केआईए पर साल भर में 100 किलो सोना जब्त

केआईए पर साल भर में 100 किलो सोना जब्त

Ram Naresh Gautam | Updated: 08 Apr 2018, 05:50:47 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

तस्करी के खिलाफ कार्रवाई

बेंगलूरु. कैंपेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के सीमा शुल्क अधिकारियों ने वर्ष 2017-18 के दौरान 30.5 करोड़ रुपए मूल्य की 100 किलोग्राम सोने की रिकॉर्ड जब्ती की है। यह 2016-17 के दौरान जब्त किए गए सोने से करीब 200 प्रतिशत ज्यादा है। वर्ष 2016-17 के दौरान 34.5 किलोग्राम सोने की जब्ती हुई थी जिसकी कीमत करीब 10 करोड़ रुपए थी। वहीं पिछले वर्ष 2017-18 के दौरान कुल ३४ लोगों को गिरफ्तार किया गया है जिनमें जॉर्डन और श्रीलंका के नागरिक भी शामिल हैं।

सीमा शुल्क अधिकारियों के अनुसार सोने की तस्करी करने वाले यात्री इसके लिए कई प्रकार के नए तरीके अपनाते देखे गए हैं। इनमें सोने की बिस्कुट को मिक्सचर और जूसर में छिपाना, सोने के टुकड़ों को महिलाओं के हेयर पिन और क्लिप्स में लगाना, गैस स्टोव में छिपाना शामिल है। इसके अतिरिक्त सोने के मोतियों को कढाई किए कपड़ों पर छिपाने के मामले भी सामने आए हैं।

इसी प्रकार कुछ लोग सोने की सामग्री पर चांदी के रंग की परत चढ़ाए पाए गए। सोने के तारों को ट्रोली बैग में भी छिपाने का मामला पकड़ में आया। वहीं एक चालक यात्री ने परतदार गत्तों के बीच में कार्बन सीट में सोने को लपेटकर छिपा रखा था और गत्तों से बने डिब्बें में खिलौने भर रखा था। बावजूद इसके सीमा शुल्क अधिकारियों की पैनी नजर से तस्कर बच नहीं पाया। अधिकारियों के अनुसार इस प्रकार के डिब्बे लेकर यात्री दुबई से आए थे और उनसे करीब 1 किलोग्राम सोना बरामद हुआ।

हाल के महीनों में तस्करी का एक और रोचक तरीका देखने को मिला जिसमें सोने को पाउडर का रूप देकर उसे मिट्टी या किसी अन्य सामग्री में मिलाकर पेस्ट बना दिया गया था। बाद में इसे तरल रूप में पाउच में भरा गया था जिसे तस्करों ने कमर या शरीर के अन्य अंगों का चिकित्सकीय अवशेष बताया। हालंाकि सीमा शुल्क अधिकारियों ने तस्करों की इस चाल को भी नाकाम करने में सफलता पाई और इस प्रकार के करीब छह मामलों में तस्करों को पकड़ा।

केआईए के सीमा शुल्क अतिरिक्त आयुक्त हर्ष वद्र्धन उमरे ने कहा कि पिछले वित्त वर्ष के दौरान सबसे सोने की सबसे बड़ी जब्ती एक कुरियर से हुई जिसमें 33.5 किग्रा सोना जब्त हुआ। दुबई से आए कुरियर में वाहनों के लिए उपयोग होने वाले फ्यूल पम्पों और फिल्टरों में सोना भरा गया था। तस्करों ने चालाकी दिखाते हुए सोने पर अन्य रंग की परत चढा दी थी और उस पर ग्रीज लगा दिया था। उन्होंने कहा कि सोने की तस्करी के ज्यादातर मामले पश्चिम एशिया से जुड़े पाए गए जिसमें आरोपियों ने बेंगलूरु पहुंचने के लि वाया श्रीलंका और दक्षिण एशिया के अन्य देशों को रास्ता बनाया था।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned