scriptThe main accused of the scam reached behind the bars of the jail | मुख्य आरोपी नारायणपुर से गिरफ्तार, भेजा जेल, घोटाले की रकम आपस में बांटते थे तीनों आरोपी, दोनों भी जल्द पकड़े जाएंगे | Patrika News

मुख्य आरोपी नारायणपुर से गिरफ्तार, भेजा जेल, घोटाले की रकम आपस में बांटते थे तीनों आरोपी, दोनों भी जल्द पकड़े जाएंगे

बालोद जिले की बहुचर्चित जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित दुर्ग की निपानी शाखा में हुए घोटाले के फरार मुख्य आरोपी पूर्व कैशियर अजय भेडिय़ा को बालोद पुलिस ने नारायणपुर के जंगल से गिरफ्तार कर लिया। उसे न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया है।

बालोद

Published: March 05, 2022 11:25:47 pm

बालोद. balod patrika news जिले की बहुचर्चित जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित दुर्ग की निपानी शाखा में हुए घोटाले के फरार मुख्य आरोपी पूर्व कैशियर अजय भेडिय़ा को बालोद पुलिस ने नारायणपुर के जंगल से गिरफ्तार कर लिया। उसे न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया है। एसपी (SP) सदानंद कुमार ने पुलिस कंट्रोल रूम में प्रेस कान्फ्रेंस लेकर इसका खुलासा किया। वहीं पुलिस न्यायालय से अनुमति मांगकर आरोपी को पुलिस रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी। आरोपी से गबन के बारे में जानकारी ली जाएगी। जल्द ही पूर्व ब्रांच मैनेजर की भी गिरफ्तारी हो सकती है।

जिला सहकारी केंद्रीय बैंक मर्यादित दुर्ग की निपानी शाखा में घोटाला
एसपी सदानंद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में मामले की दी जानकारी।

पुलिस से बचने नारायणपुर में छिपा था मुख्य आरोपी
एक सप्ताह पहले जिला सहकारी केंद्रीय बैंक बालोद के नोडल अधिकारी सत्येंद्र कुमार वेदे ने कोतवाली थाने में निपानी बैंक शाखा के घोटाले में पूर्व कैशियर अजय भेडिय़ा, ब्रांच मैनेजर तामेश्वर नागवंशी व क्लर्क दौलत ठाकुर के खिलाफ धारा 420, 409, 34 के तहत मामला दर्ज कराया था। मुख्य आरोपी अजय भेडिय़ा घर से फरार था। आरोपी को पकडऩे पुलिस ने मुखबिर भी लगाए थे। आरोपी अजय भेडिय़ा नारायणपुर में होने की जानकारी मिली तो नारायणपुर व बालोद पुलिस की टीम ने मिलकर नारायणपुर से गिरफ्तार कर लिया।

ये भी पढ़ें : सहकारी बैंक में घोटाला : कोई पर्ची न एंट्री जब मांगो बैंककर्मी देता था रुपए

पूर्व ब्रांच मैनेजर व अस्पताल में भर्ती क्लर्क भी होंगे गिरफ्तार
इस मामले में अब पूर्व ब्रांच मैनेजर तामेश्वर नागवंशी व क्लर्क दौलत ठाकुर की भी गिरफ्तारी की जाएगी। दौलत ठाकुर का स्वास्थ्य खराब है। वह रायपुर के एक अस्पताल में भर्ती है। स्वस्थ होने पर उसे भी पुलिस गिरफ्तार करेगी।

पत्रिका ने उठाया मामला, तब हुई एफआईआर
पत्रिका ने सबसे पहले 23 फरवरी को बैंक घोटाले का खुलासा किया था। लगातार समाचार प्रकाशित किया। समाचार प्रकाशन के बाद ही जांच शुरू हुई। खाते में हेराफेरी की राशि भी वापस होने की कार्रवाई शुरू हुई। अब मुख्य आरोपी अजय भेडिय़ा की गिरफ्तारी भी हो गई।

बैंक अध्यक्ष व किसानों ने कहा-धन्यवाद पत्रिका
जिला सहकारी केंद्रीय बैंक दुर्ग के अध्यक्ष जवाहर वर्मा ने कहा कि मामले को पत्रिका ने लगातार समाचार प्रकाशित कर किसानों के हक की लड़ाई लड़ी। अब आरोपी की गिरफ्तारी भी हुई। बालोद पुलिस ने भी तत्परता से आरोपी की गिरफ्तारी किया। इस नेक कार्य के लिए पत्रिका (patrika) को धन्यवाद। वहीं किसानों ने भी पत्रिका का आभार माना।

अब तेजी से होगी जांच व किसानों की राशि की वापसी
जांच अधिकारी व जिला सहकारी केंद्रीय बैंक दुर्ग के अध्यक्ष जवाहर वर्मा ने कहा कि अजय भेडिय़ा की गिरफ्तारी जरूरी थी। आरोपी से यह पता करेंगे कि आखिर कितने खाते से कितनी गड़बड़ी की है। इस आधार पर जांच चलेगी। खाते का मिलान कर किसानों के खाते में राशि जमा की जाएगी।

ये भी पढ़ें : लाखों रुपए डकार गए बैंककर्मी, जांच में बरत रहे कोताही

थाना प्रभारी की सक्रियता से हुई गिरफ्तारी
एसडीओपी प्रतीक चतुर्वेदी एवं थाना प्रभारी मनीष शर्मा के नेतृत्व में निपानी में जाकर आमनतदारों का बयान लिया गया। जरूरी दस्तावेज को बैंक से प्राप्त कर जब्त किए गए। साइबर सेल प्रभारी डीएसपी राजेश बागड़े के पर्यवेक्षण में अलग-अलग टीम बनाकर फरार आरोपी की पतासाजी के लिए उपनिरीक्षक कैलाश मरई, अमित तिवारी, यामन देवागंन के नेतृत्व में रायपुर, दुर्ग-भिलाई, राजनांदगांव, धमतरी में दबिश दी गई। एक टीम तकनीकी विश्लेषण कर मदद की। तकनीकी विश्लेषण एवं मुखबिर से प्राप्त सूचना के आधार पर 4 मार्च की रात्रि निरीक्षक मनीष शर्मा के नेतृत्व में टीम को मुख्य आरोपी अजय कुमार भेडिय़ा के पकडऩे नारायणपुर रवाना किया गया। जहां से पकड़कर शनिवार को बालोद थाने लाया गया।

तीन-चार साल से घोटाला, तीनों आपस में बांटते थे राशि
आरोपी ने प्रारंभिक पूछताछ में अमानतदारों का 3-4 वर्षो से खाताधारकों का फर्जी फिक्स डिपाजिट कर, पासबुक में फर्जी पैसा सबंधित जानकारी उल्लेखित कर, खाताधारकों के खाते से फर्जी पैसा आहरण पर्ची भरकर पैसा निकाल लेना एवं पैसों को अपने सह आरोपियों लिपिक दौलत राम ठाकुर एवं शाखा प्रबंधक तामेश्वर नागवंशी के साथ आपस में बांटना स्वीकार किया गया है। अरोपी से पूछताछ जारी है। आगे कई बड़े खुलासे हो सकते है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

IPL 2022: टिम डेविड की तूफानी पारी, मुंबई ने दिल्ली को 5 विकेट से हराया, RCB प्लेऑफ मेंपेट्रोल-डीज़ल होगा सस्ता, गैस सिलेंडर पर भी मिलेगी सब्सिडी, केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलान'हमारे लिए हमेशा लोग पहले होते हैं', पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती पर पीएम मोदीArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसऑस्ट्रेलिया के चुनावों में प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन हारे, एंथनी अल्बनीज होंगे नए PM, जानें कौन हैं येगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दजापान में होगा तीसरा क्वाड समिट, 23-24 मई को PM मोदी का जापान दौरा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.