गैंगरेप पीड़ित लड़की ने खाया जहर, पूर्व विधायक पर लगाया था सामूहिक बालात्कार का आरोप

बांदा का बहुचर्चित गैंगरेप केस की पीड़िता शीलू निषाद ने जहर खाकर अपनी जान देने का प्रयास किया है ।

By: आकांक्षा सिंह

Published: 10 May 2018, 09:29 AM IST

बांदा. बांदा का बहुचर्चित गैंगरेप केस की पीड़िता शीलू निषाद ने जहर खाकर अपनी जान देने का प्रयास किया है। नरैनो क्षेत्र के पूर्व बसपा विधायक पुरुषोत्तम नरेश द्विवेदी और उनके साथियों पर मुकदमा दर्ज कराने वाली शहबाजपुर की पीड़िता फिर चर्चा में हैं। उसने पति की मानसिक प्रताड़ना और धमकियों से आजिज आकर जान देने की कोशिश की है।

 

पीड़िता को हाईकोर्ट के निर्देश पर मिली पुलिस सुरक्षा के जवानों ने नरैनी सीएचसी पहुचाया जहां से उसे बांदा रिफर किया गया है। यहां उसका उपचार किया जा रहा है। घटना की सूचना पर पुलिस अधिकारियों का अस्पताल में लगा जमावड़ा तथा पुलिस ने शीलू का बयान दर्ज किया है। फ़िलहाल डॉक्टरो के अनुसार अब शीलू खतरे से बाहर है।


बता दें कि कई वर्ष पहले मायावती शासन काल में बांदा के नरैनी की शहबाजपुर गांव की निवासिनी शीलू निषाद ने नरैनी के बीएसपी विधायक पुरुषोत्तम नरेश द्विवेदी और उसके साथियो पर गैंगरेप का आरोप लगाते हुए मुक़दमा दर्ज कराया था । जिसके बाद ये रेप केस पूरे देश में चर्चित हो गया था व कोर्ट ने विधायक और उसके साथियों को आरोपी मानते हुए सजा सुनाई थी । इसके बाद से ही हाईकोर्ट के आदेशनुसार सुरक्षा की दृष्टि से शीलू को दो सुरक्षाकर्मी भी दिए गए हैं । इसके बाद इसी वर्ष 26 जनवरी को शीलू ने अपने प्रेमी से मंदिर में शादी कर ली थी व शीलू अपने गांव में ही रहती थी और उसका पति गांव आता-जाता था । आज रात किसी बात को लेकर शीलू का अपने पति से फ़ोन पर झगड़ा हो गया, जिसपर शीलू ने डेढ़ पुरिया डाई पीकर जान देने का प्रयास किया । पुलिस सूरक्षा पर मौजूद कर्मियों ने शीलू को नरैनी सीएचसी पहुंचाया जहां शीलू की गंभीर हालत को देखते हुए उसे बांदा ट्रामा सेंटर रिफर किया गया । सूचना मिलते ही पुलिस महकमा अस्पताल पहुंचाया व उपचार कराने के साथ ही शीलू का बयान दर्ज किया । बताते चलें की अभी हाल ही में बांदा की विधायक पीड़िता शीलू उन्नाव की विधायक पीड़िता से मिली थी जहां दोनों ने अपनी पीड़ा भी साझा की थी ।


पीड़िता का कहना है कि उसकी शादी तीन माह पहले 26 जनवरी को मध्य प्रदेश के दतिया के ग्राम चुनहुला निवासी ठेकेदार राहुल निषाद के साथ हुई थी । शादी के बाद सिर्फ दो बार वह पति के यहां गई है तथा वो गांव में ही रहती है, उसका पति उससे मिलने गांव के घर में ही आता-जाता था । आरोप लगाया कि उसका पति कुछ दिनों से उसे मानसिक प्रताड़ित कर रहा है, उसे जान से मार देने की धमकी भी देता है, वहीं साथ में न रखने को कह रहा है । इतना ही नहीं वह खुद को मध्य प्रदेश का गुंडा होना भी बताता है । बताया की सोमवार की रात पति ने उसे फोन पर धमकी दी है । मानसिक प्रताडऩा से आजिज आकर मंगलवार रात उसने मायके शहबाजपुर में डाई पी ली । हालत बिगड़ने पर भाई जागेश्वर व पिता अच्छेलाल ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया है । शीलू के भाई ने बताया की वह घर के बाहर बैठा हुआ था, जब अंदर गया तो देखा की उसकी दीदी ने डाई पी रखी थी, जिसपर उसने पिता और पुलिस कर्मियों की मदद से उसे अस्पताल पहुंचाया है । बांदा ट्रामा सेंटर के डॉक्टर प्रदीप ने बताया की जब शीलू को अस्पताल लाया गया था तब उसकी हालत नाजुक थी, अब उनकी हालत में काफी सुधार आ गया है । वही इस घटना के बारे में अपर एसपी एल बी के पॉल ने बताया की शीलू निषाद ने डाई पी थी, जिसपर उन्हें बांदा जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है और शीलू का बयान लिया गया है जिसके अनुसार उसने अपने पति से झगड़कर अपनी जान देने का प्रयास किया था ।

Show More
आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned