केकड़ा पकड़ने के लिए सरकार देगी पैसा, बढ़ेगी आय

केकड़ा पकड़ने के लिए सरकार देगी पैसा, बढ़ेगी आय

By: Ruchi Sharma

Published: 14 Nov 2017, 02:24 PM IST

लखनऊ. यदि आप बेरोजगार हैं तो आप मछली नहीं केकड़ा पाल करके भी अपनी आय बढ़ा सकते है अौर बेरोजगारी से मुक्ति पा सकते हैं। इसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार के मत्स्य विभाग ने एक योजना चला रखी है जिसके लिए आसान शर्तों पर लोन अौर अनुदान की सुविधा उपलब्ध है।


कृषि व उससे जुड़े क्षेत्रों में सबसे अधिक आय वृद्धिदर मत्स्यपालन के क्षेत्र में होने के कारण सरकार ने अच्छा कदम उठाया है। गांवों से लेकर पेरी अरबन एरिया में भी मत्स्य पालन के लिए काश्तकारों को तमाम सुविधाएं मुहैया कराने जा रही है। इसके लिए कुछ कानूनों में संशोधन तक किए जाएंगे ताकि मछली पालकर किसान अपनी आय दोगुनी कर सकें।

यह कदम उठाने जा रही है। इसका उद्देश्य प्रदेश के किसानों की आय अगले पांच वर्षों में दोगुनी की जा सके। इस दिशा में सरकार ने सबसे पहले कुछ नियम-कानूनों को शिथिल करने का निर्णय किया है ताकि तालाबों -पोखरों व गड्ढों के अलावा नदियों-नहरों एवं जलभराव वाले क्षेत्र को मत्स्य पालन के लिए लोगों को पट्टे पर दिया जा सके।

अब तक पट्टों के लिए राजस्व विभाग से लेकर मत्स्य विभाग तक में मत्स्यपालकों को चक्कर लगाने पड़ते थे जहां उनका जमकर शोषण होता था। नियमों में परिवर्तन के बाद पात्र मत्स्यपालकों को आसानी से तालाब-पोखर आदि पट्टे पर मिल सकेंगे। साथ ही किसानों के घरों के आसपास के निजी क्षेत्र के अप्रयुक्त भूमि से लेकर पोखरे व गड्ढे तक जो न्यूनतम पांच सौ वर्ग मीटर के हों एवं डेढ़ मीटर गहरा हो, को किचन पाण्ड के रूप में विकसित कर उनमें मछली पालन कराएगी।

इसी कड़ी में सरकार ने प्रदेश के जीर्ण-शीर्ण पड़े तालाबों व पोखरों के जीर्णोद्धार करने का भी निर्णय किया है ताकि उसमें मछलीपालन के साथ-साथ बत्तख पालन व केकड़ा पालन आदि भी किया जा सके। साथ ही मुर्गीपालन, सूकरपालन व दुधारु पशुओं को पालकर किसान अपनी आय बढ़ा सके। सरकार ने मत्स्य पालन से किसानों की आय दोगुनी करने के लिए बकायदा रोडमैप तैयार किया है।

Ruchi Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned