नोटबंदी के 44वें दिन लगी रही लाइन, कहीं खुशी दिखी तो कहीं गम

नोटबंदी के 44वें दिन लगी रही लाइन, कहीं खुशी दिखी तो कहीं गम
balrampur

नोटबंदी के 44वें दिन कतारों में एटीएम पर सुबह से लोग जुटे रहे

बलरामपुर. नोटबंदी के 44वें दिन कतारों में एटीएम पर सुबह से लोग जुटे रहे। महिलाएं भी भारी संख्या में एटीएम कार्ड लिए बारी का इन्तजार करती रहीं। गुरुवार को एटीएम से ढाई हजार रुपये ही निकल रहे थे।

नयी बाजार चौक पर स्थित आईसीआईसीआई एटीएम सुबह ही संचालन में आ गया। लम्बी-लम्बी लाइन में लगे रामहेत, सलमा, शिवकुमार, राजन, चन्द्रवती ने बताया कि कल भी लाइन में लगे थे पर रात ज्यादा होने व भीड़ के कारण अन्दर तक नही पहुंच पाये।

"सुबह से लाइन में हूं पर दिक्कत इस बात की है कि अन्दर दो ही कार्ड लगाने को कहते हैं। पर एटीएम के गार्ड स्वंय पांच कार्डाें से हर आधे एक घंटे पर निकासी करतें है। लाइन में उनका एक आदमी आता है। और सौ दो सौ रुपयों की मांग करता है, रुपया देने वाले ग्राहकों को लाइन में ही आकर भुगतान कर देता है। पिन नम्बर का दुरुपयोग होगा इस डर से हमने कार्ड नहीं दिया। इस तरह से दिन भर में दो ढाई हजार रुपया अराजक तत्व कमा कर चलते बनते है। पुलिस की अनुपलब्धता उनका हौसला अफजाई कर रही है। धन्धरा, चौपुरवा, जनकपुर व सोनपुर के बैंकों पर ग्राहकों से 24000 की निकासी पर 2400 मांगा जाता है। जो दे देता है उसे तुरन्त भुगतान मिल जाता है। हम दिन भर खड़े रह जाते हैं तब कहीं दो ढाई हजार मिलता है।"

उपभोक्ता रामहरख, रामदीन, शाहजहां, रूबिना की शिकायत पर बैंक पर ताला लगा होने से बैंक कर्मियों का पक्ष नहीं मिल पाया। असुविधा व अराजकता से इन्कार नहीं किया जा सकता। हां कुछ उपभोक्ता ऐसे भी मिले जो यह कह रहे थे कष्ट हम एक सप्ताह और झेल लेंगे पर नये साल में रुपयों की उपलब्ध हो जाएं तो बेहतर होगा।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned