फर्जी चेक मामले में महिला कैशियर भेजी गई जेल

बाँदा में चेक बाउंस हो जाने की धोखाधड़ी के मामले में न्यायलय ने सरकारी महाविद्यालय की महिला कैशियर को जेल भेज दिया है।

By: Abhishek Gupta

Published: 20 Jul 2018, 05:07 PM IST

Lucknow, Uttar Pradesh, India

बाँदा. बाँदा में चेक बाउंस हो जाने की धोखाधड़ी के मामले में न्यायलय ने सरकारी महाविद्यालय की महिला कैशियर को जेल भेज दिया है। शहर के कालूकुआं निवासी गोविंद राजपूत ने एक वर्ष पहले महिला कैशियर पर धोखाधड़ी का मुक़दमा दर्ज किया था, जिसपर सुनवाई करते हुए विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट रामकिशोर त्रिपाठी ने महिला पर 62 हजार रुपये की धोखाधड़ी का आरोप सिद्ध हो जाने पर छह माह की सजा और एक लाख का जुर्माना लगाया था, जिसपर महिला फैसले की भनक सुनकर अदालत से फरार हो गयी थी। न्यायलय ने महिला का वारंट व कुड़की जारी कर दिया, जिसपर आज पुलिस ने इस महिला को पकड़कर जेल भेज दिया।

मामला बाँदा शहर का है जहां के सिविल लाइन स्थित पंडित जे एन महाविद्दालय की महिला कैशियर शीबा ने कालूकुआं निवासी गोविंद राजपूत पुत्र चुन्ना से 20 फरवरी 2017 को 62 हजार रुपये उधार लिए थे व पैसा मांगने पर महिला कैशियर ने 5 मई 2017 को इलाहाबाद बैंक, सिविल लाइन शाखा का 62 हजार रुपये का चेक दिया था, इस पर बैंक में ये चेक बाउंस निकला था।

इसके बाद पीड़ित गोविन्द राजपूत ने महिला कैशियर को नोटिस भेजा था। नोटिस का जवाब ना मिलने पर उसे अदालत की शरण लेनी पड़ी थी। याचितकर्ता गोविन्द के वकील ने बताया कि महाविद्यालय की महिला कैशियर शीबा ने कालूकुआं निवासी गोविंद राजपूत पुत्र चुन्ना से 20 फरवरी 2017 को 62 हजार उधर लिए थे व कुछ महीने बाद पैसा मांगने पर इलाहाबाद का चेक दिया था, जो कि बैंक में बाउंस निकला था। कैशियर को 12 मई को नोटिस भेजा गया था, जिसपर नोटिस का जवाब न मिलने पर मामला अदालत में दर्ज कराया गया था।

अदालत ने इस मामले में पंडित जेएन डिग्री कॉलेज में तैनात महिला कैशियर को दोषी करार दिया था। उधर फैसले की भनक लगते ही आरोपी महिला अदालत से चली गई थी। विशेष न्यायिक मेजिस्ट्रेट रामकिशोर त्रिपाठी ने अभियुक्त कैशियर शीबा के विरुद्ध गिरफ्तारी वारंट और कुर्की की नोटिस जारी किया था। न्यायधीश ने गिरफ्तारी के लिए चित्रकूटधाम क्षेत्र के डीआईजी और पुलिस अधीक्षक को पत्र भेजा था।

इस मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आज आरोपी महिला को गिरफ्तार कर जेल भेजा दिया है। इस मामले में महाविद्यालय प्रधानाचार्य नन्दलाल शुक्ला का कहना है उनके महाविद्यालय मर कार्यरत महिला कैशियर को धोखाधड़ी के मामले में न्यायलय के आदेश पर जेल भेज दिया गया है। महाविद्यालय प्रबंधन द्धारा भी इसकी जाँच कराई जाएगी और कॉलेज प्रशासन द्वारा भी कार्यवाही की जाएगी।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned