जल संसाधन विभाग की लापरवाही से 4 वार्डों में घुस सकता है पानी, कलक्टर को आना पड़ा था गेट खुलवाने

Negligence: अब तक नहीं खुले कन्हर नदी (Kanhar River) पर बने एनीकट के गेट, लगातार बारिश (Raining) से वार्डों में पानी घुसने का खतरा, वार्डवासियों में आक्रोश

By: rampravesh vishwakarma

Published: 15 Jun 2021, 01:18 PM IST

रामानुजगंज. हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी जल संसाधन विभाग (Water resource department) की लापरवाही का खामियाजा नगरवासियों को भुगतना पड़ सकता है। महामाया मंदिर (Mahamaya temple) के समीप बने एनीकट का गेट नहीं खुलने से नदी की पानी स्टोर करने की क्षमता कम हो जाएगी। साथ ही लगातार मूसलाधार बारिश होने पर नगर के वार्ड क्रमांक 9, 13, 14 एवं 15 में पानी घुसने का खतरा मंडराने लगता है।

10 जून के पूर्व एनीकट का गेट खोल देना चाहिए था किन्तु आज तक एनीकट का गेट नहीं खोला जा सका है। इससे वार्ड क्रमांक 9, 13, 14 व 15 के रहवासियों में जल संसाधन विभाग के अकर्मण्य रवैया के प्रति आक्रोश पनप रहा है।

Read More: जल संसाधन विभाग के EE व SDO के बंगले पर ACB का छापा


गौरतलब है कि मां महामाया मंदिर के समीप करीब 9 करोड़ की लागत से एनीकट का निर्माण तो जल संसाधन विभाग के द्वारा कर दिया गया परंतु आज तक एनीकट के निर्माण में बाकी रही कमियों को दूर नहीं किया जा सका।

जल संसाधन विभाग (Water Resource Department) द्वारा न समय पर एनीकट का गेट बंद किया जाता है और न ही इसे खोला जाता है जिससे नगर वासियों के लिए परेशानी खड़ी होती है।


कलक्टर को आना पड़ा था गेट खुलवाने
एनीकट का गेट खुलवाने एवं बंद करने में जल संसाधन विभाग के अधिकारी कितने लापरवाह हैं। इसे इस बात से समझा जा सकता है कि जब दो वर्ष पूर्व लोक आस्था के महापर्व छठ में भी विभाग के अधिकारियों ने बार बार निवेदन के बाद भी गेट नहीं खुलवाया तो तत्कालीन कलक्टर संजीव कुमार झा को एनीकट का गेट खुलवाने स्वयं रामानुजगंज आना पड़ा था।


दो वर्ष से नहीं खुला है गेट, भर जाता है रेत
दो वर्ष पूर्व जब जिले के तत्कालीन कलक्टर गेट खुलवाने आए थे। उस समय भी एनीकट का सभी गेट नहीं खुलवा पाए थे। एनीकट का एक गेट विगत 2 वर्ष से नहीं खुला है। इस कारण एनीकट में रेत भर गया है जिससे पानी का स्टोरेज भी कम हो गया है।

Read More: 8 करोड़ का एनिकट नहीं रोक पाया कन्हर का पानी, भ्रष्टाचार ऐसा कि 4 दिन में बह गया 80 प्रतिशत, गहराएगा जल संकट


20 हजार की आबादी होती है प्रभावित
नगर की लगभग 20 हजार की आबादी एनीकट से प्रभावित होती है, क्योंकि नगर की जल प्रदाय व्यवस्था पूर्णत: कन्हर नदी पर आश्रित है।

Kanhar river anikat
IMAGE CREDIT: Kanhar river

ऐसे में एनीकट के गेट का समय पर खुलने एवं बंद नही होने से एनीकट का स्टोरेज प्रभावित होता है। जल संसाधन विभाग के अधिकारियों की लापरवाही से एनीकट का भरपूर लाभ आज तक नगर वासियों को नहीं मिल पा रहा है।

Read More: मछली मारने गया युवक 'कन्हर नदी' में डूबा, हो रही खोजबीन


विभाग से सभी गेट खोलने की मांग
नगर पंचायत अध्यक्ष रमन अग्रवाल ने कहा कि एनीकट का गेट समय पर खुलना और बंद होना चाहिए, ऐसा नहीं होने से शहरवासियों को इसका खामियाजा उठाना पड़ता है।

नगर पंचायत अध्यक्ष रमन अग्रवाल ने जल संसाधन विभाग से एनीकट की खामियों को दूर करने एवं तत्काल सभी गेट खोलने की मांग की है जिससे कि नदी में जल स्टोरेज की क्षमता बनी रहे व लगातार बारिश होने पर भी नगर के वार्ड क्रमांक 9, 13, 14 और 15 में पानी घुसने का खतरा न रहे।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned