अपार्टमेंट के 28 निवासी निकले कोविड पॉजिटिव, अन्य की जांच जारी

- बोम्मनहल्ली में मिला कोरोना का एक और क्लस्टर (bommanahalli covid cluster)
- जेनेटिक सीक्वेंसिंग के लिए निम्हांस भेजे गए नमूने
- चंद दिनों में दूसरा मामला

By: Nikhil Kumar

Published: 17 Feb 2021, 11:30 AM IST

बेंगलूरु. राज्य में कोरोना संक्रमण के घटते मामलों के बीच पिछले एक सप्ताह में शहर में कोविड-19 के दो क्लस्टरों की पुष्टि ने प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की मुश्किलें बढ़ा दी है। सोमवार को बोम्मनहल्ली इलाके के एक आवासीय संकुल में 28 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई।

बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका (BBMP - बीबीएमपी) ने लोगों को चेताया है कि संक्रमण के मामलों में आई कमी का मतलब यह नहीं है कि कोरोना खत्म हो गया है। लोग मास्क लगाने के साथ ही सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करते रहें।

शहर के मंजुश्री नर्सिंग कॉलेज के 40 विद्यार्थियों के कोविड पॉजिटिव निकलने के दो दिन बाद एक और कोविड क्लस्टर सामने आया है। बिलेकहल्ली स्थित एक अपार्टमेंट के 28 निवासी संक्रमित निकले हैं। अपार्टमेंट के 435 फ्लैटों में 1500 लोग रहते हैं। जांचे गए 513 लोगों में से 28 में संक्रमण की पुष्टि हुई है। अन्य लोगों की जांच भी जारी है।

बीबीएमपी के आयुक्त एन. मंजुनाथ प्रसाद ने सोमवार को संवाददाता सम्मेलन में इसकी पुष्टि की। उन्होंने कहा कि करीब एक हजार और लोगों की जांच होनी है। छह जांच दल अपार्टमेंट परिसर में तैनात हैं। जेनेटिक सीक्वेंसिंग (Genetic sequencing - आनुवांशिक अनुक्रमण) के लिए संक्रमितों के नमूने राष्ट्रीय मानसिक आरोग्य व स्नायु विज्ञान संस्थान (NIMHANS - निम्हांस) भेजे गए हैं। मंजुनाथ ने कहा कि मंजुश्री नर्सिंग कॉलेज (Nursing College) के मामले में केरल से लौटे विद्यार्थियों से संक्रमण फैला। संक्रमित 40 विद्यार्थियों के करीब 200 प्राइमरी और सेकंडरी कॉन्टैक्ट्स की पहचान हुई है। अपार्टमेंट के मामले में कोरोना प्रोटोकॉल की अनदेखी हुई है।

पार्टी के बाद सामने आया पहला मामला
दरअसल, 6 फरवरी को अपार्टमेंट परिसर में एक पार्टी आयोजित हुई। पार्टी में शामिल 50-60 व्यक्तियों में से एक व्यक्ति की तबीयत कुछ दिन बाद बिगड़ गई। उसने खुद अस्पताल जाकर जांच कराई। 10 फरवरी को रिपोर्ट आई और संबंधित व्यक्ति पॉजिटिव निकला। अस्पताल प्रबंधन ने बीबीएमपी के अधिकारियों को भी इसकी जानकारी दी। संपर्क में आए लोगों की जांच शुरू हुई तो एक के बाद एक कई निवासी पॉजिटिव निकले।

घरेलू यात्रा तक का इतिहास नहीं
बीबीएमपी के संयुक्त आयुक्त एम. रामकृष्ण ने बताया कि 28 में से एक का भी घरेलू यात्रा तक का इतिहास नहीं है। सभी संक्रमित एसिंप्टोमेटिक हैं। ज्यादातर संक्रमित युवा हैं और इन्हें अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत नहीं पड़ी। अपार्टमेंट परिसर को सैनिटाइज कर सभी को होम क्वारंटाइन किया गया है। संपर्क में आए लोगों की पहचान और जांच जारी है।

कोविड निगेटिव प्रमाण-पत्र अनिवार्य
मंजुनाथ ने कहा कि कोविड सलाहकार समिति ने केरल से आने वाले सभी लोगों के लिए कोविड निगेटिव प्रमाणपत्र अनिवार्य करने की सलाह दी है। जो 72 घंटे से ज्यादा पुरानी नहीं होनी चाहिए। इसे जल्द अमल में लाएंगे। प्रमाणपत्र के अभाव में संबंधित व्यक्ति को निगेटिव रिपोर्ट आने तक क्वारंटाइन किया जाएगा। केरल से आने या वहां जाने पर रोक नहीं है। शिक्षण संस्थानों और कॉलेजों की जिम्मेदारी है कि नियमों का पालन करें। नहीं तो आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कार्रवाई होगी।

ड्यूटी पर लौटे मार्शल
उन्होंने कहा कि बीबीएमपी सख्ती से मास्क और सामाजिक दूरी नियमों का पालन सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है। इसकी जिम्मेदारी संभाले मार्शलों को फिर से ड्यूटी पर बुलाया गया है।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned