छात्रों ने जड़ा ताला, डीईओ को घेरा

छात्रों ने जड़ा ताला, डीईओ को घेरा
Students inlaid lock, DEO hoop

Satyanarayan Shukla | Publish: Jun, 29 2016 11:47:00 PM (IST) Balod, Chhattisgarh, India

तीन दशक से स्कूल में महत्वपूर्ण विषय गणित, रसायन और भौतिकी के शिक्षक नहीं होने से भविष्य को लेकर चिंतित पालकों के साथ छात्र-छात्राओं ने मांग को लेकर बुधवार को चौरेल हाईस्कूल में सुबह 10 बजे स्कूल के द्वार पर ताला जड़ दिया।

बालोद/सिकोसा. तीन दशक से स्कूल में महत्वपूर्ण विषय गणित, रसायन और भौतिकी के शिक्षक नहीं होने से भविष्य को लेकर चिंतित पालकों के साथ छात्र-छात्राओं ने मांग को लेकर बुधवार को चौरेल हाईस्कूल में सुबह 10 बजे स्कूल के द्वार पर ताला जड़ दिया।

विभाग के विरोध में निकाली रैली
बार-बार मांग और शिक्षा की यहां गिरते स्तर की जानकारी देने के बाद भी ध्यान नहीं देने और शिक्षा विभाग की मनमानी से गुस्साए विद्यार्थियों ने स्कूल द्वार के बाहर पहले जमकर नारेबाजी की और फिर गांव में सभी बच्चों ने विभाग के विरोध में रैली निकाली। तब हड़बड़ा कर सुबह 11 बजे पहुंचे जिला शिक्षा अधिकारी मोहन लाल धु्वे ने विद्यार्थियों को आश्वस्त किया कि एक हफ्ते के अंदर स्कूल में शिक्षक की नियुक्ति कर दी जाएगी। डीईओ के उक्त आश्वासन के बाद विद्यार्थियों ने कहा कि मांगें पूरी नहीं हुई तो फिर आंदोलन किया जाएगा।

पंचायत प्रतिनिधियों ने किया नेतृत्व
सालों से गिरते शिक्षा के स्तर से चिंतित व परेशान पालकों व जनप्रतिनिधियों ने विद्यार्थियों के आंदोलन का नेतृत्व पालक शिक्षक समिति व पंचायत प्रतिनिधियों ने ही किया। आंदोलन के पूर्व विद्यार्थियों ने गली भ्रमण किया और अंंत में स्कूल के बाहर आंदोलन पर बैठ गए।

नियुक्ति पत्र पढ़कर सुनाया
सूचना मिलने पर आनन-फानन में आंदोनलरत विद्यार्थियों को शांत कराने के लिए ११.३० बजे तहसीलदार व बीईओ एमएल मिर्चे भी पहुंचे। इस बीच डीईओ व बीईओ जब जाने लगे तब विद्यार्थी उनके वाहन के सामने नारेबाजी की। तब डीईओ ने विद्यार्थियों को शिक्षक नियुक्ति संबंधी पत्र को पढ़कर सुनाया तब विद्यार्थी शांत हुए।

इसलिए विद्यार्थी छोड़ रहे हैं स्कूल 
शाला विकास समिति के अध्यक्ष बलदाऊ चंद्राकर ने कहा कि स्कूल में शिक्षक नहीं होने के लिए विद्यार्थी टीसी निकालना शुरू कर दिए हैं। उन्होंने गणित, रसायन व भौतिकी के पिछले छह वर्षों से नहीं है। सरपंच मनीषा ठाकुर ने कहा कि स्कूल में शिक्षकों की मांग को लेकर जिला शिक्षाधिकारी, ब्लॉक शिक्षाधिकारी एवं जनप्रतिनिधियों को कई बार आवेदन दिए, फिर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। आज के इस आंदोलन को लेकर उच्चाधिकारियों को अवगत कराया गया था। पंच मणीराम ने बताया स्कूल में शिक्षकों की कमी के चलते प्रतिभावान विद्यार्थी अध्यापन से वंचित हो रहे हैं।

तीन दशक से शिक्षकों की कमी
ज्ञात हो कि ब्लॉक के ग्राम चौरेल के हायर सेकंडरी स्कूल में लगभग 30 साल से शिक्षकों की कमी है। मामले में संबंधित विभाग, शासन-प्रशासन सहित जनप्रतिनिधियों को परेशानी बताई पर आज तक समाधान नहीं हो पाया। नतीजा ये रहा है कि हर साल शिक्षा का स्तर गिरने लगा है। शिक्षकों की कमी के कारण साइंस विषय की तो पढ़ाई ही नहीं हो पा रही है क्योंकि गणित, भौतिकी और रसायन विषय को पढ़ाने वाले ही नहीं हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned