आयकर छापे से जद-एस का फायदा : रेवण्णा

लोक निर्माण मंत्री एचडी रेवण्णा ने दावा किया है कि आयकर विभाग का छापा राजनीति से प्रेरित है। इससे जद-एस को लोकसभा चुनाव में फायदा ही होगा।

By: शंकर शर्मा

Published: 29 Mar 2019, 01:48 AM IST

हासन. लोक निर्माण मंत्री एचडी रेवण्णा ने दावा किया है कि आयकर विभाग का छापा राजनीति से प्रेरित है। इससे जद-एस को लोकसभा चुनाव में फायदा ही होगा। उन्होंने कहा कि वे छापे के विरोध में नहीं हैं। आय कर की चोरी हुई है तो आयकर विभाग अपना काम करेगा। ऐसे छापों से डरने की जरूरत नहीं है। रेवण्णा ने आरोप लगाया कि आय कर के एक वरिष्ठ अधिकारी भाजपा के एजेंट की तरह काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि ठेकेदारों में एक रायगौड़ा पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या का करीबी सहयोगी रहा है। जबकि अश्वथ उसका रिश्तेदार है। रेवण्णा ने कहा कि मंड्या लोकसभा क्षेत्र की निर्दलीय उम्मीदवार सुमालता प्रतिद्वंद्वी निखिल गौड़ा की बढ़ती लोकप्रियता को पचा नहीं पा रही हैं। हाल ही में सुमालता ने चुनाव आयोग से संपर्क किया था, जिसके बाद छापा पड़ा।

उकसा रहे गठबंधन के नेता: येड्डि
बेंगलूरु. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येड्डियूरप्पा ने आरोप लगाया कि आयकर छापों के खिलाफ धरना देना व विरोध प्रदर्शन करना लोगों को कानून हाथ में लेने के लिए उकसाने के समान है। आयकर कार्यालय के सामने गठबंधन के नेताओं धरना देना शरारतपूर्ण चाल है। आयकर विभाग के अधिकारियों के खिलाफ मुख्यमंत्री के बोलने का अंदाज सरकारी एजेंसी को दी गई सीधी धमकी है।

यह समझने की जरूरत है कि आयकर छाप कभी रातोरात या किसी के कहने पर नहीं डाले जाते हैं। येड्डियूरप्पा ने कहा कि दोनों दलों के नेताओं के दावे के विपरीत पूर्व में भाजपा सांसद सिद्धेश्वर, विधायक अश्वथनारायण के अलावा एसएम कृष्णा के परिचितों पर भी आयकर छापे पड़ चुके हैं। भाजपा के पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है, वह ऐसे मसलों में पार्टी के किसी भी नेता का भी बचाव नहीं करती है।

कैब चालक ने खोली छापेमारी की पोल
बेंगलूरु. बुधवार रात शुरू हुई आयकर छापेमारी के कुछ घंटे पहले ही मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने मीडिया के सामने खुलासा किया था कि गुरुवार को उनके दल नेताओं और समर्थकों के यहां आयकर छापेमारी होगी। कुमारस्वामी के इस बयान से ऐसा लगा कि वे राजनीतिक प्रतिद्वंद्विता में यह बोल रहे हैं।

हालांकि बाद में जब बुधवार रात ही आयकर विभाग ने कई जगहों पर छापेमारी की तब स्पष्ट हो गया कि कुमारस्वामी को इसकी पुख्ता सूचना पहले ही मिल चुकी थी। आयकर विभाग की कार्रवाई बेहद गुप्त तरीके से होती है और कई बार विभाग के अधिकारियों को भी अंतिम समय तक इसका पता नहीं चलता है। ऐसे में कुमारस्वामी के पास पुख्ता सूचना कहां से लीक हुई, यह सबके लिए चौंकाने वाला विषय रहा। सूत्रों के अनुसार कुमारस्वामी के एक समर्थक कैब चालक ने एक ग्राहक की गतिविधियों पर संदेह किया और उसी ने कुमारस्वामी तक आयकर छापेमारी होने की सूचना पहुंचाई। बेंगलूरु में काम करने वाले नागमंगला तालुक के एक अज्ञात चालक को जब पता चला कि एक ग्राहक ने दर्जनों कैब बुक कराए हैं और उनका गंतव्य मंड्या, हासन, मैसूरु जिले हैं, तब उसे संदेह हुआ कि यह जद-एस के खिलाफ कोई कार्रवाई हो सकती है।

जद-एस का समर्थक होने के कारण उसे नागमंगला तालुक के पार्टी नेताओं को इसकी सूचना दी। नागमंगला तालुक की एक महिला जद-एस नेता ने तुरंत इसकी सूचना जिला प्रभारी मंत्री सीएस पुट्टराजू को दी। महिला का ऑडियो सोशल मीडिया पर भी चल रहा है, जिसमें वह चालक से मिली सूचना के बारे में बात कर रही है। पुट्टराजू ने कुमारस्वामी को आयकर विभाग की संभावित छापेमारी से अवगत कराया, जिसके बाद कुमारस्वामी ने मीडिया में बयान दिया।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned