52 विधायक पहली बार पहुंचे विधानसभा

52 विधायक पहली बार पहुंचे विधानसभा

Shankar Sharma | Publish: May, 18 2018 05:05:45 AM (IST) Bangalore, Karnataka, India

पंद्रहवीं विधानसभा में इस बार 52 नए विधायक हैं जो पहली बार जीते हैं, वहीं 92 विधायकों ने लगातार दूसरी बार जीत हासिल की है।

बेंगलूरु. पंद्रहवीं विधानसभा में इस बार 52 नए विधायक हैं जो पहली बार जीते हैं, वहीं 92 विधायकों ने लगातार दूसरी बार जीत हासिल की है। एक ओर जहां सिद्धरामय्या मंत्रिमंडल के 16 मंत्रियों को हार का सामना करना पड़ा, वहीं कई ऐसे चेहरे रहे जिन्होंने लगातार पांचवीं और छठी बार चुनाव जीतकर अपनी लोकप्रियता साबित की है। 222 सीटों के लिए हुए चुनाव में भाजपा को 104 सीटों पर जीत मिली है और पार्टी के 22 विधायक ऐसे हैं, जो पहली बार चुनाव जीतने में सफल रहे।

वहीं 78 सीटों पर जीतने वाली कांग्रेस के 18 विधायक पहली बार विधानसभा पहुंचे हैं जबकि ३७ विधायकों वाले जनता दल (ध) के8 विधायक पहली बार निर्वाचित हुए हैं। इसके अतिरिक्त बसपा के एन. महेश और कर्नाटक प्रजावंता जनता पार्टी के आर. शंकर सहित निर्दलीय एच. नागेश भी पहली बार विधायक बने हैं।

इसमें शंकर ने रानेबेन्नूर से कांगे्रस के दिग्गज केबी कोलीवाड को हाराया है जो पिछली विधानसभा में स्पीकर थे। इस बार विभिन्न विधानसभा सीटों से २१९ महिला उम्मीदवार मैदान में थीं लेकिन मात्र ७ महिलाएं भी जीत हासिल करने में सफल रहीं। इनमें चार महिला विधायक कांग्रेस से जबकि तीन भाजपा से हैं। जद (ध) से कोई भी महिला चुनाव नहीं जीत पाई।

५ विप सदस्य भी जीते
विधानसभा चुनाव में 11 विधान परिषद सदस्यों में से 5 विप के सदस्यों ने जीत हासिल की और विधानसभा सदस्य बन गए हैं। चुनाव जीतने वाले विधान परिषद के सदस्यों की सूची में भाजपा के के.एस.ईश्वरप्पा, (शिवमोग्गा) वी.सोमण्णा (गोविंदराज नगर) बसवराज पाटिल यत्नाल (विजयपुर शहर), कांग्रेस के जी.परमेश्वर (कोरटगेरे) तथा बैरती सुरेश (हेब्बाल) शामिल हैं। इनमें से बैरती सुरेश के अलावा बाकी के चार विधान परिषद सदस्यों का कार्यकाल शेष होने से उन सीटों पर उपचुनाव होने की संभावना है। परमेश्वर तथा सोमण्णा का कार्यकाल 30 जून 2020 तक है। बसवराज पाटिल यत्नाल का कार्यकाल 14 जून 2022 तक है।


तीन लोस उपचुनाव की संभावना
शिवमोग्गा, बल्लारी तथा मंड्या इन तीन लोकसभा क्षेत्रों के लिए आने वाले दिनों में उपचुनाव किए जाने की संभावना है। शिवमोग्गा क्षेत्र के सांसद मुख्यमंत्री बीएस येड्डियूरप्पा ने इसी जिले के शिकारीपुरा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीता है। इसलिए उनको शिवमोग्गा लोकसभा की सदस्यता से त्यागपत्र देना होगा। ऐसी ही स्थिति बल्लारी लोकसभा क्षेत्र के सांसद श्रीरामुलु तथा मंड्या लोकसभा क्षेत्र के सांसद सी.एस.पुट्टराजू की है। इन दोनों ने हाल में संपन्न विधानसभा चुनाव में क्रमश: चित्रदुर्गा जिले के मोलकालमुरु तथा मंडया जिले के मेलुकोटे विधानसभा क्षेत्र से जीत हासिल की है।

Ad Block is Banned