इंदिरा कैंटीन योजना में 150 करोड़ के भ्रष्टाचार का आरोप

इंदिरा कैंटीन योजना में 150 करोड़ के भ्रष्टाचार का आरोप

Shankar Sharma | Publish: Jul, 13 2018 10:35:30 PM (IST) Bangalore, Karnataka, India

विधानसभा में गुरुवार को बजट पर बहस के दौरान भाजपा के सदस्य एस.ए.रामदास के इंदिरा कैंटीन योजना में 150 करोड़ रुपए के भ्रष्टाचार के आरोप के कारण कांग्रेस के सदस्य आगबबूला हो गए।

बेंगलूरु. विधानसभा में गुरुवार को बजट पर बहस के दौरान भाजपा के सदस्य एस.ए.रामदास के इंदिरा कैंटीन योजना में 150 करोड़ रुपए के भ्रष्टाचार के आरोप के कारण कांग्रेस के सदस्य आगबबूला हो गए।


बहस के दौरान रामदास ने कहा कि इंदिरा कैंटीन योजना में 150 करोड़ रुपए का घोटाला किया गया है। इस राशि में से 50 करोड़ रुपए की राशि अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (एआईसीसी) के प्रभावी नेता को भेजी गई है। इस पर कांग्रेस तथा भाजपा सदस्यों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया। संसदीय मामलों के मंत्री कृष्ण बैरेगौड़ा ने कहा कि रामदास एआईसीसी के सदस्य पर बगैर कोई सबूत झूठा आरोप कैसे लगा सकते हैं? रामदास का यह बयान गैरजिम्मेदाराना है। रामदास ने अपने आरोपों को दोहराते हुए कहा कि इस मामले की न्यायिक या लोकायुक्त से जांच करनी चाहिए। इस बात को लेकर फिर सदन में हंगामा शुरू हो गया।


विधानसभा अध्यक्ष रमेशकुमार ने रामदास के बयान पर आपत्ति दर्ज करते हुए कहा कि बगैर कोई सबूत और कोई नोटिस दिए रामदास सदन में ऐसा आरोप नहीं लगा सकते है। विधानसभाध्यक्ष की इस चेतावनी के पश्चात रामदास ने बहस जारी रखते हुए कहा कि इंदिरा कैंटीन योजना में भोजन तैयार करना तथा इसकी आपूर्ति करने का ठेका कांग्रेस पार्टी के नेता के निकटवर्ती को सौंपा है जो घटिया भोजन की आपूर्ति कर फर्जी बिलों से करोड़ों की हेराफेरी कर रहा है।

केवल 100-120 लोगों को नाश्ता और भोजन मुहैया कर 1500 लोगों का फर्जी बिल बनाया जा रहा है। इस आरोप की पुष्टि के लिए वे सबूत पेश करने को तैयार हैं।संसदीय मामलों के मंत्री कृष्ण बैरेगौडा ने रामदास को चुनौती देते हुए कहा कि वे सदन में ऐसे सबूत पेश करें। कांग्रेस तथा भाजपा के सदस्यों के हंगामें के बीच ही कृष्ण बैरेगौडा की टिप्पणी पर रामदास ने इसे सदन की कार्यवाही से निकालने की मांग की और विधानसभाध्यक्ष की पीठ के सामने धरना दे दिया।


इस दौरान पीठासीन विधानसभा उपाध्यक्ष कृष्णा रेड्डी ने रामदास को कई बार अपने सीट पर लौटने की अपील की। लेकिन रामदास ने धरना जारी रखा तब विधानसभा उपाध्यक्ष ने मंत्री कृष्ण बैरेगौडा की टिप्पणी को सदन की कार्यवाही से हटाने के निर्देश दिए उसके पश्चात रामदास अपनी सीट पर लौट गए।

Ad Block is Banned