वैवाहिक मूहूर्त में शादी की अनुमति लेने लगी लंबी लाइन, नियमों का हो रहा है उल्लंघन

जिले में कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद धारा 144 लागू की गई है। इसके बावजूद कलक्टोरेट में भीड़ जमा हो रही है। इससे प्रशासन की बड़ी लापरवाही उजागर हुई है। विदित हो कि कई दिनों से ग्रामीण विवाह की अनुमति के लिए पहुंच रहे हैं और एकाएक संख्या बढ़ गई है।

बलौदाबाजार. प्रदेश के नगरीय और ग्रामीण इलाकों में ग्रीष्मकाल के वैवाहिक मुहूर्तों को विवाह के लिए सबसे बढिय़ा माना जाता है। परंतु कोरोना संक्रमण और लॉकडाऊन की वजह से अप्रैल तथा अक्षय तृतीया के मुहूर्तों में किसी प्रकार के वैवाहिक कार्यक्रम न होने के बाद अब वैवाहिक कार्यक्रमों की अनुमति के लिए बलौदाबाजार कलक्टर परिसर में इन दिनों बड़ी संख्या में ग्रामीणों की भीड़ जुटती हुई नजर आ रही है। तेज धूप के बावजूद आवेदन देने लोगों की लंबी कतार लगी रहती है। इस दौरान लॉकडाउन नियमों का खुला उल्लंघन किया जा रहा है।

गौरतलब हो कि जिले में कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद धारा 144 लागू की गई है। इसके बावजूद कलक्टोरेट में भीड़ जमा हो रही है। इससे प्रशासन की बड़ी लापरवाही उजागर हुई है। विदित हो कि कई दिनों से ग्रामीण विवाह की अनुमति के लिए पहुंच रहे हैं और एकाएक संख्या बढ़ गई है। वैवाहिक कार्यक्रमों के लिए किस प्रकार आयोजन किया जाना है, कितने लोग रहेंगे, अनुमति की प्रक्रिया क्या होगी आदि विषयों पर जिला प्रशासन ने समय पर नियमों की लोगों को जानकारी नहीं दी है। इसलिए यह स्थिति निर्मित हुई है।

दरअसल लॉक डाउन खुलने के इंतजार में लोगों ने शादी कार्यक्रम कुछ दिनों के लिए टाल दिए थे, लेकिन बलौदाबाजार जिले में 19 कोरोना पॉजिटिव मिलने से सबका सब्र टूट गया है। जिले में धारा 144 लागू कर दी गई, लोगों का धूमधाम से शादी करने का सपना टूट गया है। मजबूरी में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए शादी करने को तैयार हुए और इसकी अनुमति के लिए कलक्टर कार्यालय पहुंच गए।

मंगलवार को कलेक्टोरेट परिसर में हजारों लोगों की भीड़ जुट गई। हसौद निवासी सत्यनारायण पटेल ने बताया कि अपने परिजनों के लिए शादी की अनुमति लेने वे सुबह से यहां पहुंचे थे। यहां पर लंबी लाइन लगी थी इसके बाद पुलिस प्रशासन द्वारा उन्हें वहां से हटाया गया। जिला प्रशासन द्वारा बताया गया कि शादी के लिए किसी भी प्रकार की अनुमति की जरूरत नहीं है।

भोथीडीह निवासी गोमान सिंह साहू ने बताया कि शादी ब्याह के कार्यक्रम के लिए पहले प्रशासन से अनुमति लेने को कहा गया था, इसलिए वे लोग यहां पहुंचे थे। यहां लगी लंबी कतार से लोग भी भयभीत हो गए। उन्होंने कहा कि प्रशासन को इसकी व्यवस्था करनी चाहिए।

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned