बेंगलूरु में चार निजी अस्पतालों के खिलाफ मामले दर्ज

आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत फौजदारी मुकदमा दायर ।

By: Nikhil Kumar

Updated: 01 Aug 2020, 12:50 AM IST

बेंगलूरु. बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका (बीबीएमपी) ने कोरोना संक्रमितों को पचास फीसदी बिस्तर आरक्षित नहीं रखने पर चार निजी अस्पतालों के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत फौजदारी मुकदमा दायर किया है।

पालिका के आयुक्त एन. मंजुनाथ प्रसाद ने शुक्रवार को यह जानकारी दी और कहा कि पालिका ने शहर के प्रसिद्ध सेन्ट माक्र्स, रंगा दौरे, शिफा और फोर्टिस अस्पताल के खिलाफ मामले दर्ज किए गए हैं। दक्षिण क्षेत्र के 19 निजी अस्पतालों में संक्रमितों को बिस्तर नहीं दिए जाने का पता चला है। चार अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई होगी। अन्य निजी अस्पतालों को भी नोटिस जारी कर कार्रवाई की जाएगी। नागरिकों ने अस्पतालों को केवल चेतावनी देने पर नाराजगी जताई थी। मुख्यमंत्री ने उन्हें अधिकारों का इस्तेमाल कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया था।

सार्वजनिक गणेश उत्सव नहीं

उन्होंने कहा कि शहर में करोना के बढऩे के कारण पालिका ने सार्वजनिक क्षेत्रों में गणेश मूर्तियों को स्थापित करने की अनुमति देने से इनकार किया है। पालिका के आदेश का उल्लंघन कर मूति स्थापित की तो आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत मामला दर्ज होगा। केवल घरों में ही मूर्तियों को स्थापित किया जा सकता है। पर्यावरण हितैषी मूर्तियों की ही बिक्री होगी। पालिका के जरिए निर्मित टैंकों में ही मूर्तियों को विसर्जन करना होगा।

स्वतंत्रता दिवस सादगी से मनेगा

उन्होंने कहा कि सरकार के निर्देश पर इस बार स्वतंत्रता दिवस भी सादगी से मनाया जाएगा। किसी भी तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं होंगे। 15, अगस्त की सुबह नौ बजे मुख्यमंत्री मानेक शाह परेड मैदान में ध्वजारोहण करेंगे। कार्यक्रम में आम नागरिकों नहीं बुलाया जाएगा। केवल 25 कोरोना वारियर्स और 25 कोरोना मुक्त लोगों को प्रवेश मिलेगा। वरिष्ठ नागरिक और जनप्रतिनिधि भाग लेंगे। इस बार हेलिकॉप्टर से फूल नहीं बरसाए जाएंगे। सलामी परेड और फ्लैग मार्च रद्द कर दिया गया है। सामाजिक अंतर रखते हुए पुलिस कर्मचारी गॉड ऑफ ऑनर देंगे। कार्यक्रम में केवल 200 लोगों को प्रवेश मिलेगा।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned