स्वास्थ्य विभाग को दी गई थी संदिग्ध मरीज की खबर, जांच के बाद कोरोना होने की खबर निकली झूठी

सुपेबेड़ा के ग्रामीण त्रिलोचन सोनवानी द्वारा गाव में एक कोरोना का संदिग्ध मरीज होने जैसी खबर स्वास्थ्य विभाग को दिए जाने बाद प्रशानिक अमले में हडकंप की स्थिति निर्मित होगी थी

By: Bhawna Chaudhary

Updated: 21 Mar 2020, 04:46 PM IST

देवभोग. सुपेबेड़ा के ग्रामीण त्रिलोचन सोनवानी द्वारा गाव में एक कोरोना का संदिग्ध मरीज होने जैसी खबर स्वास्थ्य विभाग को दिए जाने बाद प्रशानिक अमले में हडकंप की स्थिति निर्मित होगी थी मामले में त्रिलोचना द्वारा आशंका जताते हुए बीएमओ डॉ सुनील भारती को जानकारी दी गई थी कि गाँव में एक व्यक्ति कारों से पीड़ित हो सकता है ,उसके अंदर इस तरह के लक्षण भी दिख रहे है ।

वही मामले की खबर मिलने के बाद तत्काल सुपेबेड़ा के लिए नायब तहसीलदार कृष्णमूर्ति दीवान,बीएमओ डॉ.सुनील भारती और थाना प्रभारी सत्येन्द्र सिंह श्याम अपनी टीम के साथ रवाना हुए ग्रामीण द्वारा दी गई । जानकारी के आधार पर बीएमओ और उनकी टीम ने सम्बंधित व्यक्ति क घर जाकर पूरे मामले की जानकारी ली जिस पर सम्बंधित युवक ने बताया कि वह रायपुर से 11 मार्च को ही घर लौटा था । वही उसने धर्मगढ़ (ओडिशा) में इलाज करवाया है जहां के दौरान टायफाइट होना बताया गया है ।
जिसके बाद चिकित्सक द्वारा दी गई दवाइयों का सेवन वह लगातार कर रहा है । युवक ने ओडिशा के धर्मगढ़ं में इलाज के दौरान चिकित्सक द्वारा लिखी गई टायफाइट के दवाइयों की पर्ची भी बीएमओ को दिखाई ।

बीएमओ सुनील भारती ने कहा की कोरोना का संदिग्ध मरीज होने की जानकारी गाँव के त्रिलोचन सोनवानी द्वारा दी गई थी , जिसके बाद जाँच करने पर पता चला कि जानकारी भ्रामक है ।

Corona virus corona virus in india corona virus origin
Show More
Bhawna Chaudhary
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned