लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद राज्य में हो जाएंगे कांग्रेस के तीन टुकड़े

लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद राज्य में हो जाएंगे कांग्रेस के तीन टुकड़े

Shankar Sharma | Publish: May, 17 2019 11:40:18 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

भाजपा नेता एवं पूर्व मंत्री गोविंद कारजोल ने कहा है कि लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद कांग्रेस के तीन टुकड़े हो जाएंगे।

हुब्बल्ली. भाजपा नेता एवं पूर्व मंत्री गोविंद कारजोल ने कहा है कि लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद कांग्रेस के तीन टुकड़े हो जाएंगे। सिध्दरामय्या के नेतृत्व का एक दल, मल्लिकार्जुन खरगे व डॉ. जी. परमेश्वर के नेतृत्व का दल तथा आरवी देशपांडे व एमबी पाटील के नेतृत्व के दल के तौर पर विभाजित होना पक्का है।


शहर में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कारजोल ने कहा कि कांग्रेस नेताओं के बयान उस पार्टी के टुकड़े होने का संकेत हैं। कांग्रेस में मुख्यमंत्री पद के दावेदारों की संख्या दिन ब दिन बढ़ रही है। मुख्यमंत्री कुमारस्वामी को सत्ता चलाने का मौका नहीं दे रहे हैं। एसएम कृष्णा के उत्तराधिकारी के तौर पर पहचाने जाने वाले डीके शिवकुमार के अलावा आरवी देशपांडे, एमबी पाटील ने भी खुद को मुख्यमंत्री का दावेदार कहा है।

सिद्धरामय्या एक बार फिर से मुख्यमंत्री बनने की इच्छा अपने शिष्यों के जरिए जाहिर कर रहे हैं। दूसरी ओर दलित मुख्यमंत्री बनने की बात कहने वाले डॉ. जी परमेश्वर तथा वरिष्ठ राजनेता मल्लिकार्जुन खरगे भी मुख्यमंत्री की कुर्सी का सपना देख रहे हैं। मौका मिला तो मुख्यमंत्री बनने की चाहत एचडी रेवण्णा की भी है। विधानसभा चुनाव के लिए और चार वर्ष का समय होने पर भी नेता अभी से मुख्यमंत्री का सपना क्यों देख रहे हैं समझ में नहीं आ रहा है।

कारजोल ने कहा कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस वजद (ध) नेताओं ने आपस में एक दूसरे के पीठ पीछे छुरा घोंपा है। कार्यकाल पूरा करने को लेकर कांग्रेस विधायकों को संदेह सता रहा है। इसलिए कुछ लोग अपने राजनीतिक भविष्य की खातिर दूसरी पार्टियों की ओर देख रहे हैं। हम ऑपरेशन कमल नहीं करेंगे। विधायक खुद कांग्रेस से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल होंगे।


एच. विश्वनाथ के सिद्धरामय्या के बारे में दिए गए बयान को स्वीकार करना सिद्धरामय्या के समर्थकों को संभव नहीं हो पा रहा है। बेंगलूरु के भूमाफिया को समर्थन देने वाले सिद्धरामय्या खुद की तुलना देवराज अरस से कर रहे हैं जो सही नहीं है। एच. विश्वनाथ के बयान पर हमारी सहमति है।

उन्होंने कहा कि सांसद प्रहलाद जोशी तथा एसआई चिक्कनगौडर के बीच किसी प्रकार का कोई मतभेद नहीं है। केजेपी व भाजपा में भेदभाव नहीं है। सभी एकजुटता से पार्टी प्रत्याशी को जितवाएंगे। कारजोल ने कहा कि मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने यह बयान दिया है कि मल्लिकार्जुन खरगे को मुख्यमंत्री बनना चाहिए था। दलित को मुख्यमंत्री बनाने का इरादा है तो खुद मुख्यमंत्री का पद स्वीकार करने के बजाय खरगे को छोड़ देना चाहिए था। कांग्रेस-जद (ध) वाले दलित मुख्यमंत्री का नाटक कर रहे हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned