ट्रैक्टर पर सवार होकर पहुंचे एसडीएम-तहसीलदार, उखड़वाकर जब्त किया अवैध वसूली वाला बेरियर

Illegal barrior: पत्रिका (Patrika) ने प्रमुखता से प्रकाशित की थी खबर, नदी से रेत ढोने वाले ट्रैक्टरों (Tractors) से वसूला जाता था 300 रुपए

By: rampravesh vishwakarma

Published: 06 Jan 2021, 10:21 PM IST

राजपुर. नदी से रेत (Sand from river) परिवहन करने वाले वाहनों से बेरियर लगाकर अवैध वसूली किए जाने के मामले में पत्रिका द्वारा खबर प्रकाशित किए जाने के बाद प्रशासन (Administration) ने कार्रवाई की है। बुधवार को एसडीएम व तहसीलदार ट्रैक्टर में सवार होकर मौके पर पहुंचे व अवैध बेरियर को उखड़वाकर जब्त कर लिया।


गौरतलब है कि बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के नदी-नालों से रेत का अवैध खनन व परिवहन तो धड़ल्ले से जारी है। प्रशासनिक चुप्पी से रेत के अवैध कारोबारियों के हौसले बुलंद हैं। वहीं अब कुछ दबंग लोगों द्वारा रेत के परिवहन पर अवैध वसूली (Illegal recovery) के लिए नदियों से सटे गांवों में बेरियर तक लगा दिया जा रहा है।

इसी कड़ी में राजपुर विकासखंड के ग्राम परसवारकला में बेरियर (Barrior) लगाकर दी से रेत परिवहन करने वाले वाहनों से 300 रुपए की अवैध वसूली (Illegal recovery) की जा रही थी। इस मामले को लेकर पत्रिका ने बुधवार के अंक में 'रेत पीट पास के नाम पर बेरियर लगाकर की जा रही अवैध वसूली' नामक शीर्षक से खबर प्रमुखता से प्रकाशित की थी।

ट्रैक्टर पर सवार होकर पहुंचे एसडीएम-तहसीलदार, उखड़वाकर जब्त किया अवैध वसूली वाला बेरियर

इसके बाद प्रशासन हरकत में आया। बुधवार को एसडीएम आरएस लाल व तहसीलदार सुरेश राय टै्रक्टर में सवार होकर मौके पर पहुंचे। अफसरों के आने की खबर मिलने से बेरियर पर तैनात लोग पहले ही फरार हो गए। एसडीएम व तहसीलदार ने सरपंच व ग्रामीणों की उपस्थिति में बेरियर को हटवा दिया।


दी गई सख्त हिदायत
तहसीलदार सुरेश राय (Tehsildar) ने बताया पड़ोसी जिले सूरजपुर के ग्राम पम्पापुर स्थित नदी से रेत उत्खनन व परिवहन के लिए निविदा हुई है, ठेकेदार द्वारा बेरियर लगाया गया था, जिसे उखड़वा दिया गया है। साथ ही सख्त हिदायत दी गई है कि अगर किसी के द्वारा पुन: बेरियर लगाया जाता है अपराधिक मामला दर्ज कराया जाएगा।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned