खून से सड़क हुई लाल, सप्ताहभर में पांच हादसे में 6 घरों के बुझे चिराग

दुर्घटना: तेज रफ्तार ले रही लोगों की जान, सुरक्षा के लिए भी नहीं लगा रहे हेलमेट .

बालोद. छत्तीसगढ़ में सड़क दुर्घटना जोरो पर है। पांच दिनों में हुए पांच अलग-अलग हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई। जिले में रफ्तार के कहर से छह घरों के चिराग बुझ गए। लगातर बढ़ रही दुर्घटना से जिले की सड़कें भी खून से लाल हो रही हैं। बीते दिनों तीन हादसे में पांच लोगों की मौत से पूरा जिला सहम गया। घटना के बाद पुलिस मामला दर्ज कर जांच में जुट गई है। अधिकांश सड़क दुर्घटना तेज रप्तार वाहन व बिना हेलमेट वाहन चलाने और मालवाहक चालकों की ओर से लापरवाहीपूर्वक बिना संकेतक के सड़क किनारे ट्रक एवं हाइवा खड़ा कर देने से हुई।

जनवरी में 29 हादसों में 11 लोगों की मौत, 41 घायल
पुलिस के मुताबिक जनवरी में ही 29 सड़क दुर्घटनाओं में 11 लोगों की मौत हो गई और 41 लोग घायल हो गए। फरवरी के 15 दिनों में 10 दुर्घटनाओं में 7 लोगों की मौत व 15 लोग घायल हो चुके हैं। लगातार बढ़ रही सड़क दुर्घटनाओं पर पुलिस भी अंकुश नहीं लगा पा रही है। जागरुकता अभियान चलाने के बाद भी यातायात नियम के प्रति लोग जागरूक नहीं होने के कारण ही दुर्घटनाएं बढ़ रही है।

जाने पांच दिनों में हादसे के आंकड़े

केस1.
15 फरवरी को दल्ली से डौंडी मुख्य मार्ग पर मोटरसाइकिल व साइकिल की टक्कर से मोटरसाइकिल चालक लाटाबोड़ खपरी निवासी पोखन लाल (55) की मौत हो गइ। वहीं उनका साथी भोईनापार निवासी कोमल घायल हो गया।

केस 2.
गुंडरदेही थाना अंतर्गत ग्राम खप्परवाड़ा के पास 15 फरवरी को ओवरटेक के चक्कर में दो कार भिड़ गई। पांच लोग घायल हो गए। इस घटना में मोटरसाइकिल चालक भेखराम चन्द्राकार (22) को गंभीर चोट आई है। इसके अलावा तीन लोग भी घायल हो गए थे।

केस 3.
14 फरवरी को जिला मुख्यालय के पर्यावरण पार्क के पास लापरवाहीपूर्वक खड़ी रेत से भरे हाइवा से तेज रफ्तार मोटरसाइकिल टकरा जाने से रेलवे कर्मचारी डाइमन व आर्मी जवान माधव की मौत हो गई।

केस 4.
13 फरवरी को दो वाहनों में टक्कर से बेंगलुरू के तातेड़ दंपती की मौत हो गई। घटना डौंडी थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम गोटूलमुड़ा के पास हुई। वे शादी समारोह से वापस रायपुर एयरपोर्ट जा रहे थे। कार सवार सुरेश तातेड़ (52) व उनकी पत्नी निर्मला तातेड़ की मौत हो गई।

केस 5
14 फरवरी को पुरुर के पास एक पेट्रोल पंप के सामने खड़े ट्रक के पीछे से मोटरसाइकिल टकरा जाने से रायपुर माना निवासी शम्भू मंडल की मौत हो गई। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

अधिकांश मौत बिना हेलमेट वाहन चलाने से
पांच दिनों के भीतर हुए हादसे में जितनी भी मौतें हुई हैं, वह बिना हेलमेट के वाहन चलाने से हुई है। इधर पुलिस लापरवाह ट्रक चालकों के खिलाफ भी मामला दर्ज कर कार्रवाई कर रही है।

वर्जन
समय-समय पर लोगों को यातायात नियम के प्रति जागरूक किया जाता है। वाहन चालकों को हेलमेट पहनने के निर्देश दिए जाते हैं। वाहन चालकों की लापरवाही के कारण हादसे हो जाते हैं। अधिकांश दुर्घटना में सिर में चोट लगने से मौतें होती है। हेलमेट को डर से नहीं अपने व अपने परिवार के लिए पहनें।
एमएल कोटवानी, एसपी बालोद

Click & Read More Chhattisgarh News.

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned