मंत्री खादर बोले, 16 लाख बीपीएल कार्ड वितरित होंगे

राज्य सरकार ने जल्द ही 16 लाख बीपीएल राशन कार्ड बांटने की निर्णय किया है।

By: शंकर शर्मा

Published: 10 Nov 2017, 10:36 PM IST

बेंगलूरु. राज्य सरकार ने जल्द ही 16 लाख बीपीएल राशन कार्ड बांटने की निर्णय किया है। इस कवायद के तहत पिछले दो साल से बड़ी संख्या में लंबित अर्जियों का 15 दिसंबर तक निपटारा करने तथा तत्काल अर्जी भेजने वाले लाभार्थियों के घर कार्ड पहुंचाने का निर्णय किया गया है।


खाद्य व नागरिक आपूर्ति मंत्री यूटी खादर ने गुरुवार को यहां कहा कि 15 दिसंबर के बाद आवेदन करने वालों को अस्थाई बीपीएल राशन कार्ड देने का निर्णय किया गया है।

उन्होंने कहा कि इसके बाद भी यदि मांग की जाती है तो ऐसे लोग तालुक कार्यालय में आय प्रमाण पत्र व जाति प्रमाण पत्र पेश कर खाद्य निरीक्षक से अस्थाई बीपीएल राशन कार्ड बनवाए जा सकते हैं। बाद में दस्तावेजों का सत्यापन कर स्थाई कार्ड दिए जाएंगे। इन अतिरिक्त राशन कार्ड का वितरण होने के बाद अन्नभाग्या योजना के तहत सरकार को एक करोड़ किलोग्राम से अधिक अतिरिक्त चावल उपलब्ध कराना पड़ेगा।

मंत्री ने कहा कि अब से आगे राशन कार्ड व कूपनों के जरिए राज्य के किसी भी हिस्से मे खाद्यान्न प्राप्त किया जा सकेगा।
उन्होंने बताया कि अगले माह से अनिल भाग्या योजना के लाभार्थियों को एलपीजी गैस सिलेंडर, स्टोव, लाइटर मुफ्त दिए जाएंगे। राज्य में रसोई गैस कनेक्शन पाने से वंचित 20 से लेकर 25 लाख परिवार हैं। इन परिवारों को तीन चरणों में गैस कनेक्शन उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके लिए जिला प्रभारी मंत्रियों की अध्यक्षता में समितियों का गठन किया गया है। जिले के सभी विधायकों को समितियों में शामिल किया गया है और लाभार्थियों का चयन वरीयता के आधार पर किया जाएगा। मंत्री ने यह भी कहा कि अगले साल की शुरुआत में राज्य के सभी जिला व तालुक मुख्यालयों पर इंदिरा कैंटीन खोली जाएंगी।

शताब्दी भवन का निर्माण दिसम्बर से
बेंगलूरु. चामराजपेट में स्थित कन्नड़ साहित्य परिषद के शताब्दी भवन का निर्माण शीघ्र शुरू होगा। साहित्य परिषद के अध्यक्ष मनु बालिगार ने यह जानकारी दी।


शहर में गुरुवार को उन्होंने पत्रकारों को बताया की वर्ष 2014 में मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने इस भवन के लिए शिलान्यास किया था। निर्माण के लिए 2 करोड़ 50 लाख रुपए का आवंटन भी किया गया था। लेकिन कर्नाटक आवास निगम ने निर्माण शुरू नहीं किया। हाल में कन्नड़ साहित्य परिषद ने मुख्यमंत्री से संवाद किया है।

मुख्यमंत्री ने मैसूर साहित्य सम्मेलन के पश्चात दिसंबर के पहले या दूसरे सप्ताह में निर्माण कार्य शुरू करने का आश्वासन दिया है। लगभग 18 माह में इस भवन का निर्माण होगा। इस भवन के लिए राज्य सरकार अतिरिक्त 1 करोड़ 70 लाख रुपए अनुदान जारी करेगी। उन्होंने बताया कि तीन मंजिला भवन में कार्यालय, तीसरे माले में आधुनिक सभागार, पुुस्तकालय तथा 6 अतिथि गृहों का निर्माण किया जाएगा।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned