खरमास माह में नहीं होंगे शुभ और वैवाहिक कार्य, फ‍िर जानिए कब से शुरू होंगे मंगलकार्य

- मुहूर्तों की कुछ तारीखों को लेकर संशय की स्थिति
- 11 दिसंबर के बाद विवाह के शुभ मुहूर्त समाप्त

By: Ashish Gupta

Published: 14 Dec 2020, 12:24 AM IST

भाटापारा. 11 दिसंबर के बाद विवाह के शुभ मुहूर्त समाप्त हो गए हैं। अब इसके बाद अगले साल 22 अप्रैल से विवाह के शुभ मुहूर्त प्रारंभ होंगे। ऐसा अभी पंडितों का कहना है कुछ लोग जहां 22 अप्रैल से मुहूर्त होना बता रहे हैं। वहीं, कुछ लोग 24 अप्रैल से पहला मुहूर्त होना बता रहे हैं। अभी इन तारीखों को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है। 15 दिसंबर से खरमास (Kharmas 2020) शुरू होने के बाद शुभ कार्य बंद हो जाएंगे। अगले साल भी विवाह की धूम आधा अप्रैल के गुजर जाने के बाद शुरू होगी। जनवरी से लेकर मार्च 2021 तक विवाह का एक भी मुहूर्त दिखलाई नहीं पड़ रहा है। नए वर्ष यानी 2021 में 22 अप्रैल से शुभ मुहूर्त की शुरुआत होगी।

बृहस्पति और शुक्र ग्रह के कारण साल के शुरुआती महीनों में विवाह नहीं हो पाएंगे। मकर संक्रांति के बाद 19 जनवरी से 16 फरवरी तक गुरु अस्त रहेगा। फिर 16 फरवरी से ही शुक्र 17 अप्रैल तक अस्त रहेगा। इस कारण विभाग का पहला मुहूर्त 22 अप्रैल को माना जा रहा है। 16 फरवरी को बसंत पंचमी है। इस दिन को अबूझ मुहूर्त के रूप में हमेशा माना जाता रहा है। लेकिन, इस बार इस दिन सूर्योदय के साथ ही शुक्र अस्त हो जाएगा।

15 दिसंबर से खरमास शुरू होते ही सूर्य का धनु राशि में हो रहा प्रवेश, करें ये काम होगा धन लाभ

इस कारण से फिलहाल इसे विवाह मुहूर्त में नहीं गिना जा रहा है। हालांकि, लोक परंपरा के चलते इस दिन को अबूझ मुहूर्त में गिना जाता है और लोग विवाह एक दिन अवश्य करते हैं। आने वाले समय पर ही पता चलेगा कि इस साल इस दिन विवाह होंगे अथवा नहीं। नए वर्ष में अप्रैल, मई, जून, जुलाई में विवाह के लिए मुहूर्त हैं। इन 4 माह में कुल 21 शुभ मुहूर्त ही है। इसके बाद नवंबर और दिसंबर में विवाह के शुभ मुहूर्त रहेंगे।

जनवरी-फरवरी में मुहूर्त को लेकर असमंजस
कुछ लोगों का मानना है कि जनवरी में एक मुहूर्त और फरवरी में दो मुहूर्त संभावित हैं, परंतु इन मुहूर्त को लेकर अभी असमंजस की स्थिति बनी हुई है। पंडितों के बीच भी एक राय नहीं होने से अभी इन तारीखों को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है। कुछ लोग जनवरी में 18 तारीख को शुभ मुहूर्त बता रहे हैं, जबकि कुछ लोग फरवरी में 15, 16 को भी शुभ मुहूर्त बता रहे हैं। लेकिन, इन तीनों तारीखों में संशय बना हुआ है।

अनूठी मिसाल: बाबुल से दहेज में पौधे लेकर विदा हुई दुल्हन, दूल्हे से लिया जिंदगी भर इन पौधों की रक्षा करने का वचन

शुभ मुहूर्त
अप्रैल में। 22, 24, 25, 26, 27, 30
मई में 1, 3, 7, 8, 15, 21, 22, 24
जून में 4, 5, 19, 30
जुलाई में 1, 2, 15

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned