तेज गर्मी से निस्तार की चिंता, तीन जिले के प्यासे 900 तालाबों की जलाशय बुझाएगा प्यास

जैसे-जैसे गर्मी से पारा बढऩे लगा है वैसे-वैसे पीने व निस्तार के पानी की परेशानी तीन जिलों में बढऩे लगी है। ऐसे में जलाशयों से पानी छोडऩे मांग उठने लगी है। इसी के तहत गोंदली जलाशय से पानी छोड़ा गया है। आगे मांग के अनुरूप तांदुला का भी गेट खोलने की तैयारी है।

By: Niraj Upadhyay

Published: 04 Apr 2019, 08:10 AM IST

बालोद. गर्मी बढऩे के साथ अब नदी, नाले, तालाब, कुएं सूखने लगे हैं। कई गांवों में बोर फेल हो रहा है। ऐसे में निस्तारी की समस्या भी खड़ी हो गई है। इधर जलाशयों से पानी छोडऩे के लिए ग्रामीण भी सिंचाई विभाग और पीएचई विभाग के चक्कर लगाने लगे हैं। वहीं कहीं खराब हैंडपंप की शिकायत लेकर आने लगे हैं, तो कहीं नए बोर खनन की मांग कर रहे हैं।

गोंदली से भरे जा रहे हैं 46 तालाब
ग्रामीणों की मांग पर सिंचाई विभाग ने दो दिन पहले ही गोंदली जलाशय के द्वार को निस्तारी के लिए खोल दिया है, इससे क्षेत्र के लगभग 40 तालाब भरेंगे, जिसमें से जिला मुख्यालय के 6 तालाब भी शामिल हैं। वहीं ग्रामीणों की भी मांग आने के बाद सिंचाई विभाग भी जल्द ही तांदुला जलाशय का गेट खोलने की तैयारी में है। जानकारी के मुताबिक आने वाले सप्ताह में तांदुला जलाशय से भी निस्तारी के लिए पानी छोड़ा जाएगा।

तांदुला से पानी छोडऩे किसानों ने विभाग को दिए आवेदन
गोंदली जलाशय से पानी छोडऩे के बाद अब तांदुला जलाशय से भी पानी छोडऩे की मांग ग्रामीण करने लगे हैं। पर जानकारी यह भी मिल रही कि अभी तक 17 गांवों से ज्यादा क्षेत्र के लोगों ने आकर पानी छोडऩे के लिए आवेदन दिए हैं। ऐसे में जल्द निर्णय लेकर सिंचाई विभाग भी जलाशय से पानी छोडऩे की बात कह रहा है।

नगर पालिका के छह तालाब गोंदली के पानी से भरेंगे
इधर नगर पालिका अध्यक्ष विकास चोपड़ा ने बुधवार को अपने साथियों के साथ गोंदली नहर के केनाल की सफाई कराई। बता दें कि इसी केनाल के जरिए ही नगर के 6 तालाबों में पानी भरा जाएगा। पालिका अध्यक्ष ने बताया तालाबों में पानी भरा जाना है इसलिए नहर की सफाई जरूरी है, नहीं तो पानी के साथ गंदगी भी तालाबों में चली जाती है। उसके बाद पालिका केनाल का गेट खोलेगी। यहां के तालाबों में पानी की कमी होने लगी है।

तांदुला जलाशय से भरे जाएंगे 900 तालाब
सिंचाई विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक जिले में चार प्रमुख जलाशय हैं, जहां से तीन जिले के तालाबों में निस्तारी के लिए पानी दिया जाता है। जिसमें गोंदली जलाशय से 40, तांदुला से 900 तालाब जो बालोद, दुर्ग और बेमेतरा जिला भी शामिल है। इसके अलावा खरखरा व मटियामोती से 30 व 35 तालाब भरे जाते हैं। इधर मामले में सिंचाई विभाग के ईई सतीश कुमार टीकम ने कहा नगर पालिका से तालाबों में पानी छोडऩे पत्र आया था। गोंदली जलाशय का गेट खोल दिए हैं। तांदुला जलाशय से भी पानी निस्तारी के लिए छोडऩे ग्रामीणों से पत्र आ रहा है। जल्द ही तांदुला जलाशय से भी पानी छोड़ा जाएगा।

Niraj Upadhyay Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned