scriptRajarao Pathar Veer Mela | आदिवासी समाज को आगे बढ़ाने और हक की लड़ाई लड़ने का लिया संकल्प | Patrika News

आदिवासी समाज को आगे बढ़ाने और हक की लड़ाई लड़ने का लिया संकल्प

locationबालोदPublished: Dec 11, 2023 06:54:03 pm

राजाराव पठार वीर मेला की भीड़ के कारण रविवार को नेशनल हाइवे पर वाहनों की कतार लग गई, जिससे जाम हो गया। जाम से लोगों को निजात दिलाने पुलिस को भी मशक्कत करनी पड़ी। हालांकि इस साल बीते साल की तुलना में भीड़ कम रही।

राजाराव पठार वीर मेला: भीड़ के कारण सड़क पर लगा जाम
आदिवासी समाज को आगे बढ़ाने और हक की लड़ाई लडऩे का लिया संकल्प

बालोद. राजाराव पठार वीर मेला की भीड़ के कारण रविवार को नेशनल हाइवे पर वाहनों की कतार लग गई, जिससे जाम हो गया। जाम से लोगों को निजात दिलाने पुलिस को भी मशक्कत करनी पड़ी। हालांकि इस साल बीते साल की तुलना में भीड़ कम रही। वीर मेले में बालोद, धमतरी व कांकेर जिले से हजारों लोग इस वीर मेला को देखने व विविध कार्यक्रम में शामिल होने आए। तीन दिवसीय मेले का रविवार को समापन हुआ। इस दौरान समाज के लोगों ने समाज को आगे बढ़ाने पर विचार किया। साथ ही आदिवासी समाज की हक की लड़ाई लडऩे की भी बात कही।

छत्तीसगढ़ी और आदिवासी संस्कृति की झलक

मेले में छतीसगढ़ की संस्कृति, परंपरा सहित आदिवासी संस्कृति की झलक दिखाई दी। जिले के आदिवासी समाज के युवाओं ने इस मेले में आने वाले हर एक व्यक्ति का पीले चावल से सेवा जोहार करते स्वागत किया। वहीं दूरदराज से आए लोगों ने भी मेले में शहीद वीर नारायण को श्रद्धांजलि दी। साथ ही मेले का आनंद लिया।

बालोद, कांकेर व धमतरी से शामिल हुए लोग
आयोजन में छत्तीसगढ़ के हर जिले से लोग आते हैं। बालोद, कांकेर व धमतरी जिला प्रमुख है। तीन दिवसीय कार्यक्रम में लोगों को छतीसगढ़ की आदिवासी संस्कृति की झलक देखने को मिली। इसके अलावा बस्तर की संस्कृति व बस्तर आट्र्स प्रमुख आकर्षण का केंद्र रहा। यहां आने वाले लोगों ने शहीद वीर नारायण की जीवनी व राजाराव पठार के महत्व को भी समझने का प्रयास किया।

ट्रेंडिंग वीडियो