बेटे ने चोरी की थी मोबाइल, मांगने पहुंचे 2 भाई तो एक के पेट में पिता ने मार दी तीर

बेटे ने चोरी की थी मोबाइल, मांगने पहुंचे 2 भाई तो एक के पेट में पिता ने मार दी तीर

rampravesh vishwakarma | Publish: Sep, 06 2018 04:00:50 PM (IST) Balrampur, Chhattisgarh, India

तीर के हमले से गंभीर रूप से घायल युवक का मेडिकल कॉलेज अस्पताल में चल रहा इलाज, पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर भेजा जेल

अंबिकापुर/वाड्रफनगर. ग्रामीण के बेटे ने एक युवक की मोबाइल चोरी कर ली थी। जब युवक व उसका बड़ा भाई 3 दिन पूर्व ग्रामीण के घर पहुंचे। वे मोबाइल चोरी को लेकर बात करने लगे। इसी बीच ग्रामीण ने युवक के बड़े भाई पर तीर से हमला कर दिया। तीर सीधा युवक के पेट में घुस गई।

इससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया। स्थानीय अस्पताल में इलाज के बाद उसका गंभीर स्थिति में मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज चल रहा है। इधर पुलिस ने आरोपी ग्रामीण को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।


बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के रघुनाथनगर थाना क्षेत्र के ग्राम मझौली निवासी 25 वर्षीय आलोक सिंह खैरवार के छोटे भाई राजेंद्र सिंह का मोबाइल कुछ दिन पूर्व गुंगवा गांव निवासी अमर सिह ने चोरी कर ली थी। इसके बाद से अमर काम करने दूसरे शहर चला गया। अमर 4 दिन पूर्व अपने घर आया था।

इसकी जानकारी राजेंद्र को लगी तो वह रविवार को उसके घर पहुंच गया। छोटे भाई के पीछे-पीछे उसका भाई आलोक भी वहां पहुंच गया। इसी बीच आलोक व अमर के पिता मेहीलाल के बीच मोबाइल चोरी की बात को लेकर विवाद होने लगा। इससे गुस्से में आकर मेहीलाल ने घर में रखे तीर-धनुष निकाल कर आलोक पर तीर चला दिया।

तीर सीधा आलोक के पेट में घुस जाने से वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया। उसे इलाज के लिए बलंगी स्वास्थ्य केन्द्र ले गए। यहां चिकित्सकों ने उसे वाड्रफनगर रेफर कर दिया। वाड्रफनगर में चिकित्सकों ने किसी तरह उसके पेट से तीर निकाल कर बेहतर इलाज के लिए अंबिकापुर रेफर कर दिया। यहां चिकित्सकों द्वारा उसे ऑपरेशन कर आईसीयू कक्ष में भर्ती कराया गया है।


आरोपी गिरफ्तार
आलोक सिंह खैरवार की रिपोर्ट पर बलंगी चौकी प्रभारी ने तत्काल कार्रवाई करते हुए अपराध पंजीबद्ध कर आरोपी मेहीलाल को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने आरोपी को वाड्रफनगर न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया। कार्रवाई में बलंगी चौकी प्रभारी सीपी तिवारी व एसआई मिश्रा सहित अन्य स्टाफ शामिल थे।

Ad Block is Banned