केन्द्र से मिली राशि और योजनाओं की आड़ में कांग्रेस वाहवाही बटोर रही: शिवरतन शर्मा

प्रदेश में कोरोना संक्रमण के सर्वाधिक परीक्षण एवं उपचार का कार्य एम्स के भरोसे चल रहा है। एक ओर जहां दिल्ली सहित अन्य राज्यों में कोरोना की रोकथाम के लिए अधिक सेम्पलिंग लेने पर जोर देते हुए गति बढ़ा दी गई है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 08 Jul 2020, 07:48 PM IST

बलौदाबाजार. वैश्विक महामारी का रूप धारण कर चुका कोरोना संक्रमण के प्रदेश में फैलने के बावजूद राज्य सरकार इसके प्रति गंभीर नही है। राज्य में सभी संभागीय मुख्यालयों में कोरोना टेस्ट लैब स्थापित करने के लिए तीन माह पूर्व निर्णय लिए जाने के बावजूद दुर्ग, अंबीकापुर आदि में आज तक लैब का संचालन शुरू नहीं हो पाया है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के सर्वाधिक परीक्षण एवं उपचार का कार्य एम्स के भरोसे चल रहा है। एक ओर जहां दिल्ली सहित अन्य राज्यों में कोरोना की रोकथाम के लिए अधिक सेम्पलिंग लेने पर जोर देते हुए गति बढ़ा दी गई है।

वहीं प्रदेश सरकार की लापरवाही के चलते सेम्पलिंग में वृद्धि होने की बात तो दूर है, संक्रमित मरीज का उपचार के पश्चात उसका सेम्पल लेकर जांच करने की बजाय मरीज से पुछताछ कर स्वस्थ्य होने की जानकारी देने पर वापस घर भेज दिया जा रहा है। प्रदेश सरकार में वन मेन शो का राज होने के कारण प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री को भी जिला के स्वास्थ्य अधिकारियों व प्रशासनिक अधिकारियों से वीडियों कांफ्रे न्सिग से चर्चा करने के लिए सीएस अनुमति लेनी पड़ती है।

भाजपा जिला कार्यालय में मंगलवार को आयोजित प्रेसवार्ता में भाजपा के प्रदेश महामंत्री एवं भाटापारा विधायक शिवरतन शर्मा ने उक्त उद्गार व्यक्त करने के साथ प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर निशाना साधते हुए कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा दी गई राशि तथा संचालित योजनाओं की आड़ में प्रदेश सरकार जनता को गुमराह कर वाहवाही बटोरने में लगी है। कोरोना महामारी के दौरान प्रदेश में सर्वाधिक रोजगार केन्द्र सरकार की मनरेगा योजना के तहत उपलब्ध हुआ है। केन्द्र सरकार द्वारा बीपीएल परिवारों के लिए एक रुपए किलों में दिए जाने वाले चांवल को राज्य सरकार मुफ्त में देकर वाहवाही बटोरने में लगी थी।

प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश सुरक्षित है

शिवरतन शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश सुरक्षित रहने तथा विकास की राह पर तेजी से आगे बढऩे का दावा करते हुए कहा कि सन् 1962 में चीन द्वारा भारत की 56 हजार किमी भूमि पर तथा यूपीए के शासन काल में 13 हजार किमी जमीन पर कब्जा कर रखा है। लेकिन कुछ दिनो पूर्व चीन द्वारा गलवान घाटी व डोकलाम में कब्जा करने की नियत से चीन द्वारा की गई नापाक कोशिश का भारत द्वारा मुंहतोड़ जवाब दिया गया है। जिसके कारण चीन की सेना को पीछे हटना पड़ा है।

राष्ट्रीय सुरक्षा के मसले पर एक ओर जहां सभी दल एक होकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में विश्वास जता रहे है। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के नेता सर्जिकल स्ट्राईक, डोकलाम, व गलवान घाटी के मामले में राजनीति करने में लगे हुए है। इस अवसर पर भाजपा के जिलाध्यक्ष डॉ. सनम जांगड़े, टेसूलाल धुरंधर, नपाध्यक्ष चितावर जायसवाल, सुरेन्द्र टिकरिहा, नंदकुमार साहू, पुनीत यादव, संकेत शुक्ला, मणीकांत तिवारी उपस्थित थे।

bjp leader
Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned