मानवीय पहल: आत्महत्या करने के लिए युवती तांदुला जलाशय में कूदी, मसीहा बनकर आए युवक ने बचाया

बालोद जिला मुख्यालय के तांदुला बांध में गुरुवार को 18 साल की युवती आत्महत्या करने के लिए गहरे पानी में कूद गई। लेकिन एक युवक ने समय रहते जलाशय में कूदकर डूबती युवती को बचा लिया।

By: Chandra Kishor Deshmukh

Published: 05 Mar 2021, 08:11 PM IST

बालोद. जिला मुख्यालय के तांदुला बांध में गुरुवार को 18 साल की युवती आत्महत्या करने के लिए गहरे पानी में कूद गई। लेकिन एक युवक ने समय रहते जलाशय में कूदकर डूबती युवती को बचा लिया। बेहोशी की हालत में जिला अस्पताल ले जाकर पुलिस व ग्रामीणों ने इलाज कराया। युवती की स्थिति सामान्य है। ले किन कुछ बोल नहीं पा रही है।

घटना का कारण अज्ञात
पुलिस युवती से इसका कारण में जानने में जुटी है। इधर डूबती युवती को बचाने वाले साहसी युवक सतीश के नेक कार्य की लोगों ने सराहना की। थाना प्रभारी जीएस ठाकुर ने बताया कि आत्महत्या का प्रयास करने वाली युवती का नाम काजल गुप्ता पिता मनोहर गुप्ता निवासी पांडेपारा बालोद है। वह 12वीं की छात्रा है। घटना का कारण अज्ञात है।

कोचिंग के लिए निकली थी घर से, 10 बजे तांदुला में कूद गई
पुलिस ने परिजनों से पूछताछ की तो पता चला कि युवती कोचिंग के लिए अपने घर से सुबह 7 बजे रोज की तरह निकली थी। कोचिंग सेंटर भी गई, लेकिन बाद में वह घर न जाकर तांदुला जलाशय चली गई। सुबह 10 बजे जलाशय में कूद गई। काजल किसके साथ जलाशय व क्यों गई थी, यह स्पस्ट नहीं है।

पानी में डूबते देख कूदा युवक
युवती की जान बचाने वाले युवक सतीश निषाद ने बताया कि वह अपने दोस्तों के साथ घूमने आया था। तभी तांदुला में आदमाबाद देउरतराई इलाके में एक अनजान युवती ने कूदकर आत्महत्या की कोशिश की, जो पानी में डूबने के दौरान बचाने के लिए आवाज लगाने लगी, फिर वह पानी में डूब गई थी। जिसे देखकर दौड़ते हुए आया और जलाशय में कूद गया। जैसे-तैसे हाथ पकड़ कर उसे बाहर निकाला। अन्य दोस्तों में सतीश ठाकुर, लोकेंद्र, नरेंद्र ठाकुर, देव यादव ने मिलकर लड़की को उठाकर जलाशय के ऊपर लाए। ग्रामीणों को सूचना दी, तभी वहां से गुजर रहे पुलिस वाहन से आनन-फानन में उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उसकी जान बच गई है। वह अभी बेहोशी की हालत में थी, लेकिन अब ठीक है।

समय पर पानी से नहीं निकालते तो चली जाती जान
प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक जलाशय में डूब रही युवती को अगर समय पर नहीं निकालते तो उनकी जान भी चली जाती। क्योंकि डूबते समय युवती ने पानी पी लिया था। बेहोशी की हालत में थी। समय पर पानी से नहीं निकालते तो मौत भी हो सकती थी। वहीं अपनी बेटी की इस हरकत से परिजन भी परेशान हैं।

Show More
Chandra Kishor Deshmukh Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned