पेट दर्द, दस्त और तड़पने लगे छात्र !

पेट दर्द, दस्त और तड़पने लगे छात्र !

Rajendra Shekhar Vyas | Updated: 15 Jul 2019, 10:46:47 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

  • स्कूल में विद्यार्थियों ने पीया टंकी का पानी और हो गए बीमार
  • विषाक्त पानी से अस्वस्थ हुए 11 विद्यार्थी मण्ड्या के अस्पताल में भर्ती
  • मामले की गंभीरता से जांच कर रही है मंड्या ग्रामीण पुलिस
  • पहले पांच, फिर छह और छात्र हुए बीमार
  • बड़ी संख्या में अभिभावक सरकारी अस्पताल की तरफ दौड़ पड़े

मंड्या. शहर से आठ किलोमीटर दूर स्थित ए.हुलकेरे गांव स्थित सरकारी high school के करीब 11 छात्र सोमवार को टंकी का Conteminated water पीने से बीमार पड़ गए। उन्हें मंड्या जिला मुख्यालय स्थित सरकारी hospital में भर्ती कराया गया है। इस सिलसिले में मंड्या ग्रामीण police मामले की गंभीरता से जांच कर रही है।
पुलिस ने बताया कि सरकारी स्कूल की छत पर पानी की टंकी है। इस टंकी का पानी जल शोधन संयंत्र में शुद्ध कर छात्रों को पीने के लिए दिया जाता है। सोमवार को छात्रों को भोजन के लिए भेजा गया था। छात्रों ने भोजन के बाद पानी पिया और कुछ देर बाद पांच छात्र Abdominal pain and diarrhea की शिकायत कर तड़पने लगे। पांचों छात्रों को आनन-फानन में सरकारी एम्बुलेंस से अस्पताल पहुंचाया गया। इसके बाद छह अन्य छात्र भी अस्वस्थ हो गए तो उन्हें भी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

पानी जांच के लिए प्रयोगशाला भेजा
घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने स्कूल पहुंच कर टंकी का पानी खाली कराया और कुछ पानी जांच के लिए प्रयोगशाला भेजा। पुलिस ने बताया कि टंकी से बदबू आ रही थी। ऐसी संभावना है कि पानी में कुछ रसायन मिलाया गया हो। प्रयोगशाल की रिपोर्ट के बाद ही इस बात का पता चलेगा कि टंकी में क्या मिलाया गया था।
परेशान अभिभावक हुए बेचैन
छात्रों के बीमार पडऩे और अस्पताल में दाखिल कराने की सूचना मिलने पर बड़ी संख्या में अभिभावक सरकारी अस्पताल की तरफ दौड़ पड़े। वे अपने बच्चों की स्थिति को लेकर परेशान रहे। वहीं जिन बच्चों को अस्पताल में दाखिल कराया गया उनके अभिभावक बेचैन हालत में वहां पहुंचे। अभिभावकों ने मांग की कि अगर कोई साजिश रची गई है तो ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। साथ ही अगर साफ सफाई में अनियमितता बरती गई है तो संबंधित लोगों पर कार्रवाई की जाए।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned