पोकलेन लगाकर यहां से रेत का बेहिसाब अवैध खनन, परिवहन में लगे यूपी-एमपी के दर्जनों ट्रक, जिम्मेदार हैं मौन

Illegal sand: रेत का व्यापक पैमाने पर हो रहा अवैध कारोबार (Illegal business) लेकिन सबकुछ जानते हुए भी जिम्मेदार अधिकारियों (Officers) ने साध रखी है खामोशी

By: rampravesh vishwakarma

Published: 20 May 2021, 01:02 PM IST

रामानुजगंज. रामचंद्रपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत छतरपुर के ग्राम फुलवार में कन्हर नदी (Kanhar River) से विगत एक सप्ताह से 2 पोकलेन मशीन लगाकर अवैध रेत खनन (Illegal sand mining) कर यूपी एवं एमपी नंबर के दर्जनों ट्रकों से परिवहन हो रहा है।

खनिज विभाग की अकर्मण्यता से बड़े पैमाने पर हो रहे रेत के अवैध उत्खनन को लेकर ग्रामीणों एवं जनप्रतिनिधियों में आक्रोश है जो कभी भी आंदोलन का स्वरूप ले सकता है। रेत के अवैध खनन (Illegal sand mining) में रायपुर में बैठे सत्तापक्ष के एक बड़े नेता का नाम सामने आ रहा है, उनकी सह पर ही ये किया जा रहा है।


गौरतलब है कि रेत तस्करों की नजर आजकल क्षेत्र में उन सभी रेत खदानों पर है जहां से भरपूर मात्रा में रेत निकल सकती है। रेत तस्कर बेखौफ होकर सब नियम कानून को धत्ता बताते हुए अवैध उत्खनन में संलिप्त है।

इनके हौसले इतने बुलंद हैं कि अवैध काम करने पर भी प्रशासन का खौफ इनके अंदर नहीं है। ऐसे में वे दिन-रात रामचंद्रपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत छतरपुर के ग्राम फुलवार के कन्हर नदी से अवैध रेत उत्खनन कर रहे हैं। ग्रामीणों ने बताया कि विगत एक सप्ताह से यहां 2 पोकलेन मशीन के माध्यम से अवैध रेत उत्खनन किया जा रहा है जिसका परिवहन यूपी एवं एमपी नंबर की गाडिय़ां कर रहीं हंै।

Read More: ऑफिसरों के नाक के नीचे हो रहा ये अवैध काम, यूपी-झारखंड से तक पहुंच रहा छत्तीसगढ़ से ये सामान

रेत तस्करों का यहां ऐसा खौफ है कि ग्रामीण चाह कर भी विरोध नहीं कर पा रहे हैं। इसे लेकर पूरे गांव में आक्रोश है, वहीं जनप्रतिनिधि भी आक्रोशित हंै जो कभी भी आंदोलन का रूप ले सकता है।


सड़कें खस्ताहाल, बाइक चलाना भी दूभर
लुर्गी-रामचन्द्रपुर मुख्य सड़क से करीब 5 किलोमीटर भीतर मिट्टी सड़क से होते हुए फुलवार से रेत तस्करों (Sand smugglers) द्वारा अवैध उत्खनन किया जा रहा है। यहां एक सप्ताह के अंदर इतनी गाडिय़ों का आवागमन हो गया कि गांव के मिट्टीकृत सड़क पर बाइक चलाना भी मुश्किल हो गया है। गांव वाले चिंतित है कि यदि इसी प्रकार बड़ी वाहनों का आवागमन होता रहेगा तो हम आना-जाना कैसे करेंगे।

Illegal sand mining
IMAGE CREDIT: Illegal sand mining by poklane

धूल के गुबार से गांव वाले हो रहे बीमार
अवैध रेत उत्खनन के लिए एक सप्ताह से मिट्टी की सड़क से इतना अधिक गाडिय़ों का आना-जाना हो रहा है कि सड़क के किनारे स्थित घरों के लोग अब वाहनों के आवागमन से उठने वाले धूल के गुबार के कारण सर्दी, खांसी सहित अन्य बीमारी से बीमार हो रहे हैं। कोरोना काल मे धूल के गुबार के कारण सर्दी-खांसी होने से उन्हें समझ नहीं आ रहा है कि वे क्या करें।

Read More: महान नदी से हो रहा था रेत का अवैध खनन, सब जानकर भी प्रशासन था मौन, गुस्साए ग्रामीणों ने उठाया ये कदम


अवैध उत्खनन के लिए बना दिया है रैंप
रेत तस्करों द्वारा अवैध उत्खनन के लिए फुलवार कन्हर नदी में रैंप का निर्माण कर दिया गया है। रैंप का निर्माण काफी लंबे-चौड़े क्षेत्र में किया गया है जैसे-जैसे उत्खनन करते जा रहे हैं, वैसे-वैसे रैम्प को आगे बढ़ाते जा रहे हैं।


नदी में कर दिए गए हैं 10-15 फीट के गड्ढे
रेत तस्करों द्वारा नदी में रेत के अवैध उत्खनन करने के लिए 10 से 15 फीट के गड्ढे कर दिए गए हैं। उत्खनन के साथ-साथ गड्ढों को और गहरा कर रहे हैं जिससे आने वाले बरसात के समय बड़ी दुर्घटना घट सकती है क्योंकि गांव के बच्चे यहां स्नान करने आते हैं। तत्काल प्रशासन को इस ओर ध्यान दिए जाने की आवश्यकता है।


उत्खनन के साथ अवैध भंडारण भी
रेत माफियाओं (Sand Smugglers) के हौसले इतने बुलंद है कि वे रेत का अवैध उत्खनन एवं परिवहन तो कर ही रहे है। वहीं रेत का अवैध भंडारण भी किया जा रहा है जिससे बरसात (Rainy season) के दिनों में इनका परिवहन किया जा सके।

Illegal sand mining
IMAGE CREDIT: Illegal sand mining by poklane

सत्ता पक्ष के बड़े नेता का नाम
एक सप्ताह से यहां अवैध रेत उत्खनन किया जा रहा है। यहां रेत के अवैध उत्खनन को राजनीतिक संरक्षण देने के पीछे रायपुर के सत्ता पक्ष के एक बड़े नेता का नाम सामने आ रहा है। यही वजह है कि बेखौफ अवैध खनन-परिवहन पर कोई प्रशासनिक कार्रवाई नहीं हो रही है।

Read More: राजस्व टीम ने छापा मारकर रेत की अवैध खुदाई व परिवहन में लगे पोकलेन, 2 हाइवा व 6 ट्रैक्टर किया जब्त


बड़ी संख्या में पेड़-पौधों को नुकसान
अवैध रेत उत्खनन करने के लिए एक ओर जहां वन भूमि से गाडिय़ां आना-जाना कर रहीं हैं। वहीं नदी तक रास्ता बनाने के लिए बड़ी संख्या में पेड़ पौधों को भी नुकसान किया गया है। वन विभाग को भी इस पर कार्यवाही किए जाने की आवश्यकता है।


संक्रमण फैलेगा तो जिम्मेदार कौन
अवैध रेत उत्खनन करने के लिए यहां बड़ी संख्या में दिन भर ट्रकें खड़ी रहतीं हंै जिससे यहां मेले जैसा माहौल दिन भर बना रहता है। साथ ही दूसरे प्रदेश के लोग भी प्रतिदिन बड़ी संख्या में यहां आ रहे हैं। ऐसे में यदि गांव में संक्रमण और तेजी से फैलता है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा? यह भी बड़ा सवाल है।


जांच कराकर की जाएगी कार्रवाई
यदि रामचंद्रपुर ब्लॉक के ग्राम फुलवार में नदी से अवैध रेत उत्खनन व परिवहन हो रहा है तो इसकी जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।
अभिषेक गुप्ता, एसडीएम, रामानुजगंज

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned