कोरोना : कर्नाटक में डबल म्यूटेंट वायरस के 42 और मामले

- एक सप्ताह में दूसरी बार हुई पुष्टि, 62 हुई संख्या

By: Nikhil Kumar

Published: 04 May 2021, 11:38 AM IST

बेंगलूरु. कोरोना की दूसरी लहर से बेहाल कर्नाटक में और 42 कोविड पॉजिटिव मरीजों के सैंपल में डबल म्यूटेंट कोरोना वायरस (बी.1.617) की पुष्टि हुई है। यह सार्स-कोव-2 का स्ट्रेन है। इसके साथ ही कुल मामलों की संख्या 62 पहुंच गई है। इससे पहले 27 अप्रेल को स्वास्थ्य विभाग ने 20 मामलों की पुष्टि की थी।

राष्ट्रीय मानसिक आरोग्य व स्नायु विज्ञान संस्थान (National Institute of Mental Health and Neurosciences - निम्हांस) ने इन सैंपलों की (genetic sequencing) जेनेटिक सीक्वेंसिंग (आनुवांशिक अनुक्रमण) की। नोडल अधिकारी (आनुवांशिक अनुक्रमण) डॉ. वी. रवि ने बताया कि सभी सैंपल अप्रेल में लिए गए थे। 42 में से ज्यादातर सैंपल बेंगलूरु से हैं।

डबल म्यूटेंट कोरोना वायरस (42 more samples test positive for double mutant corona virus in Karnataka) कई राज्यों में मिला है और तेजी से फैल रहा है। क्या यह वायरस ज्यादा संक्रामक या खतरनाक है सवाल के जवाब में डॉ. रवि ने कहा कि यूनाइटेड किंगडम और दक्षिण अफ्रीकी स्टे्रन ज्यादा संक्रामक हैं। भारत में मिले डबल म्यूटेंट वायरस पर शोध जारी है। डबल म्यूटेंट कोरोना वायरस ज्यादा संक्रामक है या नहीं यह तय करने के लिए फील्ड और लैब डेटा की जरूरत है और इस पर काम जारी है। दो-तीन सप्ताह में आंकड़े मिलने की उम्मीद है। लेकिन संक्रमितों की संख्या बढ़ी है।

कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) डबल म्यूटेंट कोरोना वायरस के खिलाफ कितनी प्रभावी होगी, सवाल पर डॉ. रवि ने कहा कि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (National Institute of Virology) ने कोवैक्सीन (covaxin) पर काम किया है। नतीजों के आधार पर कह सकते हैं कि कोवैक्सीन डबल म्यूटेंट के खिलाफ भी प्रभावी है। कोविशील्ड (covishield) पर कोई और संस्थान काम कर रहा है। करीब 10 दिनों में रिपोर्ट आने की संभावना है।

कर्नाटक कोविड टास्क फोर्स (Karnataka Covid Task Force) के सदस्य डॉ. यू. एस. विशाल राव ने बताया कि अनुमान के अनुसार डबल म्यूटेंट कोरोना वायरस मूल वायरस से 50 फीसदी ज्यादा संक्रामक और करीब 60 फीसदी ज्यादा खतरनाक है। राज्य में सोमवार तक यूनाइटेड किंगडम स्ट्रेन के 68 और दक्षिण अफ्रीकी स्ट्रेन के छह मामलों की पुष्टि हुई है।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned