Superstition : कलक्टर को मारने यहां नीबू-मिर्च और नारियल से तांत्रिक क्रिया

Superstition : कलक्टर को मारने यहां नीबू-मिर्च और नारियल से तांत्रिक क्रिया
कलेक्टोरेट में नीबू-मिर्च और नारियल देख उड़े सफाई कर्मियों के होश, एसडीएम ने कहा तोड़ दो नारियल मैं खाउंगी

Satyanarayan Shukla | Publish: Oct, 09 2019 11:21:16 PM (IST) Balod, Balod, Chhattisgarh, India

जिले के सबसे बड़े कलक्टोरेट कार्यालय में किसी शरारती तत्वों द्वारा कथित तंत्र क्रिया से कर्मचारियों में भय व्याप्त है। दरअसल आज कलेक्टोरेट परिसर के मुख्यद्धार पर सफेद कपड़े में नीबू, बंदन, चावल सहित नारियल बांधकर फेंक दिया था।

बालोद@patrika. जिले के सबसे बड़े कलक्टोरेट कार्यालय (Balod collector office) में किसी शरारती तत्वों द्वारा कथित तंत्र क्रिया से कर्मचारियों में भय व्याप्त है। दरअसल आज कलेक्टोरेट परिसर के मुख्यद्धार पर सफेद कपड़े में नीबू, बंदन, चावल सहित नारियल बांधकर फेंक दिया था। (Balod patrika news) सुबह जब महिला सफाई कर्मी ने उसे देखा तो जादू टोना समझकर चौक गई। इसकी जानकारी उन्होंने अन्य कर्मचारियों को दी। एक कर्मचारी ने हिम्मत दिखाते हुए कथित तांत्रिक (Tantric action) सामग्री को फेंका उसके बाद कर्मचारियों ने राहत की सांस ली।

चैनल गेट के सामने पेपर में लिपटी कुछ सामग्री दिखी

बताया जाता है कि सुबह दो महिला सफाई कर्मी कलक्टोरेट की सफाई कर रही थी, तभी चैनल गेट के सामने पेपर में लिपटी कुछ सामग्री दिखी। महिला कर्मी ने खोलकर देखा तो सफेद कपड़े में कटे नीबू, बन्दन व नारियल थे। उसे तुरंत वहीं पर फेंक दिया। महिला कर्मी इतनी भयभीत हो गई थी कि दोपहर 12 बजे के बाद घटना की जानकारी कर्मचारियों को दी।

कलेक्टोरेट में नीबू-मिर्च और नारियल देख उड़े सफाई कर्मियों के होश, एसडीएम ने कहा तोड़ दो नारियल मैं खाउंगी

आखिर किसने और क्यों किया, रहस्य
सरकारी विभाग में इस तरह की यह पहली घटना है। इसकी चर्चा पूरे कलक्टोरेट परिसर में दिनभर होती रही। आखिर इस तरह की हरकत किसने, कब और क्यों की? अनुमान लगाया जा रहा है कि किसी विभाग के परेशान कर्मचारी ने अधिकारी से छुटकारा पाने या स्थानांतरण की नियत से किया गया होगा। इस तंत्र क्रिया से किसी के ऊपर कोई असर होगा या नहीं यह तो बाद में पता चलेगा किंतु लोगों में भयमिश्रित किसी अनहोनी को लेकर डरे हुए हैं। कोई कुछ खुलकर कहने को तैयार नहीं है। वहीं तंत्र क्रिया के जामकार की मानें तो किसी ने शत्रु को परेशान के लिए यह क्रिया अपनाई है। बताया जाता है कि एसडीएम थॉमस सिल्ली और नायब तहसीलदार जगबन्धु भी इसे देखकर उल्टे पांव लौट गए। इससे भी अंदाजा लगाया जा सकता है कि पढ़े-लिखे अधिकारी भी कैसे अंधविश्वास पर भरोसा करते हैं। बाद में उन्होंने कर्मचारियों से कहा कि इस ओर ध्यान देने की जरुरत नहीं है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned