scriptउत्तम मार्गदर्शक थे आचार्य जयंतसेनसूरी: गांधीमुथा | Patrika News
बैंगलोर

उत्तम मार्गदर्शक थे आचार्य जयंतसेनसूरी: गांधीमुथा

मासिक तिथि पर पढ़ाई अष्टप्रकारी पूजा

बैंगलोरJun 28, 2024 / 04:52 pm

Santosh kumar Pandey

rajendra

{“remix_data”:[],”remix_entry_point”:”challenges”,”source_tags”:[],”origin”:”unknown”,”total_draw_time”:0,”total_draw_actions”:0,”layers_used”:0,”brushes_used”:0,”photos_added”:0,”total_editor_actions”:{},”tools_used”:{“ai_enhance”:1,”transform”:1,”beautify”:1},”is_sticker”:false,”edited_since_last_sticker_save”:true,”containsFTESticker”:false}

बेंगलूरु. मुनिसुव्रत राजेन्द्र जैन श्वेताम्बर मंदिर ट्रस्ट के तत्वावधान में अखिल भारतीय राजेन्द्र महिला परिषद शाखा बेंगलूरु की ओर से आचार्य जयंतसेनसूरीश्वर की 86वीं मासिक पुण्य सप्तमी के अवसर पर जयंतसेनसूरीअष्टप्रकारी पूजा पढ़ाई गई। इस दौरान संगीतमय धुन व गुरुदेव पर आधारित भजनों पर श्रद्धालु झूम उठे ।
इस अवसर पर महिला परिषद की राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रेमादेवी गांधीमुथा ने कहा कि आचार्य करुणा की प्रतिमूर्ति व उत्तम मार्गदर्शक थे। परिषद के राष्ट्रीय संरक्षक प्रकाश हिराणी ने कहा कि आचार्य की निश्रा में दो सौ दीक्षाएं हुईं। उन्होंने कुल 200 से अधिक अंजनशलाका प्रतिष्ठा करवाई । 250 से अधिक गुरु मंदिरों की स्थापना व 36 से अधिक वैयावच्च धाम बनाने की प्रेरणा दी।
महिला परिषद की कई सदस्य उपस्थित रहीं। लाभार्थी जयंतीदेवी अमृतलाल संघवी परिवार रहे।

Hindi News/ Bangalore / उत्तम मार्गदर्शक थे आचार्य जयंतसेनसूरी: गांधीमुथा

ट्रेंडिंग वीडियो