scriptPolice detained 84 agitating people, 41 men sent to jail | आंदोलन कर रहे 84 लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया, 41 पुरुषों को भेजा जेल | Patrika News

आंदोलन कर रहे 84 लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया, 41 पुरुषों को भेजा जेल

डौंडी ब्लॉक के महामाया माइंस में डौंडी क्षेत्र के बेरोजगारों को रोजगार दिलाने की मांग को लेकर शिवसेना ने नेतृत्व में आंदोलन कर रहे ग्रामीणों के खिलाफ बीएसपी प्रबंधन ने महामाया थाने में शिकायत की। मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे 84 महिला पुरुष के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की।

बालोद

Published: March 11, 2022 11:56:55 pm

बालोद . डौंडी ब्लॉक के महामाया माइंस में डौंडी क्षेत्र के बेरोजगारों को रोजगार दिलाने की मांग को लेकर शिवसेना ने नेतृत्व में आंदोलन कर रहे ग्रामीणों के खिलाफ बीएसपी प्रबंधन ने महामाया थाने में शिकायत की। मौके पर पहुंची पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे 84 महिला पुरुष के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की। 41 पुरुषों को जेल भेजा गया। 43 महिलाओं को बेल दे गई। पुलिस ने धारा 147 आईपीसी व 341 आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया था। वहीं प्रदर्शनकारियों ने कहा कि हमारी मांग जायज है। बीएसपी हम बेरोजगारों की क्यों नहीं सुनती। हमे चाहे जेल भेज दो या कानूनी कार्रवाई करो, हम हक के लिए आंदोलन करते रहेंगे।

रोजगार के लिए आंदोलन: महामाया माइंस में डौंडी के युवाओं को मिले काम, किया चक्काजाम
आंदोलन के बाद गिरफ्तार पुरुषों को भेजा गया जेल।

एक मार्च से प्रदर्शन, माइंस में सिर्फ स्थानीय को मिले रोजगार
महामाया माइंस क्षेत्र के ग्रामीण कई सालों से क्षेत्र के बेरोजगार युवाओं को माइंस में काम देने की मांग को लेकर विभिन्न संगठनों के नेतृत्व में धरना प्रदर्शन व चक्काजाम करते आ रहे हैं, लेकिन बीएसपी प्रबंधन हर बार ग्रामीणों को काम के बदले आश्वासन दे रहा है। आक्रोशित ग्रामीण एक मार्च से शिवसेना के बैनर तले महामाया माइंस के सामने धरने पर बैठ गए। 4 मार्च से धरना के साथ आंदोलनरत ग्रामीणों ने 7 मार्च तक माइंस की गाडिय़ों को रोक चक्काजाम शुरू कर दिया। जिसे देखते हुए बीएसपी प्रबंधन ग्रामीणों के पास पहुंचा। नया काम चालू कर काम पर रखने का आश्वासन दिया था। लेकिन नया काम शुरू भी हुआ लोगों को रोजगार नहीं दिया। 9 मार्च से धरना प्रदर्शन और चक्काजाम प्रारंभ कर दिया। बीएसपी प्रबंधन ने आंदोलनकारियों के खिलाफ महामाया थाने में लिखित शिकायत कर दी। आंदोलन कर रहे जमीला बेगम, बलराम निषाद का कहना है कि जब तक हमारी मांग पूरी नहीं होती, तब तक हमें जेल भेजें या कुछ भी करें। आंदोलन से पीछे नहीं हटेंगे।

महिलाओं को बेल दे दी गई, पुरुषों को जेल भेज दिया गया
महामाया थाना प्रभारी अरूण कुमार साहू ने बताया कि बीएसपी प्रबंधन की लिखित शिकायत पर आंदोलनकारियों को हिरासत में लेकर दल्लीराजहरा के ओपन थिएटर को अस्थाई जेल बनाकर उन्हें वहां रखा। 41 पुरुषों व 43 महिलाओं के खिलाफ कार्रवाई करते हुए न्यायालय में पेश किया। महिलाओं को बेल दे दी गई। पुरुषों को जेल भेज दिया गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

कर्नाटक के सबसे अमीर नेता कांग्रेस के यूसुफ शरीफ और आनंदहास ग्रुप के होटलों पर IT का छापाPM Modi in Gujarat: राजकोट को दी 400 करोड़ से बने हॉस्पिटल की सौगात, बोले- 8 साल से गांधी व पटेल के सपनों का भारत बना रहापंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतेंई-कॉमर्स साइटों के फेक रिव्यू पर लगेगी लगाम, जांच करने के लिए सरकार तैयार करेगी प्लेटफॉर्मभाजपा प्रदेश अध्यक्ष का हेमंत सरकार पर बड़ा हमला, कहा - 'जब तक सत्ता से बाहर नहीं करेंगे, तब तक चैन से नहीं सोएंगे'Largest Vaccination Drive: भारत में 88% वयस्क आबादी को लग चुकी हैं COVID टीके की दोनों डोजIPL 2022: सिर्फ चौके और छक्के से बटलर ने ठोके करीब 600 रन, विराट कोहली को भी छोड़ा पीछेVIP कल्चर पर पंजाब की मान सरकार का एक और वार, 424 वीआईपी को दी रही सुरक्षा व्यवस्था की खत्म
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.