राजस्थान के 2,437 मजदूर अपने गांव रवाना

विजयपुरा जिला प्रशासन ने बेंगलूरु में मजदूरी कर रहे राजस्थानी मूल के कुल 2,437 मजदूरों के लिए बसों की व्यवस्था कर उन्हेंं उनके गांव लौटने की सुविधा उपलब्ध कराई।

By: Santosh kumar Pandey

Published: 29 Mar 2020, 08:53 PM IST

बेंगलूरु. विजयपुरा जिला प्रशासन ने बेंगलूरु में मजदूरी कर रहे राजस्थानी मूल के कुल २,४३७ मजदूरों के लिए बसों की व्यवस्था कर उन्हेंं उनके गांव लौटने की सुविधा उपलब्ध कराई।

पुलिस अधीक्षक अनुपम अग्रवाल ने पत्रिका को बताया कि कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए लॉकडाउन होने से कर्नाटक के कई शहरों में कार्यरत विभिन्न राज्यों के मजदूर परेशान थे। भोजन और रोजगार नहीं मिलने के कारण परेशान लोग ट्रकों और माल वाहक वाहनों के जरिए अपने गांवों को लौटने लगे। लेकिन कर्नाटक की सीमा पर स्थापित चेेक पोस्ट पर वाहनों को रोक कर आगे नहीं जाने नहीं दिया गया।

इन वाहनों में हजारों मजदूर सवार थे। इनकी हालत देख जिला प्रशासन ने सभी मजदूरों को कर्नाटक पश्चिम-पूर्व सड़क परिवहन निगम की बसों की व्यवस्था कर उन्हें उनके गांंव तक पहुंचाने का फैसला किया। उन्होंने कहा कि २,४३७ मजदूर राजस्थान के मूल निवासी हैं। भेजने से पहले इन सभी राजस्थानी मजदूरों के स्वास्थ्य की जांच की गई। इन मजदूरों को राजस्थान तक पहुंचाया जाएगा।

जिलाधिकारी वाई.एस.पाटिल ने सात अधिकारियों के एक दल के साथ इन मजदूरों को भेजा। सभी मजदूरों को अगले तीन दिनों के लिए भोजन, नाश्ते के पैकेट , पानी की बोतलें, बिस्कुट व अन्य जरूरी चीजें दी गई हैं। साथ में चार चिकित्सक और दस स्वास्थ्य कर्मचारी भी हैं। सभी मजदूरों ने जिला प्रशासन और सरकार को धन्यवाद दिया। घर वापसी के समय उनकी आंखें नम हो गईं थीं।

Corona virus
Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned