अनुविभागीय अधिकारी पर श्रमिकों ने लगाया शोषण का आरोप, पर नहीं हो रही कार्रवाई

अनुविभागीय अधिकारी पर श्रमिकों ने लगाया शोषण का आरोप, पर नहीं हो रही कार्रवाई

Akanksha Agrawal | Updated: 10 Jul 2019, 02:58:10 PM (IST) Baloda Bazar, Baloda Bazar, Chhattisgarh, India

जल प्रबंध उप संभाग में पदस्थ अनुविभागीय अधिकारी पर श्रमिकों ने शोषण करने का आरोप लगाते हुए इनकी शिकायत कलक्टर से कर कार्रवाई की मांग गई थी। पर अब तक किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हुई है।

श्रमिकों. जल प्रबंध उप संभाग क्रमांक 7 में पदस्थ अनुविभागीय अधिकारी पर श्रमिका ने तानाशाहीपूर्वक व्यवहार, मुख्यालय से गायब रहने, शासकीय वाहन चालक से अपने स्वयं के कार को चलवानेे व शोषण करने का चार माह पूर्व आरोप लगाते हुए इनकी शिकायत जल संसाधन मंत्री प्रमुख अभियंता, मुख्य अभियंता, कार्यपालन अभियंता व जिला कलक्टर से कर कार्रवाई की मांग गई थी। किन्तु अब तक उक्त शिकायत पर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं हुई है।

जल प्रबंध संसाधन में कार्यरत श्रमिक रामचंद साहू व मोहित ने दिए हुए शिकायत पत्र में उल्लेख करते हुए बताया कि अनुविभागीय अधिकारी एनके पाण्डेय सिंचाई कॉलोनी बलौदाबाजार में लगभग 3-4 वर्षो से निवासरत है। इनके द्वारा अपने अधीनस्थ श्रमिक रामाधार रजक ग्राम पौंसरी, संतोष वर्मा ग्राम पौंसरी, सीताबाई यादव पौंसरी, नंदकुमार यादव बलौदाबाजार, शंकर कन्नौजे लटुवा, दिनेश देवदास को अपने घर में बुलाकर अपना निजी काम करवाकर शोषण कर रहे हंै। इन श्रमिकों का वेतन प्रतिमाह 20 से 22 हजार रुपए है। किन्तु जिम्मेदार अधिकारी द्वारा अपने ही विभाग के श्रमिक कर्मचारियों को अपने घर में कार्य कराए जा रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि बीबीसी नहर नाली में लगभग 70 करोड़ रुपए का काम चल रहा था, जो वर्तमान में बरसात के चलते काम रुका हुआ है। पूर्व में चल रहे निर्माण कार्यो में जल संसाधन विभाग में पदस्थ शासकीय कर्मचारियों की देखरेख में होने से निर्माण कार्य में गुणवत्ता होता। किन्तु अनुविभागीय अधिकारी एनके पाण्डेय के द्वारा नहर नाली कार्य में न भेजकर अपने निजी स्वार्थ के लिए अपने घरों में कार्य कराया जा रहा है।

 

CGNews

शिकायकर्ताओं ने बताया कि पूर्व में काम में गुणवत्ता की कमी होने के कारण पांडेय को दोषी पाए जाने पर जल संसाधन के प्रभारी सचिव सोनमणी बोरा के द्वारा निलंबित किया गया था। किन्तु निलंबित होने के बाद पुन: बलौदाबाजार में पदस्थ किया गया। जिससे अनुविभागीय अधिकारी पांडेय ठेकेदार से मिलकर गलत मैंनेजमेंट कर करोड़ो रुपए का हेराफेरी कर चेक काटा जा रहा है।

आगे बताया कि पाण्डेय के द्वारा अभी तक किया गया फर्जी कार्य जाहिर होने पर तुरंत हास्पिटल में भर्ती हो जाते है। राज्य से बाहर इलाज के लिए बिना परमिशन लिए इलाज करवाकर फर्जी मेडिकल बिल बनवाकर रुपए निकाल लेते हैं। जब भी इलाज के लिए जाते है तो बिना छुट्टी लिए ही जाते है। इनके खिलाफ जो भी शिकायत करते हंै उन्हें परेशान करते हैं। जैसे कई आरोपों की झड़ी लगाकर श्रमिकों ने उनके स्थानंातरण करने व कार्रवाई की मांग की है।

जल प्रबंध उप-संभाग क्र. 7 के अनुविभागीय अधिकारी एनके.पाण्डेय ने बताया कि मेरे पर जो आरोप लगाया जा रहा है वह मिथ्या व निराधार है। कोई श्रमिक मेरे यहां कार्य नहीं कर रहे है।

जल संसाधन विभाग बलौदाबाजार के ईई पीके शर्मा ने बताया कि अभी मैं टीएल बैठक में हूं। बाद में बात करूंगा।

 

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News

एक ही क्लिक में देखें Patrika की सारी खबरें

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned