गरीब किसान को 64 लाख रुपए का भेजा बिल, किसान के साथ बिजली विभाग के इंजीनियर भी सकते में आ गए

विद्युत विभाग के अभियन्ता बिल को देखकर आ गए सकते में
बिजली बकाए की नोटिस से गांव मे मचा हडकंप

By: Mahendra Pratap

Published: 01 Aug 2020, 11:57 AM IST

बलरामपुर. बलरामपुर में बिजली विभाग की एक बडी लापरवाही सामने आयी है। बिजली विभाग ने एक गरीब किसान को 64 लाख रुपये बकाया बिजली भुगतान का नोटिस थमा दिया। नोटिस पाने के बाद से किसान शिवकुमार और उसके परिजन बदहवास है। किसान के घर में कल से चूल्हा नही जला है।

मामला तुलसीपुर तहसील के बनकटवा गाँव का है। वर्ष 2018 में इस गाँव का विद्युतीकरण किया गया। गाँव के किसान शिवकुमार ने अपनी पत्नी सुनीता देवी के नाम से दिसम्बर 2018 में सौभाग्य योजना के अन्तर्गत विद्युत कनेक्शन लिया था। अक्टूबर 2019 में शिवकुमार की पत्नी सुनीता देवी के नाम 1700 रुपये बिजली का बिल आया। यह बिजली का बिल लाकडाउन के कारण शिवकुमार जमा नही कर सका था। 29 जुलाई 2020 को शिवकुमार की पत्नी सुनीता देवी के नाम बिजली विभाग ने 6402507(चौसठ लाख दो हजार पांच सौ सात) रुपये का नोटिस भेज दिया और यह रुपये आठ अगस्त तक जमा करने का निर्देश दिया। यह नोटिस मिलने के बाद शिवकुमार और उसके परिजन सकते में आ गये।

शिवकुमार का कहना है कि यदि वह अपनी पूरी जमीन जायदाद बेच भी डाले तो भी वह इतने रुपये इकठ्ठा नही कर सकता। शिवकुमार ने यह भी बताया कि उसके घर में मात्र दो बिजली के बल्ब जलते है। ऐसे में इतना ज्यादा बिजली के बकाया भुगतान की नोटिस मिलना समझ से परे है। इस भारी भरकम राशि का बिल मिलने के बाद पूरे गाँव में हडकम्प मचा हुया है।

मीडिया की टीम ने शिवकुमार के घर जाकर उसके हालात का जायजा लिया। शिवकुमार के घर भीड़ लगी हुई है। पूरे गाँव के लोग बिजली विभाग के इस नोटिस को लेकर हैरान है। इस सम्बन्ध में जब नोटिस जारी करने वाले विद्युत विभाग के अभियन्ता से बात की गयी तो उन्होंने पहले तो किसी भी नोटिस के जारी होने से इन्कार कर दिया। लेकिन जब उन्हे नोटिस दिखाई गयी तो इंजीनियर साहब खुद सकते में आ गये और इसे मीटर रीडर की गलती मानते हुये तत्काल सुधारने की बात कही। लेकिन सवाल यह उठता है कि इतनी बड़ी लापरवाही कैसे हो गयी और बिजली विभाग की यह लापरवाही किसी की जान पर भी आ सकती है।

Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned