राज्य में बिका 1.50 लाख मीट्रिक टन आम

कोविड-19 के कारण मैंगो पिकिंग टूर रद्द

By: Santosh kumar Pandey

Updated: 10 May 2020, 03:08 PM IST

बेंगलूरु. कोविड-19 के कारण और लॉकडाउन के कारण इस बार आम के मौसम में आम मेला (Mango Mela)और मैंगो पिकिंग टूर कार्यक्रम रद्द हो गया है।

कर्नाटक राज्य आम विकास एवं विपणन निगम के प्रबंधन निदेशक नागराज ने बताया कि आम उत्पादकों को आम की बिक्री के लिए निगम ने ऑनलाइन बिक्री और निर्यात को प्रमुखता दी है। अभी तक 1.50 लाख मीट्रिक टन आम की बिक्री हुई है। हर साल आम मेला और मैंगो पिकिंग के जरिए ग्राहकों को ताजा आम प्राप्त करने की व्यवस्था निगम करता आ रहा था। इस बार कोरोना संक्रमण फैलने के कारण इन कार्यक्रमों को रद्द करना पड़ा।

उन्होंने कहा कि गत एक माह में डाक के जरिए 15 हजार बॉक्स (एक बॉक्स में तीन किलोग्राम आम) यानी 45 हजार टन, एपीएमसी से 80 हजार टन और दुकानों से 25 टन आम की बिक्री की गई। आम खरीदने के इच्छुक आम निगम की वेबसाइट पर आर्डर कर सकते है।

आम और कटहल मेला 15 से
इसी बीच बागवानी उत्पादक सहकारिता विपणन संघ (हॉपकॉम्स) ने सामाजिक अंतर बनाए रखते हुए 15 से 20 मई तक आम और कटहल मेला करने का फैसला लिया है। हॉपकाम्स के प्रबंधन निदेशक बी.वी.प्रसाद ने बताया कि बेंगलूरु मे हॉपकॉम्स की 220 दुकानें हैं। वहां 10 फीसदी रियायत पर आम और कटहल बेचने का फैसला लिया है। हॉपकॉम्स हर साल 15 मई तक मेला आयोजित करता है। राम नगर, चन्नपट्टण और बेंगलूरु ग्रामीण जिले से विभिन्न प्रजाति के आम मार्केट में आए हैं। कोलार जिले से आम आना बाकी है।

उन्होंने कहा कि इस बार 750 टन आम की बिक्री करने का लक्ष्य रखा गया है। गत वर्ष आठ करोड़ रुपए का कारोबार किया था। इस बार 10 करोड़ रुपए के कारोबार का लक्ष्य रखा गया है। इस बार 40 मोबाइल वाहनों में आम और कटहल की बिक्री होगी। आम में बादामी, सेंदूरा, रसपुरी, आम्रपाली, तोतापूरी,केसरी, मलिका, मलगोवा, चीनी गुली, काला पहाड़, दशेरी, रुमेनिया और नीलम के अलावा अन्य प्रजाति के आम बेचेेे जाएंगे।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned