आचार्य भिक्षु ने मर्यादा पालन की चेतना जगाई: साध्वी कंचनप्रभा

  • तेरापंथ का मर्यादा महोत्सव

By: Santosh kumar Pandey

Updated: 20 Feb 2021, 02:46 PM IST

बेंगलूरु. राजराजेश्वरी नगर में तेरापंथ के मर्यादा महोत्सव का आयोजन किया गया।

साध्वी कंचनप्रभा ने कहा कि सम्यकत्व के बिना चारित्र नहीं होता। आचार्य भिक्षु ने मर्यादा बांधी और उसका पालन करने की चेतना जगाई। साध्वी लावण्यश्री ने कहा कि गुरुदेव तुलसी ने योगक्षेम वर्ष में एक-एक साधू-साध्विी को अनुशासन की डोर में कसकर शासन में अनुशासन की नींव को सुदृढ़ बनाया।

साध्वी अणिमाश्री ने कहा कि मजबूत संगठन का आधार दूरदर्शिता है। साध्वी उज्जवल प्रभा ने कहा कि सेवा का अर्थ है लगाव या जुड़ाव। सेवा करना हमारा फर्ज है। सेवा वही व्यक्ति कर सकता है जिसमें आत्मीयता का भाव हो।

साध्वी डॉ मंगल प्रज्ञा ने कहा कि तेरापंथ धर्मसंघ आध्यात्मिक धर्मसंघ है। आचार्य भिक्षु की व्यवस्था बेजोड़ थी।
सभी साध्वियों ने सामूहिक गीतिका के माध्यम से मर्यादा और अनुशासन का महत्व बताया।
राजराजेश्वरी नगर सभा अध्यक्ष मनोज डागा, संस्थापक अध्यक्ष कमल सिंह दुगड़, तेयुप अध्यक्ष नरेश बांठिया, महिला मंडल अध्यक्ष सरोज आर बैद ने सभी साध्वियों के प्रति कृतज्ञता जताई एवं स्वागत किया।

महासभा सहमंत्री प्रकाश लोढ़ा, आभातेयुप पूर्व अध्यक्ष विमल कटारिया, कोषाध्यक्ष दिनेश पोखरणा, अभातेममं पूर्व मंत्री वीणा बैद, गांधीनगर सभा अध्यक्ष सुरेश दक, विजयनगर सभा अध्यक्ष राजेश चावत, यशवंतपुर वरिष्ठ उपाध्यक्ष गौतम मुथा, हनुमंतनगर उपाध्यक्ष प्रकाश देरासरिया, टी दासरहल्ली मंत्री कन्हैयालाल गांधी, टीपीएप अध्यक्ष लक्ष्मीपत मालू ने भाव व्यक्त किए।
तेयुप एवं महिला मंडल ने गीतिका का संगान किया। संचालन सभा मंत्री विक्रम महेर ने किया।

साध्वी कंचनप्रभा का चातुर्मास राजराजेश्वरी नगर में
रायपुर से आचार्य ने साध्वी कंचनप्रभा ठाणा-5 का वर्ष 2021 का चातुर्मास राजराजेश्वरी नगर को प्रदान किया, जिससे क्षेत्र में खुशी की लहर व्याप्त हो गई।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned