिए पहल की जा रही है। यही नहीं किसान अपने घरों से निकलने वाले गोबर खाद या फिर नाडेब से निर्मित जैविक खाद का उपयोग इन फसलों पर करेंगे। यह कृषि कार्य इसी सत्र से शुरू कर दिया जाएगा। पहली बार इतनी बड़ी मात्रा में जिले में जैविक खाद से धान का उत्पादन किया जाएगा। कृषि विभाग को पूरी उम्मीद है कि किसानों को इसका अच्छा लाभ मिलेगा।

कृषि को बढ़ावा देने के लिए पहल
जिला कृषि अधिकारी आशीष चन्द्राकर ने कहा शासन के निर्देशानुसार जैविक कृषि को बढ़ावा देने के लिए पहल की गई है, जिसके तहत डौंडी ब्लॉक को जैविक कृषि ब्लॉक बनाने लगभग एक हजार चिन्हांकित किया गया है। यह मिशन सफल होने पर पूरे जिले में इस मिशन को चलाया जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned